हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

मिशन शक्ति- नई सुरक्षा नीति

Continue Reading

पाकिस्तान की भारत विरोधी मानसिकता से इन आंतरिक राष्ट्रद्रोहियों तथा भारतीय शत्रुओं की मानसिकता तथा विचारधारा ज्यादा खतरनाक है। इन पर हम मिसाइल या बम नहीं दाग सकते हैं, इनका सफाया हमें इनकी भारत विद्रोही मानसिकता को बदल कर ही करना होगा।

महाशक्तियों का शतरंज

Continue Reading

उत्तर कोरिया की मगरूरी वास्तव में चीन की मगरूरी है। अमेरिका तथा चीन के बीच शतरंज का एक खेल उत्तर कोरिया को प्यादा बनाकर खेला जा रहा है। उसी प्रकार चीन व भारत के बीच शतरंज का मोहरा चीन ने पाकिस्तान को बनाया है। राष्ट्रतंत्र का एक अकाट्य सिद्धांत है, यदि आप गलत जड़ों को पानी देंगे तो आपको अच्छे फल कहां से व कैसे मिलेंगे? आज कुछ राष्ट्र ऐसे हैं जो पूरे विश्व के लिए समस्या बन गए हैं। इनमें चीन, उत्तर कोरिया तथा पाकिस्तान प्रमुख हैं। पूरे विश्व में अराजकता, असुरक्षा तथा अव्यवस्था का वातावरण बन गया है। यहां त

आक्रमण का नया तरीका – घुसपैठ

Continue Reading

घुसपैठ कई तरह की है। सामाजिक, आर्थिक, धार्मिक जैसे उसके कई आयाम हो सकते हैं। इसके प्रति सरकार और जनता दोनों को सतर्क रहने की आवश्यकता है। हमारी ढिलाई भविष्य की एक बड़ी और न सुलझने वाली समस्या को न्योता दे रही है इसे नहीं भूलना चाहिए।  मानव इतिहास इस वास्तविकता का साक्षी है कि हमारे राष्ट्रीय, राजनैतिक, सामाजिक, धार्मिक, आर्थिक, शैक्षणिक, जीवन में उत्पन्न होने वाली समस्याओं का एकमात्र कारण घुसपैठ ही होता है। घुसपैठ का असर राष्ट्रीय, राजनैतिक, सामाजिक, धार्मिक व आर्थिक जीवन पर अवश्य ही पड़ता है। अनेक बार प

कश्मीर में पनपा आतंकवाद और पाकिस्तान

Continue Reading

  राष्ट्रजीवन तथा राजनैतिक जीवन का एक महत्वपूर्ण सिद्धांत है ‘यदि आपने जहरीली जड़ों को सींचा तो आपको अच्छे फल कैसे मिलेंगे’? कश्मीर में फैले आतंकवाद का अध्ययन तथा विश्लेषण करने पर यह कटु सत्य सामने आता है। १९६५ के पाकिस्तान-भारत युद्ध

सवाल पाकिस्तान के वजूद का

Continue Reading

पाकिस्तान के लिए इस समय सब से बड़ी आवश्यकता यह है कि अपने-आप को, अपनी युवा पीढ़ी को आने वाली पीढ़ियों को अमेरिका तथा पश्चिमी देशों के प्रकोप से बचाए। अमेरिका का नया नेतृत्व पाकिस्तान को अवश्य दंडित करेगा। तब चीन भी पाकिस्तान की रक्षा नहीं कर पाएगा। पाकिस्तान का एक और विघटन होगा। फिर पाकिस्तान को अपना वजूद बनाए रखने के लिए भारत के पास ही आना होगा।

समर्थ ग्राम, समर्थ भारत

Continue Reading

२१ वीं सदी में एक महत्वपूर्ण परिवर्तन देखने को मिल रहा है। स्मार्ट सिटी, स्मार्ट शहर की कल्पना जोर पकड़ रही है। शहरों का व्यवस्थापन, शासन व्यवस्था, राष्ट्रीय प्रगति, उन्नति का मार्ग बन रही है। यह तर्क संगत नहीं लगता है। भारत की सम्वन्नता, उद्योजकता यद्यप

सक्षम, सजग तथा सुरक्षित भारत (विशेष संपादकीय

Continue Reading

सर्वांगीण तथा एकीकृत राष्ट्रीय सुरक्षा व्यवस्था (Comprehnesive and Integrale National Security) के सिद्धांतों का अध्ययन तथा विश्लेषण करें तो हमें पता चलता है कि मनुस्मृति तथा चाणक्य नीति के अनुसार किसी भी राष्ट्र की राष्ट्रीय सुरक्षा पर निम्न चार प

End of content

No more pages to load

Close Menu