हर पल खुशियों को तलाशने से बनेगा बेहतर जीवन

Continue Readingहर पल खुशियों को तलाशने से बनेगा बेहतर जीवन

प्रसन्नता का अर्थ हर व्यक्ति के लिए अलग-अलग हो सकता है। बावजूद इसके लोक कल्याणकारी राज्य की परिकल्पना हमारे संविधान में की गई है। ऐसे में जब हम बात लोक- कल्याण की करते हैं। फ़िर स्वतः ही प्रसन्नता का सूचक शब्द प्रस्फुटित हो जाता है। वैसे प्रसन्नता के मायने भले…

ओमिक्रॉन से लड़ने को तैयार भारत

Continue Readingओमिक्रॉन से लड़ने को तैयार भारत

कोवोवैक्स वैक्सीन नोवोवैक्स की रीकांबिनैंट नैनोपार्टिकल प्रोटीन आधारित वैक्सीन है। स्वदेशी कोर्बेवैक्स वैक्सीन भी प्रोटीन आधारित है। आशा है, इस वर्ष फरवरी माह तक कोर्बेवैक्स की प्रतिमाह 100 मिलियन खुराकें बनने लग जाएंगी। यदि बूस्टर खुराक के रूप में इन दोनों वैक्सीनों के प्रयोग का निर्णय लिया जाता है तो भारत में सभी वयस्कों को बड़ी तेजी से कोविड-19 के विरुद्ध प्रतिरक्षित किया जा सकता  है।

जलवायु परिवर्तन के बढ़ते खतरे और हमारे नौनिहालों की दशा

Continue Readingजलवायु परिवर्तन के बढ़ते खतरे और हमारे नौनिहालों की दशा

आज हम एक ऐसे दौर में पहुँच गए हैं। जहां जलवायु परिवर्तन एक गम्भीर समस्या बनती जा रही है और इसकी परिणीति हम सबके सामने है।जलवायु परिवर्तन के लिए बच्चे सबसे कम ज़िम्मेदार हैं लेकिन वे ही इसका सबसे अधिक कुप्रभाव झेल रहें हैं और आने वाले दिनों में भी…

सतर्क रहें तो तीसरी लहर नहीं बरपा सकेगी कहर

Continue Readingसतर्क रहें तो तीसरी लहर नहीं बरपा सकेगी कहर

भारत में कोरोना संक्रमण की रफ्तार एक बार फिर भयावह गति से बढ़ने लगी है और एक दिन में 1लाख 80000 से अधिक मामले सामने आने के बाद अब यह माना जा रहा है  कि देश में कोरोना की तीसरी लहर दस्तक दे चुकी है। दक्षिण अफ्रीका में मिला कोरोना…

सूर्य नमस्कार करने की सही विधि और लाभ

Continue Readingसूर्य नमस्कार करने की सही विधि और लाभ

ऐसा कहा जाता है कि अगर आप हर दिन सूर्य नमस्कार करते हैं तो आप को किसी और योग या एक्सरसाइज की जरूरत नहीं होगी। सूर्य नमस्कार को सभी योग का एक मिश्रण माना जाता है। इसके सभी 12 प्रकार एक ही तरह के होते हैं लेकिन उनके करने से…

योग का कोई धर्म नहीं, फिर सूर्य नमस्कार का विरोध कैसा?

Continue Readingयोग का कोई धर्म नहीं, फिर सूर्य नमस्कार का विरोध कैसा?

  सनातन धर्म में सूर्य को भगवान की उपमा दी गयी है और उनकी पूजा भी की जाती है लेकिन ऐसा सिर्फ सनातन धर्म में ही नहीं होता बल्कि और भी धर्मों में सूर्य की पूजा की जाती है। सूर्य पूरी दुनिया को धूप देता है लेकिन वह किसी एक धर्म…

ओमिक्रॉन: फिर लॉकडाउन की तरफ बढ़ रहा देश

Continue Readingओमिक्रॉन: फिर लॉकडाउन की तरफ बढ़ रहा देश

महाराष्ट्र और दिल्ली इस बार भी कोरोना संक्रमण का मुख्य केंद्र बना हुआ है, और हर मिनट के हिसाब से संक्रमण बढ़ता जा रहा है। राजधानी दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल खुद कोरोना के संक्रमण नहीं बच सके और उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आ गयी जबकि राज्य में 24 घंटे में…

कोरोना वायरस का चिंताजनक वैरिएंट ओमीक्रॉन

Continue Readingकोरोना वायरस का चिंताजनक वैरिएंट ओमीक्रॉन

इस ओमीक्रॉन वैरिऐंट में बड़ी संख्या में म्युटेशंस हैं जो किसी संक्रमण अथवा टीकाकरण के उपरांत विकसित उदासीनकारी यानी न्यूट्रलाइज़िंग एंटीबॉडीज़ और चिकित्सीय मोनोक्लोनल एंटीबॉडीज़ का विरोध कर सकते हैं। इसके स्पाइक प्रोटीन के विभेदन स्थल के आस- पास भी म्यूटेशन के समूह देखे जाते हैं। यह स्पाइक प्रोटीन वायरस को कोशिकाओं तक पहुंचाने में मदद करता है। कोरोना वायरस जितनी आसानी से कोशिकाओं में प्रवेश करते हैं उतनी ही तेजी से उनका उत्पादन भी होता है और उनकी संचारक क्षमता भी बढ़ जाती है।

तीसरी लहर अवश्यंभावी है तो अभी से सचेत हो जाएं

Continue Readingतीसरी लहर अवश्यंभावी है तो अभी से सचेत हो जाएं

लगभग एक माह पूर्व दक्षिण अफ्रीका में मिले कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमिक्रान ने अब तक  दुनिया के साठ से अधिक देशों को अपनी चपेट में ले लिया है । भारत में भी 16 से अधिक राज्यों में ओमिक्रान पांव पसार चुका है और  वहां ओमिक्रान  संक्रमण के तीन…

ओमीक्रॉन वैरिऐंट के विरुद्ध फ़िलहाल विशेष वैक्सीन जरूरी नहीं

Continue Readingओमीक्रॉन वैरिऐंट के विरुद्ध फ़िलहाल विशेष वैक्सीन जरूरी नहीं

विश्व में निरंतर बढ़ते कोरोनावायरस के नए ओमीक्रॉन वैरिऐंट के मामलों ने एक चिंताजनक स्थिति पैदा कर दी है। आज दुनिया के 89 से अधिक देशों में ओमीक्रॉन वैरिऐंट का प्रसार हो चुका है। और भारत में भी ओमीक्रॉन  वैरिऐंट के संक्रमण के 136 मामले प्रकाश में आ चुके हैं।…

बहुरूपिया वायरस से डरने की जगह सामना करें

Continue Readingबहुरूपिया वायरस से डरने की जगह सामना करें

भारत एवं पूरे विश्व में फिर कोरोना के नए रूप ओमीक्रोन ने आतंक पैदा कर दिया है। हालांकि कहीं इसका व्यापक मारक प्रसार नहीं दिखा है, किंतु कोरोना की पिछली कहर की भयावह स्मृतियां हर किसी के अंदर भय पैदा कर देगी। सबके मन में यही डरावना प्रश्न है कि…

End of content

No more pages to load