सावरकर के कालजयी विचार

Continue Reading सावरकर के कालजयी विचार

कभी ‘धर्मनिरपेक्षता’के नाम पर हिंदुत्व को सांप्रदायिक करार देने वाले, आज मंदिरों में जाकर माथा नवा रहे हैं। राजनीतिक दलों में स्वयं को अधिक से अधिक हिंदुत्वनिष्ठ सिद्ध करने की होड़ है। ऐसे में स्वातंत्र्यवीर विनायक दामोदर सावरकर का स्मरण आवश्यक है।

देशी व विदेशी मीडिया की भारत विरोधी जुगलबंदी

Continue Reading देशी व विदेशी मीडिया की भारत विरोधी जुगलबंदी

देश में कई पत्रकार ऐसे हैं जिन्हें मोदी सरकार, भाजपा व राष्ट्रीय विचार रखने वाले व्यक्तियों व संगठनों के खिलाफ अभियान चलाना ही है। दुर्भाग्य की बात यह है कि इस राजनीतिक खेल को पत्रकारिता का आड़ में अंजाम दिया जा रहा है।

चीन की प्रवृत्ति को समझें – श्रीगुरुजी

Continue Reading चीन की प्रवृत्ति को समझें – श्रीगुरुजी

चीन की ओर से विश्वासघात के रूप में कुछ हुआ नहीं, क्योंकि उसने तो कभी विश्वास दिलाया ही नहीं था। यह कहना ठीक नहीं कि चीन ने विश्वासघात किया। कहना यह चाहिए कि हम लोगों ने ही चीन की प्रकृति को समझा नहीं।

किसान आंदोलन या कोई बड़ा खेल

Continue Reading किसान आंदोलन या कोई बड़ा खेल

किसान आंदोलन का आरंभ तो संभवत: पंजाब में मोदी विरोध के कारण कांग्रेस ने किया, पर लगता है कि अब यह हाइजैक होकर उन्हीं शक्तियों के हाथों में चला गया जिन्हें हम टुकड़े-टुकड़े गैंग के नाम से जानते हैं।

मदरसे: आतंकवाद की नर्सरी

Continue Reading मदरसे: आतंकवाद की नर्सरी

कट्टरपंथ और मदरसे के सम्बन्धों पर लंबे समय से बहस चल रही है, लेकिन इनके प्रति राजनीतिक नेतृत्व की नरम स्थिति के कारण, कानून प्रवर्तन एजेंसियां हमेशा कोई कड़ी जांच करने और किसी भी गंभीर कार्रवाई करने में संकोच करती रही हैं।

विश्व बाजार में उभरता भारतीय वस्त्र उद्योग

Continue Reading विश्व बाजार में उभरता भारतीय वस्त्र उद्योग

सकारात्मक संकेत यह है कि मौजूदा सरकार वस्त्रोद्योग क्षेत्र में ढांचागत सुधार कर इसे फिर से पटरी पर लाकर तेज गति देने की दिशा में प्रयास कर रही है। ’मेक इन इंडिया’ कार्यक्रम के माध्यम से भारत को निर्माण तथा निर्यात का हब बनाने का अभियान चल ही रहा है।

आत्मनिर्भर भारत का वैचारिक अधिष्ठान

Continue Reading आत्मनिर्भर भारत का वैचारिक अधिष्ठान

हमें पश्चिमी प्रतिमानों या उदाहरणों का गहराई से अध्ययन विश्लेषण करना चाहिए और यदि संभव हो तो उनसे लाभ भी उठाना चाहिए। लेकिन उन्हें अपने भावी विकास का आदर्श प्रतिमान मानने की गलती नहीं करनी चाहिए। आत्मनिर्भरता का वैचारिक अधिष्ठान यही है।

मीडिया के उन ‘लिबरलों’ से रहें सतर्क

Continue Reading मीडिया के उन ‘लिबरलों’ से रहें सतर्क

कोरोना महामारी के दौरान मीडिया में तथ्यात्मक, सकारात्मक व नकारात्मक तीन स्वरूप उभरे हैं। इसमें से नकारात्मक खबरें बोने वाले वे वामपंथी हैं, जो अपने को ‘लिबरल’ कहलवाते हैं, लेकिन हैं प्रतिक्रियावादी। उनके चेहरों को समझना जरूरी है।

End of content

No more pages to load