अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के नाम पर

Continue Reading अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के नाम पर

वेब सीरीज़ ‘पाताल लोक’ में पालतू कुतिया का नाम ‘सावित्री’ रख दिया गया। अब अगर ये अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता है तो ये एकतरफ़ा क्यों हैं? आज से 40 वर्ष बाद विश्व में मुस्लिम समुदाय का चित्रण करने की हिम्मत किसी में हैं?

आत्मनिर्भरता में मनोरंजन क्षेत्र की भूमिका

Continue Reading आत्मनिर्भरता में मनोरंजन क्षेत्र की भूमिका

आज भारत को आत्मनिर्भर बनाने की बात हो रही है। उसी स्वर्णिम गौरव शाली वैभव को वापस पाने की बात की जा रही है जब हमारे देश को सोने की चिड़िया कहा जाता था। इस स्वप्न को साकार करने में मनोरंजन जगत की अत्यंत महत्वपूर्ण भूमिका है।

फिल्मों में बढ़ती अभारतीयता और इस्लामिक प्रभाव

Continue Reading फिल्मों में बढ़ती अभारतीयता और इस्लामिक प्रभाव

सच पूछिए तो अभिव्यक्ति की आजादी के नाम पर फिल्मों ने एक मीठे जहर की तरह हमें हमारे ही विरुद्ध कब खड़ा कर दिया गया पता ही नहीं चला। आज भगवान का मज़ाक उड़ाती ‘ओह माई गॉड’, ‘पीके’ जैसी फिल्मों को देख कर लोग ताली बजाते हैं। लेकिन क्या कभी अल्लाह का मज़ाक उड़ाती किसी फिल्म को आपने देखा है?

End of content

No more pages to load