कानपुर की धरा बनी अयोध्या

Continue Readingकानपुर की धरा बनी अयोध्या

बैसाख कृष्ण प्रतिपदा, विक्रम सम्वत 2079, 17 अप्रैल 2022 आज भारतेश्वरी माता सीता एवं राष्ट्रपुरुष श्रीराम जी के पुत्रों लव-कुश की जन्मस्थली कानपुर से विश्व हिन्दू परिषद ने "भारतवर्ष के बच्चे बच्चे में प्रभु श्रीराम जी के चरित्र-गुण-धर्म के संस्कारों का प्रवेश हो, जो समाज से भेदभाव, वैमनस्यता आदि को…

हिंदुत्व की दृष्टि से गोरखपुर का है महत्व

Continue Readingहिंदुत्व की दृष्टि से गोरखपुर का है महत्व

मीडिया एवं विपक्षी दलों के बीच उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गोरखपुर से उम्मीदवार बनने से ज्यादा चर्चा अयोध्या से उनके चुनाव नहीं लड़ने की है। पिछले कई दिनों से अलग-अलग तरीकों से अलग-अलग विशेषण दिया जा रहा है कि आखिर वे अयोध्या से क्यों नहीं लड़े? चुनाव…

अस्सी बनाम बीस प्रतिशत

Continue Readingअस्सी बनाम बीस प्रतिशत

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा 80% बनाम 20% का बयान जिस सघन बहस, विवाद और बवंडर का आधार बना है वह अस्वाभाविक नहीं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, योगी आदित्यनाथ और कुछ हद तक गृह मंत्री अमित शाह ऐसे नाम हैं, जिनके एक-एक शब्द का विशेष दृष्टिकोण और परिधि के…

राम मंदिर ट्रस्ट को मिला उम्मीद से अधिक दान

Continue Readingराम मंदिर ट्रस्ट को मिला उम्मीद से अधिक दान

  राम मंदिर निर्माण की जब शुरुआत हुई तब शायद ही किसी ने सोचा होगा कि 'निधि समर्पण' की राशि हजार करोड़ का आंकड़ा पार कर जायेगी। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद से मंदिर के ट्रस्ट का गठन हुआ और फिर निर्माण की प्रक्रिया शुरु हुई। मंदिर ट्रस्ट ने…

रामलला के गर्भगृह तक था सरयू नदी का किनारा, अब रिटेनिंग वॉल से की जायेगी मंदिर की सुरक्षा

Continue Readingरामलला के गर्भगृह तक था सरयू नदी का किनारा, अब रिटेनिंग वॉल से की जायेगी मंदिर की सुरक्षा

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद से अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण कार्य जारी है लेकिन आज फिर से एक बार राम मंदिर का नाम चर्चा में हैं। दरअसल यह कहना गलत नहीं होगा कि राम मंदिर निर्माण की कहानी का पहला अध्याय 6 दिसंबर 1992 को ही लिखा…

बाबरी ढांचे के विध्वंस की कहानी…

Continue Readingबाबरी ढांचे के विध्वंस की कहानी…

6 दिसंबर 1992 के दिन सूर्य की लालिमा कुछ अलग ही नजर आ रही थी शायद उन्हें भी इस बात का आभास हो गया था कि आज का दिन इतिहास के सुनहरे पन्नों में लिखा जाने वाला है। अयोध्या में उगते सूर्य के साथ ही भीड़ बढ़ने लगी थी और…

रामजन्म भूमि से आया एक चित्रकार

Continue Readingरामजन्म भूमि से आया एक चित्रकार

अयोध्यावासी पंडित किरण मिश्र जब 1980 में मुंबई आये तो मन में दबी हुई इच्छा तो यही लेकर आये थे कि उन्हें चित्रकार बनने का अपना जुनून सच करना है, पर पहली ज़रूरत उनके सामने यहां जमने और रोज़ी-रोटी का जुगाड़ करने की थी।

आज भी राम-फ्रकल्फ के रंग में रंगे हैं सुहास बहुलकर

Continue Readingआज भी राम-फ्रकल्फ के रंग में रंगे हैं सुहास बहुलकर

वरिष्ठ चित्रकार सुहास बहुलकर से इन दिनों बात करें तो वे चित्रकूट और रामदर्शन-फ्रकल्फ की ही बात करेंगे। हालांकि उनका वह एसाइनमेंट कब का फूरा हो चुका है फर आज भी उनकी मन चित्रकूट और राम मेंं ही रमा हुआ है।

End of content

No more pages to load