समाधान

Continue Reading समाधान

बाबा बाबा बचाओ की चीख सुनकर मैं कम्प्यूटर पर काम करना छोड़कर नीचे दौड़ पड़ा. सीढ़ियां उतरते उतरते मेरे दिल की धड़कन बहुत तेज हो गई थी. नीचे जाकर मैं सक्षम के पास पहुंचा तो मुझे देखते ही वह दौड़कर मुझसे चिपक गया, “बाबा बाबा मुझे बचा लो.” उसकी आंखों में भय मिश्रित निरीहता टपक रही थी और वह थर थर कांपते हुए मुझसे चिपका जा रहा था. सामने रौद्ररूप धारण किए निशा हाथ में पकड़ी डण्डी को लपलपा रही थी.  क्या हुआ बेटी इस बच्चे को इस तरह क्यों पीट रही हो? क्या गलती कर दी इसने? मैंने सक्षम की मम्मी निशा की ओर

हार

Continue Reading हार

...और उसके आगे की तमाम हालातों का नक्शा चलचित्र की भांति उसके मस्तिप्क में दौड़ने लगा। आगे बढ़ते उसके कदम जाने कब वहीं के वहीं थम गए और वह वहीं से वापस लौट पड़ा, उस हार की मालकिन को खोजने के उद्देश्य से। कैला मैया के दर्शन करके वह लौट ही रहा था कि अचानक

End of content

No more pages to load