हरियाणा के सरकारी कर्मचारी क्यों नहीं ले सकते थे संघ में हिस्सा, खट्टर सरकार ने बदला नियम?

Continue Readingहरियाणा के सरकारी कर्मचारी क्यों नहीं ले सकते थे संघ में हिस्सा, खट्टर सरकार ने बदला नियम?

  राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) ने अपनी स्थापना के बाद से सिर्फ राष्ट्र प्रेम किया और लोगों की सेवा की, यह बात भी किसी से छिपी नहीं है लेकिन इन सब के बाद भी कुछ राजनीतिक पार्टियों के निशाने पर संघ हमेशा रहा है। हरियाणा सरकार की तरफ से वर्ष…

विश्व-बंधुत्व की भावना को साकार करता एकात्म मानवदर्शन और पंडित दीनदयाल उपाध्याय

Continue Readingविश्व-बंधुत्व की भावना को साकार करता एकात्म मानवदर्शन और पंडित दीनदयाल उपाध्याय

सरलता और सादगी की प्रतिमूर्त्ति पंडित दीनदयाल उपाध्याय बहुमुखी एवं विलक्षण प्रतिभा के धनी थे। उनका जीवन परिश्रम और पुरुषार्थ का पर्याय था। वे कुशल संगठक एवं मौलिक चिंतक थे। सामाजिक सरोकार एवं संवेदना उनके संस्कारों में रची-बसी थी। उनकी वृत्ति एवं प्रेरणा सत्ताभिमुखी नहीं, समाजोन्मुखी थी। एक राजनेता होते…

भारतबोध के साथ वैश्विक कल्याण का पथ ‘एकात्म दर्शन’

Continue Readingभारतबोध के साथ वैश्विक कल्याण का पथ ‘एकात्म दर्शन’

धरती के हर  मनुष्य के साथ  ठीक वैसा व्यवहार हो, जैसा हम दूसरों से अपने लिए चाहते हैं। परिवार, समाज,देश और यहां तक कि विश्व के सभी शासक अपने पर निर्भर लोगों के साथ उनके हित को ध्यान में रखते हुए एक जैसा व्यवहार करें को एकात्म मानव दर्शन का…

आज यशस्वी हो रही है राष्ट्रीय विचारधार – गोपाल शेट्टी (सांसद-भाजपा)

Continue Readingआज यशस्वी हो रही है राष्ट्रीय विचारधार – गोपाल शेट्टी (सांसद-भाजपा)

  उपनगर मुंबई के लोकप्रिय जननेता और गार्डन सम्राट के रूप में प्रसिद्ध भारतीय जनता पार्टी के सांसद गोपाल शेट्टी ने हिंदी विवेक को दिए अपने साक्षात्कार में राजनीति, समाजसेवा, युवाशक्ति, विचारशक्ति, भाजपा-शिवसेना सहित महाविकास आघाडी सरकार, एसआरए योजना, परिवारवाद आदि विषयों पर अपनी बेबाक राय रखी. प्रस्तुत है उनसे हुई…

मैं धर्म व जाति से परे एक भारतीय हूं- दादाभाई नौरोजी

Continue Readingमैं धर्म व जाति से परे एक भारतीय हूं- दादाभाई नौरोजी

"मैं धर्म व जाति से परे एक भारतीय हूं" यह शब्द है दादाभाई नौरोजी के जिन्होंने कहा था कि अगर एक शब्द के काम चल जाए तो दूसरे शब्द का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए उन्हें भारतीय राजनीति का पितामह भी कहा गया था। मुंबई के एक गरीब परिवार में जन्में…

End of content

No more pages to load