पल्लू रस्म

Continue Reading पल्लू रस्म

यह बात विचारणीय है कि पिता के मरने पर यदि बेटे के सिर पर पगड़ी बांधी जाती है, तो सास के बाद उसकी बहू के सिर पर पल्लू क्यों नहीं रखा जाता? शर्माजी के गांव वालों ने एक रास्ता दिखाया है। इस पर विचार होना चाहिए।

कांग्रेस मुक्त भारत दल

Continue Reading कांग्रेस मुक्त भारत दल

‘कांग्रेस मुक्त भारत दल’ की संचालन समिति वाले कई बार वहां गए, पर राहुल बाबा से भेंट नहीं हुई। इससे उनका निश्चय और द़ृढ़ हो गया कि जब बाबा देश को ‘कांग्रेस से मुक्त’ कराने में इतनी रुचि ले रहे हैं, तो चाहे एक महीना लगे या एक साल, पर अध्यक्ष हम उन्हें ही बनाएंगे, किसी और को नहीं।

रंज लीडर को बहुत है मगर …….

Continue Reading रंज लीडर को बहुत है मगर …….

 किसी राजनीतिक विश्लेषक ने कहा है कि दिल्ली का रास्ता लखनऊ से होकर जाता है; पर काफी समय से कांग्रेस के लिए लखनऊ के ही रास्ते बंद हैं। ऐसे में अपने बलबूते पर वह दिल्ली कैसे पहुंचे? जीवन-मरण जैसा यह बड़ा प्रश्न मैडम जी के सामने है। वे कई साल से कोशिश में हैं कि राहुल बाबा थोड़ा संभल जाएं और कुछ समझ जाएं; पर जो समझ जाए, वह पप्पू कैसा?

लाल और नीली कटोरी

Continue Reading लाल और नीली कटोरी

“कन्हैया जैसे नेता धूमकेतु की तरह होते हैं, जो कुछ समय तक आकाश में अपनी चमक बिखेर कर लुप्त हो जाते हैं। इसलिए लाल और नीले के मिलन के सपने देखना छोड़ कर उसे अपनी पढ़ाई और राजनीतिक भविष्य की चिंता करनी चाहिए।”

कोड नंबर का जंजाल

Continue Reading कोड नंबर का जंजाल

ब चपन में एक कहानी पढ़ी थी। एक व्यापारी औरअध्यापक यात्रा कर रहे थे। रास्ते में जंगल भी थे और सुनसान गांव भी। व्यापारी ने समय काटने के लिए अध्यापक से बात करनी चाही। उसने कहा कि एक बात के सौ रुपये लगेंगे। व्यापारी कहीं से अच्छे-खासे नोट कमाकर ला रहा था। जेब गरम होने के कारण उसने अध्यापक के हाथ पर सौ रुपये रख दिए।

मुसीबत और परेशानी

Continue Reading मुसीबत और परेशानी

किसी कवि ने लिखा है - दुनिया में आदमी को मुसीबत कहां नहीं वो कौन सी जमीं है जहां आसमां नहीं॥ न पंक्तियों पर अपनी अमूल्य टिप्पणी देने से पहले मैंयह कहना चाहूंगा कि मुसीबत और परेशानी के बीच एक छोटा सा अंतर है। कोई मुसीबत को भी परेशानी

तस्मै श्री गुरवे नमः

Continue Reading तस्मै श्री गुरवे नमः

भारतीय जीवन परंपरावादी है। हमारे ऋषि-मुनियों ने बहुत सोच-विचार कर, ज्ञान-विज्ञान और समय की कसौटी पर सौ प्रतिशत कस कर कुछ परंपराओं का निर्माण किया।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और वर्तमान चुनाव

Continue Reading राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और वर्तमान चुनाव

दो महीने के शोर और संघर्ष के बाद लोकसभा चुनाव के परिणाम आ गये हैं। दिल्ली में नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में देशभक्तों की सशक्त सरकार बनने जा रही है।

युवराज लीला

Continue Reading युवराज लीला

दिल्ली में केजरी ‘आपा’ के नेतृत्व में ‘झाड़ू वाले हाथ’ की सरकार बनी, तो ‘मोदी रोको’ अभियान में लगे लोगों की बांछें खिल गयीं। राहुल बाबा की खुशी तो छिपाये नहीं छिप रही थी।

मनमोहन सिंह ‘मजबूर’

Continue Reading मनमोहन सिंह ‘मजबूर’

दुनिया में गद्य और पद्य लेखन कब से शुरू हुआ, कहना कठिन है। ॠषि वाल्मीकि को आदि कवि माना जाता है; पर पहला गद्य लेखक कौन था, इसका विवरण नहीं मिलता।

संख्या बल बढ़ाने का पर्व : वासंतिक नवरात्र

Continue Reading संख्या बल बढ़ाने का पर्व : वासंतिक नवरात्र

नवरात्र का पर्व वर्ष में दो बार आता है। आश्विन शुक्ल 1 से प्रारम्भ होने वाले शारदीय नवरात्र की समाप्ति आ. शु. 6 के दिन होती है। इसका अगला दिन विजय दशमी भगवान राम का रावण पर विजय का पर्व है।

थिंक टैंकरों के बीच

Continue Reading थिंक टैंकरों के बीच

मैं ठहरा सीधा सरल गंवई इन्सान। थिंक और थिंकिंग से मेरा पूर्व जन्म में भी कोई संबंध नहीं रहा; पर कभी-कभी हालत सांप-छछूंदर जैसी हो जाती है। अर्थात न निगलते बने और न उगलते। परसों भी ऐसा ही हुआ।

End of content

No more pages to load