शरिया अदालतें: धार्मिक राज्य स्थापित करने का षड्यंत्र

Continue Reading शरिया अदालतें: धार्मिक राज्य स्थापित करने का षड्यंत्र

मुस्लिमों में भी बहुत सारे अंतर्विरोध और पंथ हैं। वे अपने-अपने से कुरान और शरियत को परिभाषित करते हैं। इस स्थिति में पर्सनल लॉ बोर्ड की अलग शरियत अदालतें गठित करने की मांग न केवल मुस्लिमों को और विभाजित कर देगी; बल्कि देश के संविधान और धर्मनिरपेक्षता की भी ऐसीतैसी कर देगी।

इस्लाम में स्वर्ग और नरक

Continue Reading इस्लाम में स्वर्ग और नरक

मुहम्मद पैगंबर की तरह प्रत्येक धर्म संस्थापकों ने मनुष्य के पारलौकिक जीवन और स्वर्ग-नरक की संकल्पनाओं को रचा है। शायद उसका लक्ष्य केवल इतना ही था कि जनसाधारण सन्मार्ग पर चलें और दुष्कृत्यों से दूर रहें। आज की कसौटी तो यही है कि मानवता, आपस में भाईचारा और सहिष्णुता कायम करने से पृथ्वी पर ही स्वर्ग आ जाएगा। हजारो वर्षों पूर्व से ही प्रत्येक धर्म में मानव के मरणोत्तर अस्तित्व एवं उसके पारलौकिक जीवन के विषय में विविध मत रहे हैं एवं आज भी हैं। इसके अनुसार जीवितावस्था में जिसका जैसा व्यवहार हो उसे उसी के अनु

वेंडी ने रामायण को विकृत किया

Continue Reading वेंडी ने रामायण को विकृत किया

‘द हिंदुज: ऐन आल्टरनेटिव हिस्ट्री’ नामक पुस्तक में अंग्रेज लेखिका वेंडी डोनिगर ने नौ क्रमांक का एक पूरा अध्याय महान महाकाव्य रामायण को समर्पित किया है। इस अध्याय का शीर्षक है, ’थेाशप रपव जसीशीीशी ळप ठरारूरपर: 400 इउए ीें 200 उए’ अर्थात रामायण में महिलाएं और राक्षसियां : ईसवी सन पूर्व 400 से ईसवी सन 200।

नियति के शिकंजे में अफगानिस्तान

Continue Reading नियति के शिकंजे में अफगानिस्तान

अफगानिस्तान किसी जमाने में भारत का ही अंग था। भारतीय और अफगानी जनता में मैत्रीभाव था। अफगानिस्तान के सुदूर इलाकों तक हिंदुओं के व्यवहार थे। इसे ध्यान में रखकर अफगानिस्तान को फिर करीब लाने की चुनौती भारत के समक्ष है।

कांग्रेस की मुस्लिमों के साथ धोखेबाजी

Continue Reading कांग्रेस की मुस्लिमों के साथ धोखेबाजी

स्वाधीनता के पहले मुस्लिमों के सहयोग के बिना स्वाधीनता मिल नहीं सकती, इस धारणा का भूत कांग्रेस पर सवार था। परिणाम यह हुआ कि कांग्रेस मुस्लिमों और बै. जिन्ना की लगातार की जा रही मांगों के पीछे मानो घसीटते चली गई और आखिर देश का विभाजन मजबूरन स्वीकार किया।

कश्मीरी मन

Continue Reading कश्मीरी मन

अफजल गुरू की फांसी के बाद कश्मीर से जो प्रतिक्रियाएं आ रही हैं उनमें काफी विरोधाभास है। राजनेता कुछ कह रहे हैं और वास्तविक परिस्थिति कुछ और है। इस लेख के माध्यम से हमने वहां की परिस्थतियों को आपके सामने रखा है। इस लेख पर हमें आपकी प्रतिक्रियाएं अपेक्षित हैं।

आंतकी का अन्त

Continue Reading आंतकी का अन्त

आखिरकर महाराष्ट्र शासनने, बडी गोपनीयता रखते हुये 26/11 का नृशंस आतंकी अजमल आमिर कसाब को सुबह 7.30 बजे येवरडा जेल मे दि. 21/11 को फांसी पे लटका दिया।

अमरीका पाकिस्तान के बनते बिगड़ते रिश्ते

Continue Reading अमरीका पाकिस्तान के बनते बिगड़ते रिश्ते

भारत की सवार्ंगीण विकास में रुकावट डालने के उद्देश्य से अमरिका ने पाकिस्तान को अत्याधुनिक शस्त्रास्त्रों से सुसज्ज करने की नीति अपनायी। पाकिस्तान से हो सकने वाले दु:साहपूर्ण युद्ध के विरोध में तैयार रहने के लिए भारत को भी भारी मात्रा में रक्षा सामग्री जुटाने की आवश्यकता हुई।

असम की गांठ और कांग्रेस को लपेट!

Continue Reading असम की गांठ और कांग्रेस को लपेट!

असम में फिर से अशांति का माहौल है। कोकराझार और धुबरी जिलों में स्थानीय बोडोे और बांग्लादेशी घुसपैठियों के बीच सुलगे दंगे में लगभग 60 लोगों की हत्या की गई। लंबा अरसा बीतने पर भी उसको काबू में लाया नहीं लाया गया।

ओसामा के खात्मे के बाद

Continue Reading ओसामा के खात्मे के बाद

1 मई 2011 यह दिन भी 9/11 या 26/11 जैसा सब के ध्यान में रहने वाला साबित होगा। वैसे वह पहले भी था ही। उस दिन रूस में साम्यवादी क्रांति होकर जारशाही नष्ट हो गई थी और मजदूरों के नेता कहे जाने वाले (जो पहले क्रांतिकारियों के नेता और बाद में क्रूर कर्मा साबित हुए) लेनिन, स्तालिन आदि का राज आया।

End of content

No more pages to load