राम मंदिर नींव के एक तरफ क्यों लगाया गया है भगवा ध्वज ?

राम मंदिर का निर्माण कार्य तेजी से आगे बढ़ रहा है और समय समय पर उसकी तस्वीरें भी राम भक्तों के लिए जारी की जा रही है। ट्रस्ट की तरफ से मीडिया को बुलाया गया और मंदिर निर्माण कार्य के बारे में सूचना दी गयी। राम मंदिर के नींव का काम अपने अंतिम चरण की तरफ बढ़ रहा है। नींव की भराई हो चुकी है और यह अब बाहर से भी नजर आने लगा है। मंदिर ट्रस्ट के मुताबिक नींव की भराई का काम करीब 14 मीटर की ऊंचाई तक हो चुका है। यह नींव नहीं बल्कि अपने आप में एक चट्टान है जिस पर प्रभु श्री राम का मंदिर निर्माण होगा। नींव की भव्यता को देखते हुए इस बात का अंदाजा लगाया जा सकता है कि मंदिर निर्माण के बाद कैसी सुंदरता प्रतीत होगी। 
 
ट्रस्ट के मुताबिक इस सप्ताह के अंत तक मंदिर के नींव का आखिरी काम भी पूरा हो जायेगा। नींव पर अभी 1.5 मीटर की कंक्रीट की एक और परत चढ़ाई जानी बाकी है। नींव का काम पूरा होने के बाद अब वह आधार शिला तैयार की जाएगी जिस पर मंदिर का निर्माण होगा। आधार भूमि की मोटाई 16 फीट होगी और इसके लिए मिर्जापुर व बंसी पहाड़पुर की चट्टानों का इस्तेमाल किया जाएगा इसमें संगमरमर का भी इस्तेमाल होगा जो उसकी खूबसूरती को बढ़ाएगा। मंदिर निर्माण में कही तरह की रुकावटें आ रही है लेकिन इन सभी को ध्यान में रखते हुए 3 शिफ्ट में काम किया जा रहा है जिससे निर्माण कार्य निरंतर जारी है।  
 
मंदिर के विशालकाय नींव पर नजर डालते हैं तो वहां एक परम पूज्य भगवा ध्वज नजर आता है जिसको लेकर ट्रस्ट की तरफ से बताया गया कि यह वही स्थान है जहां पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भूमि पूजन किया था और उसके पहले से राम लला भी यहीं पर विराजमान थे। मंदिर निर्माण के बाद राम लाल को फिर से इसी स्थान पर विराजमान किया जाएगा। भगवा ध्वज को इसलिए उस स्थान पर लगाया गया है क्योंकि खुदाई से लेकर नींव की ढलाई के दौरान यह स्थान बदल सकता था। दिसंबर 2023 तक मंदिर का निर्माण कार्य पूरा हो जायेगा और इसके बाद लोगों को मंदिर दर्शन का लाभ मिल सकेगा जबकि पूरा मंदिर निर्माण कार्य 2025 तक पूरा होगा। 
 
नींव की भराई का काम पूरा होने के बाद दूसरे फेज का काम शुरू होगा इसमें करीब डेढ़ मीटर मोटी परत बिछाई जाएगी जिसमें 2 महीने का समय लग सकता है। इसके बाद तीसरे फेज के तहत मंदिर की प्लिंथ तैयार की जाएगी यह प्लिंथ लाल बलुआ पत्थर और संगमरमर से तैयार होगी जिसकी मोटाई 6 मीटर तक होगी। तीसरे फेज का काम पूरा होने में करीब 4 महीने का समय लग जाएगा इस हिसाब से दूसरे और तीसरे फेज का काम पूरा होने में 6 महीने का समय जाएगा।  360 फीट लम्बे, 235 फीट चौड़े और 161 फीट ऊंचे राम मंदिर की भव्यता देखने लायक होगी। राम मंदिर तीन तल का होगा जिसमें गर्भगृह में रामलला के दर्शन होंगे दूसरे तल पर भगवान राम का दरबार होगा जिसे राम दरबार भी कहा जाता है। यह भारत का एक विशाल पर्यटक स्थल भी बनेगा।

आपकी प्रतिक्रिया...