राष्ट्रभक्ति के निर्माण का साधन बनें स्वयंसेवक

उदयपुर:  राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की अखिल भारतीय कार्यकारिणी के सदस्य सुरेश ‘भय्याजी’ जोशी ने कहा कि देशभक्ति सिर्फ विचार-विमर्श और बुद्धि के विलास का विषय नहीं है। यह आचरण का विषय है. व्यक्ति के आचरण में जब देशहित का भाव निहित होगा, तब देशभक्ति के आचरण से ओतप्रोत समाज का निर्माण होगा और आज समाज में इसी परिवर्तन की आवश्यकता है।स्वयंसेवक अपने जीवन की ऊर्जा को इस परिवर्तन का साधन बनाएं। देशभक्ति के आचरण से प्रतिबद्ध शक्ति ही देश के उत्थान का मार्ग प्रशस्त करती है।
उन्होंने युगाब्द 5124 के आरंभ के अवसर पर श्रीमद भगवद गीता का उद्धरण प्रस्तुत करते हुए कहा कि भगवान कृष्ण कहते हैं कि उन्हें सर्वाधिक प्रिय वह नहीं है जो धर्म समझता है, वह भी नहीं है जो धर्म को समझाना जानता है, बल्कि सर्वाधिक प्रिय वह है जो धर्म को अपने आचरण में धारण करता है।

आपकी प्रतिक्रिया...