पत्थरबाजी से कहीं आर्थिक विकास प्रभावित न होने लगे

Continue Readingपत्थरबाजी से कहीं आर्थिक विकास प्रभावित न होने लगे

अभी हाल ही में अमेरिकी रेटिंग एजेंसी फिच ने भारतीय अर्थव्यवस्था के दृष्टिकोण (आउटलुक) में सुधार (अपग्रेड) किया है। फिच रेटिंग्स ने भारत की सॉवरेन रेटिंग के आउटलुक को “नकारात्मक” श्रेणी से अपग्रेड कर “स्थिर” श्रेणी में ला दिया है। भारत की सावरन रेटिंग में यह सुधार देश में तेजी…

हर शहर में एक उन्मादी भीड़

Continue Readingहर शहर में एक उन्मादी भीड़

  शहर में कितना भीड़-भड़क्का है। हर तरफ भीड़ से भरे हैं हमारे शहर। आजादी की यह सबसे महान उपलब्धि है कि गांव वीरान होते गए और शहर भीड़ से भरते गए। अगर यूपी और बिहार न होते तो मुंबई इतनी ठसाठस नहीं होती। भला हो उन सरकारों का जिन्होंने…

भारतीय संस्कृति का विकृत रूप

Continue Readingभारतीय संस्कृति का विकृत रूप

भारतीय चिंतन परंपरा में ईश्वर की उपस्थिति सर्वत्र मानी गई गई। ईशोपनिषद में कहा गया है कि "ईशावास्यमिदं सर्वं यदकिंचिदजगत्यां जगत" संसार की प्रत्येक वस्तु में ईश्वर का वास है। वैदिक संस्कृति में ईश्वर को ब्रह्म कहा गया है। उसे ही परमेश्वर और परमात्मा भी कहते हैं। वह परमात्मा अपने…

इस तरह की भाषा डर पैदा करती है

Continue Readingइस तरह की भाषा डर पैदा करती है

सामान्यतः जमीयत ए उलेमा ए हिंद या ऐसे संगठनों की बैठकों या सम्मेलनों पर राष्ट्रीय मीडिया की नजर नहीं रहती। छोटी सी खबर आ जाती है। किंतु देवबंद में जमीयत का 2 दिनों का सम्मेलन राष्ट्रीय सुर्खियां पाया तो इसके कारण हैं। वाराणसी से लेकर मथुरा, आगरा, दिल्ली तक ज्ञानवापी,…

कश्मीर की समस्या हल करनी है तो दिल कड़ा करिये

Continue Readingकश्मीर की समस्या हल करनी है तो दिल कड़ा करिये

यह समस्या राजनैतिक नही है, यह समस्या मजहबी है। यह समस्या उस मजहबी सोच की है कि वहां काफिर नही रह सकते। सेना एक एक व्यक्ति को सुरक्षा नही दे सकती, कोई भी सामान्य सा दिखने वाला व्यक्ति अपने दिमाग मे कौन सा मजहबी उन्माद लेकर चल रहा है और…

मुस्लिम आक्रमणकारियों द्वारा संस्कृति का विनाश

Continue Readingमुस्लिम आक्रमणकारियों द्वारा संस्कृति का विनाश

“अरबस्तान और पश्चिम एशिया के असभ्य वहशी आठवीं शताब्दी के प्रारम्भ से ही भारतवर्ष में घुसने लगे थे। इन मुस्लिम आक्रमणकारियों ने असंख्य हिन्दू मंदिर तोड़े, अनगिनत स्थापत्यों और मूर्तियों का विध्वस किया, हिन्दूओं के राजप्रासादों व दूर्गों को लूंटा, हिन्दू पुरुषों का कत्लेआम किया और हिन्दू महिलाओं को अपहृत…

कश्मीर में हिंदुओं की लक्षित हत्याओं का सिलसिला

Continue Readingकश्मीर में हिंदुओं की लक्षित हत्याओं का सिलसिला

कश्मीर में पाकिस्तान परस्त आतंकवादियों ने लक्षित हिंसा के तहत कश्मीरी हिंदुओं को निशाना बनाए जाने का सिलसिला तेज कर दिया है। कश्मीर में यह सिलसिला अक्टूबर 2021 से शुरू हुआ और 31 मई को दलित स्कूल शिक्षिका रजनी बाला की हत्या के साथ यह संख्या 18 हो गई है।…

कट्टरता से बाज आएं मुस्लिम नेता: डॉ. सुरेन्द्र जैन

Continue Readingकट्टरता से बाज आएं मुस्लिम नेता: डॉ. सुरेन्द्र जैन

नई दिल्ली। मई 30, 2022। विश्व हिन्दू परिषद ने आज कहा है कि कट्टरपंथी इस्लाम के गढ़ देवबंद में आयोजित मुस्लिम सम्मेलन में महमूद असद मदनी व बदरुद्दीन अजमल जैसे कट्टरपंथी नेताओं ने "भारत में मुसलमान पीड़ित हैं" का नारा लगाकर मुस्लिम समाज को एक बार फिर भड़काने का प्रयास…

आतंकवाद का हल केवल सनातन संस्कृति में ही निहित है

Continue Readingआतंकवाद का हल केवल सनातन संस्कृति में ही निहित है

हाल ही के समय में न केवल भारत बल्कि विश्व के कई देशों यथा, स्वीडन, ब्रिटेन, फ्रांस, नार्वे, भारत, अमेरिका आदि में आतंकवाद की समस्या ने सीधे तौर पर इन देशों के आम नागरिकों को एवं कुछ हद्द तक इन देशों की अर्थव्यवस्था को विपरीत रूप से प्रभावित किया है।…

इस्लाम सह-अस्तित्व से इंकार करता है!

Continue Readingइस्लाम सह-अस्तित्व से इंकार करता है!

इस्लाम के साथ सामंजस्य का मतलब है उसकी ओर से आती रहने वाली क्रमशः अंतहीन माँगें पूरी करते जाना। प्रोफेट मुहम्मद अपनी माँगों में कभी नहीं रुके, जब तक कि उनकी 100% माँगें पूरी नहीं हो गईं। वही मुसलमानों के आदर्श हैं। इसलिए काफिरों के लिए कोई आसानी का रास्ता…

मतांतरण देश की हिन्दू संस्कृतिक अस्मिता के विरुद्ध

Continue Readingमतांतरण देश की हिन्दू संस्कृतिक अस्मिता के विरुद्ध

भारत में प्रायः सुप्त पड़ी हिन्दू अस्मिता के पुनः जागरण ने जहाँ एक और अयोध्या में प्रभु राम जन्मभूमि मंदिर के भव्य निर्माण को साकार रूप दिया है तो वही भारत की प्राचीन नगरी काशी को भी दिव्यता दी है, वही मथुरा भी भविष्य में अपने उसी वैभव को प्राप्त…

End of content

No more pages to load