आईना झूठ न बोले

Continue Readingआईना झूठ न बोले

मैं आईना...वैसे मेरा और आपका रिश्ता तो सदियों पुराना है। मुझे देखे बिना आपका एक दिन भी गुजरता नहीं, और मुझ से बातें किए बिना आपको चैन भी नहीं पड़ता। तो अगर कभी श्रृंगार में कोई कमीं रह जाए तो खरी-खोटी मुझे ही सुननी पड़ती है, और कभी आप अति सुंदर लगें तो डिठूला कभी-कभी आपके साथ मुझे भी लग जाता है। तो ऐसा है हमारा रिश्ता सदियों पुराना। आज इसी रिश्ते की एक कहानी सुनाने जा रहा हूं... मेरी और उसकी कहानी...

बदलता हुआ शॉपिंग ट्रेंड

Continue Readingबदलता हुआ शॉपिंग ट्रेंड

ऑनलाइन शॉपिंग आज की दौड़ती जिंदगी की एक जरूरत बन गई है। इसके कई फायदे और कुछ नुकसान भी हैं, लेकिन यदि सावधानी बरती जाए, तो यह एक सुखद अनुभव भी हो सकता है। अत: सावधान रहें और खरीदारी का खूब आनंद लें। कल ही मेरी एक सहेली का फोन आया। कह रही थी, ‘क्या बात है बड़े दिन हुए हम गंजीपुरा नहीं गए खरीददारी करने, कब चलोगी?’ मैंने कहा, ‘हां भई दिवाली है अब तो जाना बनता ही है, चलो दो तीन दिन में हो आते हैं’ और हमने फोन रख दिया। लेकिन फोन रखने के बाद मैं सोच में पड़ गई। कुछ साल पूर्व हर त्यौहार क

पेड़-पौधे सुंदर घर की पहचान

Continue Readingपेड़-पौधे सुंदर घर की पहचान

वैसे तो हर कोई चाहता है कि, उसका घर सुंदर लगे, और आने  जाने वालों के लिए मिसाल बने| लेकिन घर को सुंदर सजा संवार कर रखना कोई आसान बात तो नहीं| आजकल कोई फेंगशुई के सामान से घर को सजाता है, तो कोई चायनीज सजावटी सामान से| कोई मिट्टी के बर्तनों से तो कोई विविध कांच के झूमर और शो पीस से|

सोशल मीडिया का मसखरा मिजाज

Continue Readingसोशल मीडिया का मसखरा मिजाज

जबसे यह व्हाट्सएप आया है, दुनिया में होने वाली हर घटना       पर कोई ना कोई विनोद, कोई ना कोई जोक सामने आता ही है| वैसे तो दुनिया में कितनी भी बड़ी घटना क्यूं ना हो जाए, कुछ खुशमिजाज लोग हर हाल में ही खुश रहते हैं, और अपने तरह-तरह के जोक्स से दुनिया को भी खुश रखने का काम करते हैं|

लो आ गई स्टाइलिश ठंड

Continue Readingलो आ गई स्टाइलिश ठंड

      ठंड आते ही धूप सुनहरी लगने लगती है। कुनकुना पानी नहाते समय आरामदायक लगता है, और रात को सोते वक्त रजाई हमारी सबसे अच्छी सहेली बन जाती है। लेकिन इन सब के अलावा ठंड में सुंदर दिखने के लिए हमारे पास ढेरों तरीके भी उपलब्ध हो जा

फैशन की शुरुआत गांवों से…

Continue Readingफैशन की शुरुआत गांवों से…

गांव की मिट्टी की खुशबू कौन भूल सकता है भला? गांवों की बात ही निराली होती है। चाहे वह मिट्टी की सौंधी खुशबू हो, या फिर गांव की बोली, या वहां का पहनावा। वैसे भारत जैसे कृषि प्रधान देश में गांवों की संख्या भी अधिक है। हर गांव का रंग एक दूसरे से अलग और निर

त्यौहार सिर्फ त्यौहार नहीं

Continue Readingत्यौहार सिर्फ त्यौहार नहीं

त्यौहार केवल सुंदर कपड़े पहन कर सेल्फी खींचना नहीं। अपनी परंपराओं को केवल सोशल मीडिया तक सीमित रखना नहीं तो त्यौहार सभी के साथ मिलकर मनाना, सबके बारे में सोचना है।

सोशल मीडिया का बढ़ता शिकंजा

Continue Readingसोशल मीडिया का बढ़ता शिकंजा

सम्पूर्ण सतर्कता, सावधानी और सोशल मीडिया का ज्ञान हो तो सोशल मीडिया के माध्यम से बड़-बड़े कार्य करना भी संभव है। केवल तय यह करना है, कि इस शिकंजे में फंसते चले जाना है या सोशल मीडिया का नया जाल खुद के हाथ से बुनना है।

छोड़ आए हम वो गलियां

Continue Readingछोड़ आए हम वो गलियां

बारिश के साथ ही स्कूल-कॉलेजों का नया सत्र शुरू होता है। छात्रों के समक्ष नया परिवेश, नया शहर, नई समस्याएं सब कुछ नया ही होता है। घर के सुरक्षित माहौल से शहर में आए छात्र इससे सकपका जाते हैं। कई नई अनकही समस्याओं से दो-चार होना पड़ता है। ऐसे में आत्मविश्वास के साथ स्थिति का सामना करें तो नए जीवन का सफर आसान हो जाता है।

वेब चैनल्स कि मनोरंजक दुनिया

Continue Readingवेब चैनल्स कि मनोरंजक दुनिया

मनोरंजन और हम मनुष्यों का नाता बहुत ही पुराना है। प्राचीन काल में नाटक और नृत्य नाटिकाओं से लेकर टेलीविजन आने के बाद धारावाहिकों तक मनोरंजन के अनेक साधन मनुष्य के पास रहे हैं। मनोरंजन के बिना जीवन है ही क्या? समय बदला और समय के साथ मनोरंजन के साधन भी बदले। आज मनोरंजन की आभासी दुनिया का प्रमुख साधन है इंटरनेट। जिस प्रकार टी.वी. पर अनेक चैनल और उन चैनलों पर अनेक धारावाहिक आते हैं, उसी प्रकार आज इंटरनेट पर भी अनेक वेब चैनल्स उपलब्ध हैं।

गुरु ही मित्र, गुरु ही सखा…

Continue Readingगुरु ही मित्र, गुरु ही सखा…

सर : अरे अनिल कैसे हो ? तुम्हारी नई गाड़ी तो बहुत ही अच्छी है। अनिल : अरे धन्यवाद सर जी, आपने सलाह दी तभी मैंन गाड़ी ली है। सर : अरे अनिल! आगे भी जब भी जरूरत हो बोलना जरूर। अनिल : जरूर सर। आश्चर्य होगा आपको। यह संवाद दो दोस्तों के बीच न होकर शिक्षक और छात्र के बीच हो रहा है। गुरु और शिष्य की एक विशिष्ट छवि हमारे दिमाग में सालों से बसी हुई है. परन्तु समय के साथ इस छवि में कई बदलाव आए हैं। गुरु ही मित्र गुरु ही सखा है,

End of content

No more pages to load