कला में परिवर्तन हो रहा है

Continue Reading कला में परिवर्तन हो रहा है

निजी तौर पर तो कला के क्षेत्र में हो तो बहुत कुछ रहा है जिसके कारण भारत के चित्रकारों को निरंतर पहचान मिल रही है किन्तु आवश्यकता है इस दिशा में सरकार द्वारा भी कोई ठोस कदम उठाने की। कलाकारों को महज सम्मानित कर देने से कला का सम्यक विकास नहीं होगा।कला तभी जीवित रह सकती है, जब कलाकार जीवित रहे और अपने जीवन निर्वाह के लिए किए जाने वाले प्रयासों से परे होकर विचार करने के लिए उसका मन स्वतंत्र हो।

प्रकृति का कोई राग ही है रंजना पोहनकर की कला

Continue Reading प्रकृति का कोई राग ही है रंजना पोहनकर की कला

वह संगीतकारों के परिवार में पैदा हुईं। उनके पिता श्री कृष्णराव मजुमदार देवास दरबार के प्रसिद्ध गायक उस्ताद रजब अली साहब के शिष्य थे। घर में शास्त्रीय संगीत का वातावरण बचपन से ही मिला और विवाह भी अजय पोहनकर परिवार में हुआ जो आज भी शास्त्रीय गायन में प्रमुख स्थान रखता है।

रामजन्म भूमि से आया एक चित्रकार

Continue Reading रामजन्म भूमि से आया एक चित्रकार

अयोध्यावासी पंडित किरण मिश्र जब 1980 में मुंबई आये तो मन में दबी हुई इच्छा तो यही लेकर आये थे कि उन्हें चित्रकार बनने का अपना जुनून सच करना है, पर पहली ज़रूरत उनके सामने यहां जमने और रोज़ी-रोटी का जुगाड़ करने की थी।

एलीना : अकेली औरत की त्रासदी

Continue Reading एलीना : अकेली औरत की त्रासदी

बहुत कठिन होता है बिन ब्याही अथवा अकेली औरत के लिए जिन्दगी ग्ाुजारना; और अगर वह मां भी हो, वह भी बिन ब्याही, तब तो जैसे उसके सामने कठिनाइयों का पहाड़ ही आ खड़ा हो जाता है । यों भी समाज बड़ा निष्ठुर है ।

हमेशा विवादों से घिरी रही हैं अंजलि इला मेनन

Continue Reading हमेशा विवादों से घिरी रही हैं अंजलि इला मेनन

कुछ वर्ष पहले आज की बहुचर्चित और विवादास्पद चित्रकार अंजलि इला मेनन एक बार इसलिए चर्चा में आयी थीं कि उनके यहां काम करने वाले व्यक्ति ने उनके कुछ चित्रों की नकल करके बेचने की कोशिश की थी, जिसमें मुंबई की एक गैलरी भी आरोप के घेरे में आ गयी थी ।

गांवों को समर्फित चित्रकार दत्तात्रय फाडेकर

Continue Reading गांवों को समर्फित चित्रकार दत्तात्रय फाडेकर

लगभग नाटे कद का व्यक्ति, खद्दर का सफेद कुर्ता-फाजामा फहने, जिसके कंधे फर लटका होगा खद्दर का ही झोला आफको जहांगीर आर्ट गैलरी की सीढ़ियां चढ़ता अक्सर दिखायी फड़ जायेगा ।

पूनम अगरवाल : चित्रों के बहाने रूपांतरण और आत्मपरीक्षण

Continue Reading पूनम अगरवाल : चित्रों के बहाने रूपांतरण और आत्मपरीक्षण

कला एक ज़रिया बन सकती है खुद को बदलने और आत्मचिन्तन का, मानती हैं युवा चित्रकार पूनम अगरवाल। हम समाज को, दुनिया को तो नहीं बदल सकते । चारों तरफ फैले भ्रष्टाचार और गंदी राजनीति में बदलाव नहीं ला सकते, लेकिन अर्फेो स्व का रूपांतरण तो कर सकते हैं ।

नयना कनोडिया : अनगढ़ शैली ने दिलाई विश्वभर में ख्याति

Continue Reading नयना कनोडिया : अनगढ़ शैली ने दिलाई विश्वभर में ख्याति

नयना कनोडिया का जन्म यद्यफि फुणे में हुआ, किन्तु वे मूलत: राजस्थान की हैं । वे एक ऐसे फारम्फरिक मारवाड़ी फरिवार से हैं, जिसका चित्रकला से दूर-दूर तक कोई रिश्ता नहीं था । फिता फौज में थे, इसलिए देश भर में घूमना फड़ा ।

क्या कार्टूनों की आड़ में अभिव्यक्ति की आजादी पर प्रहार किया जा रहा है?

Continue Reading क्या कार्टूनों की आड़ में अभिव्यक्ति की आजादी पर प्रहार किया जा रहा है?

पहले उस कार्टून के बारे में थोड़ा जान लिया जाय। जादबपुर विश्वविद्यालय के प्रो. अंबिकेश महापात्र ने ममता बनर्जी पर बनाये गये अपने कुछ कार्टूनों को इंटरनेट और सोशल नेटवर्किंग साइट ‘फेसबुक’ पर लगाया और उन्हें अपने कुछ मित्रों को भी पोस्ट किया।

कंचन चन्द्र स्त्री-विमर्श की चित्रकार हैं

Continue Reading कंचन चन्द्र स्त्री-विमर्श की चित्रकार हैं

राजधानी की बहुचर्चित चित्रकार कंचन चन्द्र का कहना है कि ‘कला सामाजिक स्थितियों से उत्पन्न होती है। कला का सर्जक और उसकी कृति-दोनों समाज की शक्तियों से बंधे होते हैं, जो कि कला का स्वरूप गढ़ने के लिए उत्तरदायी होती है। मुझ पर भी यही नियम लागू होता है।’

अनश्वर फक्षी के फ्रतीक-चित्रों के बहाने

Continue Reading अनश्वर फक्षी के फ्रतीक-चित्रों के बहाने

यद्यफि शुक्ला चौधुरी शान्तिनिकेतन में अर्फेाा स्नातक की फढाई फूरी नहीं कर फाईं, किन्तु वहां उन्हें कला के तमाम महत्वफूर्ण गुर सीखने का अवसर मिला ।

जलरंगों को समर्फित चित्रकार : समीर मंडल

Continue Reading जलरंगों को समर्फित चित्रकार : समीर मंडल

आमिर खान की फिल्म ’तारे ज़मीन फर’ याद होगी । उसमें मंदबुद्धि बालक को ड्राइंग सिखाता है एक चित्रकार, जो शायद फृष्ठभूमि में है किंतु वह कला जगत में फृष्ठभूमि में नहां है बल्कि चित्रकारों की फहली फायदान फर है ।

End of content

No more pages to load