पुष्कर सिंह धामी: कर्मठता एवं कार्यकुशलता

Continue Readingपुष्कर सिंह धामी: कर्मठता एवं कार्यकुशलता

सुस्थापित मान्यता है कि सम्मान करोगे तो सम्मान मिलेगा, प्यार बांटोगे तो प्यार मिलेगा। उत्तराखण्ड के मुख्यमंत्री का दायित्व मिलने पर एक साल से भी कम अवधी में उत्तराखंड की जनता, विशिष्ट जन, मीडिया, भाजपा कार्यकर्ता तथा अन्य अनुषांगिक संगठन के कार्यकर्ता के मन में अपने व्यवहार, आचरण, कर्मठता एवं कार्यकुशलता…

उत्तराखंड मेरी आत्मा है मुंबई मेरा शरीर

Continue Readingउत्तराखंड मेरी आत्मा है मुंबई मेरा शरीर

उत्तराखंड मेरी आत्मा है तो महाराष्ट्र का मुंबई शहर मेरा शरीर। जिस तरह आत्मा और शरीर एक दूसरे के बगैर नहीं रह सकते, उसी प्रकार उत्तराखंड और मुंबई इन दोनों के बिना मैं नहीं जी सकता।’ ऐसा कहना है मूवी मैजिक एंटरटेनमेंट प्राइवेट लिमिटेड के एम.डी. राजेश नेगी का। मूलत: उत्तराखंड के राजेश नेगी ने अपने मुंबई तथा उत्तराखंड के अनुभव हिंदी विवेक के साथ साझा किए। प्रस्तुत है उसके सम्पादित अंश -

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी

Continue Readingउत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी

उत्तराखंड के नवनियुक्त मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी की आयु मात्र 45 वर्ष है। इनकी कैबिनेट में कुल 11 मंत्री हैं। सभी आयु एवं राजनीतिक और प्रशासनिक अनुभव में मुख्यमंत्री जी से काफी वरिष्ठ हैं। विधानसभा चुनाव में मुश्किल से 9 माह का वक्त बचा है। ऐसे में अभी तक का सबसे युवा मुख्यमंत्री का चयन कर भारतीय जनता पार्टी ने उत्तराखण्ड का पूरा राजनीतिक परिदृश्य ही बदल डाला है।

उत्तराखंड में भाजपा का मास्टरस्ट्रोक

Continue Readingउत्तराखंड में भाजपा का मास्टरस्ट्रोक

उत्तराखंड में नेतृत्व परिवर्तन के भाजपा के निर्णय से जहां पार्टी और प्रदेश की जनता खुश है वहीं विपक्ष को कुछ कहते नहीं बन पा रहा है। उसके हौसले एकदम पस्त हो गए हैं।

2014 के बाद भारत की राजनीति में बदलाव

Continue Reading2014 के बाद भारत की राजनीति में बदलाव

यदि सरकारें संगठन के बलबूते बनती-बिगड़ती हैं तो राजनीति के माध्यम से समाज और व्यवस्था में सरकारी प्रयत्नों द्वारा लाये जा रहे बदलाव को गति प्रदान करने, उसे और प्रभावी तथा स्थायी बनाने में पार्टी के आम कार्यकर्ता की भी महती भूमिका हो सकती है। हमारी लोकतान्त्रिक शासन प्रणाली में इसकी व्यवस्था पूर्व से स्थापित है।

भाजपा की व्यूह  रचना धरी की धरी रह गई

Continue Readingभाजपा की व्यूह  रचना धरी की धरी रह गई

मेरठ कॉलेज से पढ़ाई पूरी कर 1970 में जीविकोपार्जन के लिए जब दिल्ली पहुंचा तब दिल्ली के राजनितिक क्षितिज पर महापौर लाला हंसराज गुप्त, चीफ मेट्रोपोलिटन काउंसिलर विजय कुमार मल्होत्रा, बलराज साहनी और मदनलाल खुराना जैसे भारतीय जनसंघ के नेता तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के सशक्त नेतृत्व को सफल चुनौती दे रहे थे।

भाजपा के हाथ से फिसलते राज्यों के बहाने

Continue Readingभाजपा के हाथ से फिसलते राज्यों के बहाने

भारतीय जनता पार्टी एक गतिमान और उर्वरा राजनितिक दल है। पार्टी की रीति-नीति ऐसी है कि उसमें नेताओं की दूसरी/तीसरी पांत स्वतः ही तैयार होती रहती है।

ईमानदारी को राष्ट्रीयचरित्र बनाने का लक्ष्य

Continue Readingईमानदारी को राष्ट्रीयचरित्र बनाने का लक्ष्य

कोई दायित्व सौंपते समय यदि कार्यकर्ता की सत्यनिष्ठा का स्तर भी देखा जाने लगे तो ईमानदारी को राष्ट्रीय चरित्र का हिस्सा बनते देर नहीं लगेगी। आज के दौर में सिर्फ भाजपा ही इस काम को बखूबी अंजाम दे सकती है। क्योंकि भाजपा के अधिकतर कार्यकर्ता राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की व्यक्ति निर्माण की प्रक्रिया में तप कर आते हैं।

उतार-चढ़ाव में ‘अटल’

Continue Readingउतार-चढ़ाव में ‘अटल’

अटल जी अपनी बौद्धिक प्रगल्भता, ओजस्वी वक्तृत्व कला, हाजिर-जवाबी, आचरण, व्यवहार और मिलनसार स्वभाव के बल पर सर्वदूर समाज के सभी वर्गों के बीच लोकप्रियता के उच्चतम शिखर पर पहुंचे। इसके बावजूद उनके पैर अपनी वैचारिक सरजमीं पर मजबूती से जमे रहे। यथा नाम, तथा गुण की उक्ति जैसे मानो…

End of content

No more pages to load