बायकॉट बॉलीवुड

Continue Readingबायकॉट बॉलीवुड

आम जनता द्वारा किए जा रहे ‘बायकॉट बॉलिवुड’ ने फिल्मी धुरंधरों के हाथ- पांव फुला दिए हैं। सभी बड़े एक्टर्स अपने पुराने बयानी पापों को धोने के चक्कर में हैं लेकिन ‘लाल सिंह चड्ढा’ के आमिर की तरह नए पाप करने पर आमादा भी हैं। इसलिए अब लोगों ने मूड बना लिया है कि फिल्म वही हो जिसमें अपनी मिट्टी की सुगंध हो। मनोरंजन की आड़ में राष्ट्र-समाज विरोधी फिल्में बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

देश की आत्मा को झकझोरती द कश्मीर फाइल्स

Continue Readingदेश की आत्मा को झकझोरती द कश्मीर फाइल्स

‘द कश्मीर फाइल्स’ वामपंथी एजेंडे पर काम करने वाले बॉलीवुड के मुंह पर करारा तमाचा है। अब दर्शक एक तरफा नैरेटिव बर्दाश्त करने के लिए तैयार नहीं हैं। ये उन फिल्म निर्माताओं, जो अभिव्यक्ति की आज़ादी के नाम पर अपना एजेंडा सेट करते हैं, को चेतावनी भी है कि अब बदलते भारत के तेवरों का ध्यान रखें।

रियल से रील पर

Continue Readingरियल से रील पर

इतिहास को तोड़-मरोड़ कर पेश करने का वक्त अब जा चुका है। अब वक्त उसे ठीक करने का है। इसमें दर्शक वर्ग की भूमिका अत्यंत महत्वपूर्ण हो जाती है। यदि वे अच्छे कंटेंट को अपना समर्थन देंगे तो उसी तरह का कंटेंट बनाने के लिए फिल्मकार मजबूर होंगे। आज का दर्शक जागरूक है। अब वे किसी बात को ऐसे ही स्वीकार नहीं करता है। ये बात ‘शेरशाह’ को मिली सफलता और ‘भुज द प्राइड‘ को मिली असफलता से सिद्ध हो जाती है। वहीं जिस तरह से ‘द एम्पायर’ का विरोध हो रहा है, उससे आगे की कड़ियों को बनाने से पहले निर्माताओं को अवश्य सोचना पड़ेगा।

फिर जरा मुस्कुराइये

Continue Readingफिर जरा मुस्कुराइये

हिंदी सिनेमा के 108 वर्ष के इतिहास में यूं तो सैकड़ों अभिनेता-अभिनेत्रियां हुए हैं जिन्होंने अपने अभिनय से हिंदी फिल्मों में हास्य को जीवित रखा। ये ऐसे लोग थे जिनका चेहरा याद आते ही आदमी मुस्कुरा देता था। हास्य का यह रूप समय के साथ बदलता रहा है।

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के नाम पर

Continue Readingअभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के नाम पर

वेब सीरीज़ ‘पाताल लोक’ में पालतू कुतिया का नाम ‘सावित्री’ रख दिया गया। अब अगर ये अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता है तो ये एकतरफ़ा क्यों हैं? आज से 40 वर्ष बाद विश्व में मुस्लिम समुदाय का चित्रण करने की हिम्मत किसी में हैं?

आत्मनिर्भरता में मनोरंजन क्षेत्र की भूमिका

Continue Readingआत्मनिर्भरता में मनोरंजन क्षेत्र की भूमिका

आज भारत को आत्मनिर्भर बनाने की बात हो रही है। उसी स्वर्णिम गौरव शाली वैभव को वापस पाने की बात की जा रही है जब हमारे देश को सोने की चिड़िया कहा जाता था। इस स्वप्न को साकार करने में मनोरंजन जगत की अत्यंत महत्वपूर्ण भूमिका है।

फिल्मों में बढ़ती अभारतीयता और इस्लामिक प्रभाव

Continue Readingफिल्मों में बढ़ती अभारतीयता और इस्लामिक प्रभाव

सच पूछिए तो अभिव्यक्ति की आजादी के नाम पर फिल्मों ने एक मीठे जहर की तरह हमें हमारे ही विरुद्ध कब खड़ा कर दिया गया पता ही नहीं चला। आज भगवान का मज़ाक उड़ाती ‘ओह माई गॉड’, ‘पीके’ जैसी फिल्मों को देख कर लोग ताली बजाते हैं। लेकिन क्या कभी अल्लाह का मज़ाक उड़ाती किसी फिल्म को आपने देखा है?

End of content

No more pages to load