वसई में भव्य रामनवमी शोभा यात्रा का आयोजन

भये प्रगट कृपाला दीन दयाला कौसल्या हितकारी।

हरषित महतारी मुनि मन हारी अद्भुत रूप बिचारी।।

लोचन अभिरामा तनु घनस्यामा निज आयुध भुज चारी।

भूषन वनमाला नयन बिसाला  सोभासिंधु खरारी।। 

कह दुइ कर जोरी अस्तुति तोरी केहि बिधि करौ अनंता।

माया गुन ग्यानातीत अमाना वेद पुरान भनंता।। 

करुना सुख सागर सब गुन आगर जेहि गावहिं श्रुति संता।

सो मम हित लागी जन अनुरागी भयउ प्रकट श्रीकंता।। 

यह उपरोक्त पंक्तियाँ तुलसीदास ने श्री रामचरितमानस में लिखी हैं और बालकांड में प्रभु श्री के जन्म का वर्णन कुछ इस प्रकार से किया है। चैत्र नवरात्रि के शुक्ल पक्ष की नवमी को भगवान राम का जन्म हुआ था और इसी दिन हिन्दू समाज रामनवमी का त्यौहार मनाता हैं। धर्म शास्त्रों के मुताबिक भगवान श्रीराम विष्णु जी के सातवें अवतार थे। श्रीलंका के राजा रावण का अत्याचार लगातार बढ़ता जा रहा था, ऋषि मुनि के लिए तपस्या और जप करना मुश्किल हो गया था। राक्षस हमेशा उन्हें परेशान करते थे इसलिए प्रभु श्रीराम को मृत्युलोक में जन्म लेना पड़ा। 

चैत्र नवरात्रि के नवमी के दिन पूरे देश में हर साल रामनवमी की शोभायात्रा निकाली जाती है जिसमें लाखों की संख्या में लोग हिस्सा लेते हैं और भगवान राम के प्रति अपना प्यार अर्पण करते हैं। रविवार को महाराष्ट्र के पालघर के वसई पश्चिम में भी एक भव्य शोभा यात्रा का आयोजन किया गया जिसमें करीब 6 हजार से अधिक लोग शामिल हुए। वसई के रमेदी राम मंदिर पर भगवान राम की पूजा के साथ ही लोगों ने जय श्री राम का हुंकार भरा और चिमाजी अप्पा मैदान की तरफ चलना शुरू किया। सभी एक साथ जय श्रीराम के नारे लगा रहे थे जबकि ढोल ताशे वालों ने एक अलग ही शमा बांध रखी थी। इस शोभा यात्रा में आम लोगों के साथ साथ महिलाओं और बच्चों ने भी हिस्सा लिया था। महिलाएं सबसे आगे उद्घोष देते हुए चल रही थी जबकि उनके पीछे बाकी लोग यात्रा में चल रहे थे।        

शोभा यात्रा के दौरान ढोल, ताशे और डीजे के साथ लोगों की भीड़ राम के नाम पर झूमती हुई नजर आयी और हिन्दुत्व के लिए लोगों का सहयोग भी दिखा। जिस रास्ते से शोभा यात्रा गुजरती वहां किनारे खड़े लोग शोभायात्रा का स्वागत करते नजर आए। कुछ लोगों की तरफ से पानी, चाय व नाश्ते की भी व्यवस्था की गयी थी। इस दौरान पुलिस की तरफ से सुरक्षा व्यवस्था भी दुरुस्त नजर आयी और शोभा यात्रा में शामिल लोगों ने भी पुलिस का पूरा सहयोग किया। करीब 3 घंटे बाद यह शोभायात्रा चिमाजी अप्पा मैदान पर पहुंची जहां रामनवमी को लेकर कुछ भाषण दिए गये। हनुमान चालीसा व जय श्री राम के नारे के साथ इस शोभायात्रा का समापन किया गया। इस पूरी शोभायात्रा को सफल बनाने के लिए पुलिस का भी धन्यवाद किया गया। 

This Post Has One Comment

  1. Jaikiran Saini

    जयश्रीराम… हरे राम हरे राम.. राम राम हरे हरे..।।।
    अब अशिष्ट व भ्रष्टाचारी लोगों में पडी आसूरी शक्ति का विनाश हो…

आपकी प्रतिक्रिया...