त्रिगुनरूप भगवान दत्तात्रय

Continue Readingत्रिगुनरूप भगवान दत्तात्रय

गीता के इस श्लोक में भगवान श्रीकृष्ण कहते हैं कि जो व्यक्ति समर्पण भाव से मेरे पास आता है, मैं उसे भयमुक्त करता हूं और हमेशा उसकी रक्षा करता हूं। भगवान अपने भक्तों की रक्षा के लिये और कालानुरूप अवतार लेते है।

परम पूजनीय सरसंघचालक जी की नजर में – ‘काका जी’ खंडेलवाल

Continue Readingपरम पूजनीय सरसंघचालक जी की नजर में – ‘काका जी’ खंडेलवाल

अकोला के संघचालक रहे श्री शंकरलाल भिखमचंद खंडेलवाल उपाख्य ‘काका जी’ पूरी तरह संघमय हो गए थे। उन्होंने सदैव संघ जीया है। वे स्वयंसेवकों के वास्तव में ‘बुजुर्ग अभिभावक’ ही थे। लकवे से पीड़ित होने के बावजूद उनका संघ-कार्य अविरत चलता रहा।

किसे कहते हैं एनपीए?

Continue Readingकिसे कहते हैं एनपीए?

बैंकिंग क्षेत्र में ही नहीं जनसाधारण में भी एनपीए शब्द आजकल बड़ी चर्चा में हैं। एनपीए अंग्रेजी शब्दावली नॉन-परफार्मिंग असेट का संक्षिप्त रूप है। एनपीए को डूबत ॠण भी कह सकते हैं। हिंदी पारिभाषिक शब्दावली है अनर्जक आस्तियां। याने ऐसा ॠण जिनके वसूल होने में दिक्कत है।

शंखेश्वर महातीर्थ में बनेगा – भव्य श्रुत मंदिर

Continue Readingशंखेश्वर महातीर्थ में बनेगा – भव्य श्रुत मंदिर

समस्त जैन संघ के गौरव स्थान शंखेश्वर महातीर्थ में अनुपम, भव्य-दिव्य श्रुत मंदिर बनाया जा रहा है। जैन धर्म ग्रंथों की सुरक्षा के अलावा इसमें अन्य विभिन्न सुविधाएं भी उपलब्ध कराई जाएंगी। जैन समाज की कार्य कुशलता एवं व्यापार का डंका पूरी दुनिया में बज रहा है। अल्पसंख्यक होने के…

‘समस्त महाजन’ के सेवा कार्यों का सुप्रभाव

Continue Reading‘समस्त महाजन’ के सेवा कार्यों का सुप्रभाव

समस्त महाजन ने सत्कर्म की भावना से अब तक अनेक प्रकार के सामाजिक कार्य किए हैं। उसके सुपरिणाम भी दिखाई देने लगे हैं। आने वाले पांच वर्षों में देश के अधिकांश गांवों में इस तरह के सामाजिक कार्य फैलाने का लक्ष्य हैं। प्रस्तुत है संस्था के अध्यक्ष गिरीशभाई शहा से हुई बातचीत के अंशः

बन्दूक का लाइसेन्स है

Continue Readingबन्दूक का लाइसेन्स है

अटलजी का मत था -किसी पर आक्रमण के लिए नहीं परंतु हम पर कोई अण्वास्त्रों से हमला न करें इसलिए अण्वास्त्र बनाना आवश्यक है। दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी कवि के साथ साथ बहुत अच्छे वक्ता भी थे। उन्हें सुनने के लिए दूर-दूर से लोग आया करते थे।…

हर गांव बने ‘धर्मज’

Continue Readingहर गांव बने ‘धर्मज’

गांव को गोकुल बनाने का आसान तरीका है- गोचर को पुनर्जीवित करें। गोचर से पशुओं को चारा मिलेगा, पशुओं से दूध और गोबर मिलेगा, गोबर से ईंधन के रूप में कंडे मिलेंगे, खाद भी मिलेगी। पानी के लिए तालाबों को सफाई करें तो उसकी मिट्टी खेतों में काम आ जाएगी। इस तरह पानी, चारा, दूध, खाद सबकुछ गांव में ही मिल जाएगा। इसका नमूना देखना हो तो धर्मज आइये....

समस्त महाजन के सेवा कार्यों की रीढ़ युवा-शक्ति

Continue Readingसमस्त महाजन के सेवा कार्यों की रीढ़ युवा-शक्ति

युवा शक्ति समस्त महाजन के सामाजिक और सेवा कार्यों की रीढ़ है। आपदाग्रस्त इलाकों में कार्यों के अलावा संस्था ने मंदिरों की सफाई का प्रशंसनीय कार्य किया है। अब योजना यह है कि इन युवकों के माध्यम से हर गांव गोकुल बने। वे उस गांव के तालाब, गोचर, पशुपालन, कृषि जैसी सभी व्यवस्थाओं को मार्गदर्शित करें। राष्ट्र निर्माण का यह बहुत बड़ा काम होगा।

मोदी शासन में जीव-जंतु कल्याण बोर्ड अधिक गतिशील – गिरीशभाई शाह

Continue Readingमोदी शासन में जीव-जंतु कल्याण बोर्ड अधिक गतिशील – गिरीशभाई शाह

प्रकृति की देन हर जीव के प्रति संवेदना और करुणा जगाना बहुत महत्वपूर्ण कार्य है। देश का भारतीय जीव जंतु कल्याण बोर्ड यही काम कर रहा है। मोदीजी के सत्ता में आने के बाद बोर्ड अभूतपूर्व रूप से गतिशील बना है। बोर्ड के कार्यों, जीवदया, भविष्य की योजनाएं आदि पर बोर्ड के सदस्य गिरीशभाई शाह के साथ हुई विस्तृत बातचीत के महत्वपूर्ण अंश यहां प्रस्तुत है।

दीक्षा व्यक्ति को आकाश बना देती है

Continue Readingदीक्षा व्यक्ति को आकाश बना देती है

      प्रसिद्ध सेवाभावी संस्था ‘समस्त महाजन’ के गिरीशभाई शाह के भतीजे उच्च शिक्षित 24 वर्षीय ‘मोक्षेस’ ने जैन मुनि की हाल में दीक्षा ली। प्रस्तुत है मोक्षेस की दीक्षा के संदर्भ में जैन मुनि राजहंस सूरीजी से विशेष बातचीत-

सीए बन गए जैन मुनि

Continue Readingसीए बन गए जैन मुनि

24 साल के उच्च शिक्षित मोक्षेस ने जैन मुनि की दीक्षा ली है। वे ‘समस्त महाजन’ के गिरीश भाई शाह के परिवार से हैं। उनके परिवार के 2200 साल के इतिहास में पहली बार किसी ने यह कठोर व्रत स्वीकार किया है। यह दीक्षा प्रेरणा देती है युवकों को- एक अच्छा संयमी इंसान बनने की!

सेवाधाम आश्रम को समस्त महाजन का सहयोग

Continue Readingसेवाधाम आश्रम को समस्त महाजन का सहयोग

समस्त महाजन केवल मुंबई के लिए ही नहीं अपितु पूरे देश के लिए भी रत्नसमान सेवा संस्था है। ऐसी संस्थाओं के सेवाकार्य से हमारा समाज विपदा और विषमताओं पर विजय प्राप्त करता रहता है।

End of content

No more pages to load