वाराणस्यां तु विश्वेशं

Continue Readingवाराणस्यां तु विश्वेशं

  आनन्द कानन या आनन्द वन के नाम से संबोधित किए जानेवाले मानव सभ्यता के प्राचीनतम नगर काशी के सबसे महत्वपूर्ण धर्म स्थलों में से एक काशी विश्वनाथ धाम आज सम्पूर्ण विश्व के सनातन हिंदुओं के लिए परमानन्द का कारण बन गया है।

काशी विश्वनाथ : राष्ट्र पुनर्जागरण की दृष्टि

Continue Readingकाशी विश्वनाथ : राष्ट्र पुनर्जागरण की दृष्टि

करोड़ों हिंदुओं की आस्था के केंद्र बाबा विश्वनाथ के मंदिर का विहंगम दृश्य मात्र एक भवन का नवीनीकरण नहीं है। यह हमारी मान्यताओं, प्रतीकों और संस्कृति के संरक्षण का ऐतिहासिक उत्सव है।

2022 भारत के लिए युग परिवर्तनकारी हो सकता है

Continue Reading2022 भारत के लिए युग परिवर्तनकारी हो सकता है

ईसा संवत 2022 की शुरुआत और 2021 के बीच कई समानताएं हैं। 2021 भी कोरोना के भय और प्रकोप के माहौल में शुरू हुआ था और 2022 भी उसके नए वेरिएंट ओमीक्रोन के खतरे के साए में पैदा हुआ है।

काशी बना भारतीय संस्कृति के गौरव का प्रतीक

Continue Readingकाशी बना भारतीय संस्कृति के गौरव का प्रतीक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा काशी विश्वनाथ कॉरिडोर के लोकार्पण के साथ इतिहास के एक महत्वपूर्ण अध्याय का निर्माण हुआ। प्रमुख संप्रदायों के संतों की मौजूदगी में महादेव का अनुष्ठान हुआ। गंगा घाटों के साथ शहर की प्रमुख भागों को सजाया गया था। काशी विश्वनाथ मंदिर के सात संपूर्ण कॉरिडोर के…

काशी नगरी के अनोखे कोतवाल जब औरंगजेब पर पड़े थे भारी

Continue Readingकाशी नगरी के अनोखे कोतवाल जब औरंगजेब पर पड़े थे भारी

काशी नगरी की महिमा अद्भुत और अपार है कहा जाता है कि काशी नगरी भगवान शंकर के त्रिशूल पर बसी हुई है। इसे मोक्ष की नगरी भी कहा जाता है। हिन्दू धर्मग्रंथों से यह पता चलता है कि लोग अपनी अंतिम सांस काशी में लेना चाहते थे क्योंकि यहां प्राण त्यागने…

दान से बनी विद्या की राजधानी काशी हिन्दू विश्वविद्यालय

Continue Readingदान से बनी विद्या की राजधानी काशी हिन्दू विश्वविद्यालय

‘नवाब साहब क्षमा करें। मैं काशी से चलकर आपके पास आया हूूं। आपकी रियासत का पूरी दुनिया में नाम है। मैं अगर यहां से खाली हाथ गया तो आप की तौहीन होगी। इसीलिए सोचा की आप के जूतों को नीलाम करके कुछ धन एकत्र करलूं और उसके बाद काशी जाऊं, जिससे मैं काशी की प्रजा को बता सकूं कि हैदराबाद से काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के लिए दान मिला है।’- महामना मालवीय

भारतेंदू हरिश्चंद्र: आधुनिक हिन्दी साहित्य के पितामह

Continue Readingभारतेंदू हरिश्चंद्र: आधुनिक हिन्दी साहित्य के पितामह

बरषा सिर पर आ गई हरी हुई सब भूमि बागों में झूले पड़े, रहे भ्रमण-गण झूमि करके याद कुटुंब की फिरे विदेशी लोग बिछड़े प्रीतमवालियों के सिर पर छाया सोग खोल-खोल छाता चले लोग सड़क के बीच कीचड़ में जूते फँसे जैसे अघ में नीच भारतेंदु हरिश्चंद्र को उनके साहित्य…

जयंती: धनपत राय से बने मुंशी प्रेमचंद्र

Continue Readingजयंती: धनपत राय से बने मुंशी प्रेमचंद्र

मुंशी प्रेमचंद एक ऐसा नाम जिसे सुनते ही मन में हजारों कहानियां मन में घूमने लगती है, सैकड़ों किताबें याद आने लगती है। एक सफल लेखक, शिक्षक, कुशल वक्ता, संपादक और उपन्यास सम्राट जैसे कई गुणों से भरपूर थे अपने मुंशी जी। उनके लेखन का दौर करीब 1880 से लेकर 1936…

वाराणसी के रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर की एक झलक

Read more about the article वाराणसी के रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर की एक झलक
वाराणसी के रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर की एक झलक
Continue Readingवाराणसी के रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर की एक झलक

भारत और जापान की दोस्ती की मिसाल वाराणसी का रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर अब आम जनता के लिए खोल दिया गया है। वाराणसी के सांसद और देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को इसका उद्घाटन किया और राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मौजूदगी में इस रुद्राक्ष भवन को वाराणसी…

End of content

No more pages to load