मोदी जी के नेतृत्व में बदलाव की ओर अग्रसर भारत

Continue Readingमोदी जी के नेतृत्व में बदलाव की ओर अग्रसर भारत

2014 के लोकसभा चुनावों में भारतीय जनता पार्टी की अभूतपूर्व विजय और नरेन्द्र मोदी जी के प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ग्रहण के साथ ही भारत तमाम समस्याओं और चुनौतियां के बाद भी तेजी से बदलाव की ओर अग्रसर हो रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी कार्य शैली और…

पाकिस्तान की भारत और हिंदुओं से नफरत की फितरत

Read more about the article पाकिस्तान की भारत और हिंदुओं से नफरत की फितरत
India-Pakistan relations. Conflict between India and Pakistan over Kashmir
Continue Readingपाकिस्तान की भारत और हिंदुओं से नफरत की फितरत

पाकिस्तान आज दाने दाने को मोहताज है। परन्तु भारत और हिंदुओं से नफरत चरम पर है। ज्ञानवापी में पुरातात्विक सामग्री मिलने को भारत मे नहीं पाकिस्तान भी नकारा जा रहा है। पाकिस्तान मे भी औरंगजेब को हीरो मानते हैं क्योंकि उसने मन्दिर तोड़े और काफिरों का कत्ल किया। जब भारत…

कानपुर की धरा बनी अयोध्या

Continue Readingकानपुर की धरा बनी अयोध्या

बैसाख कृष्ण प्रतिपदा, विक्रम सम्वत 2079, 17 अप्रैल 2022 आज भारतेश्वरी माता सीता एवं राष्ट्रपुरुष श्रीराम जी के पुत्रों लव-कुश की जन्मस्थली कानपुर से विश्व हिन्दू परिषद ने "भारतवर्ष के बच्चे बच्चे में प्रभु श्रीराम जी के चरित्र-गुण-धर्म के संस्कारों का प्रवेश हो, जो समाज से भेदभाव, वैमनस्यता आदि को…

नेपाल पुनः एक हिंदू राष्ट्र बने, यह भारत के हित में

Continue Readingनेपाल पुनः एक हिंदू राष्ट्र बने, यह भारत के हित में

नेपाल एक बहुत खूबसूरत दक्षिण एशियाई राष्ट्र है। नेपाल के उत्तर मे तिब्बत है तो इसके दक्षिण, पूर्व व पश्चिम में भारत की सीमाएं लगती हैं। नेपाल के 81.3 प्रतिशत नागरिक सनातन हिन्दू धर्म को मानते है। नेपाल पूरे विश्व में प्रतिशत के आधार पर सबसे बड़ा हिन्दू धर्मावलम्बी राष्ट्र…

भारतबोध जागृत हो रहा है

Continue Readingभारतबोध जागृत हो रहा है

पिछले कुछ महीनों से भारतीय समाज में एक परिवर्तन दिखाई दे रहा है। इसे कुछ लोग सामाजिक ध्रुविकरण कह रहे हैं, कुछ लोग बंटवारे की राजनीति कह रहे हैं, कुछ लोग गंगा-जमुनी संस्कृति पर प्रहार मान रहे हैं। कर्नाटक में हिजाब प्रकरण के बाद हिंदू युवाओं द्वारा भगवा गमछे ओढ़ना,…

जयंती: युगों युगों तक अमर रहेंगे महाराजा अग्रसेन

Continue Readingजयंती: युगों युगों तक अमर रहेंगे महाराजा अग्रसेन

भारतवर्ष में ऐसे तमाम देवी-देवताओं और राजाओं ने जन्म लिया है जिन्हे युगों युगो तक याद किया जाता रहेगा। ऐसे युगान्तर राजा के बताए मार्ग पर लोग आज भी चल रहे हैं। ऐसे लोगों को उनके सेवाभाव, प्रेम और उनकी नीति के लिए जाना जाता है। महाराजा अग्रसेन भी ऐसे…

सिद्धि और साधना का पर्व शारदीय नवरात्र

Continue Readingसिद्धि और साधना का पर्व शारदीय नवरात्र

केरल में नवरात्रि देवी सरस्वती के सम्मान के रूप में  मनायी जाती है। इन नौ दिनों को केरल में सबसे शुभ माना जाता है। तमिलनाडु में नवरात्रि के समय गुड़ियों का एक प्रसिद्ध त्योहार मनाया जाता है, जिसे बोम्मई कोलू कहा जाता है।

दाह-क्रिया एवं श्राद्धकर्म का विज्ञान

Continue Readingदाह-क्रिया एवं श्राद्धकर्म का विज्ञान

मादा कौवा सावन-भादों यानी अगस्त-सितंबर में अंडे देती है। इन्हीं माहों में श्राद्ध पक्ष पड़ता है इसलिए ऋषि-मुनियों ने कौवों को पौष्टिक आहार खिलाने की परंपरा श्राद्ध पक्ष से जोड़ दी, जो आज भी प्रचलन में है। दरअसल इस मान्यता की पृष्ठभूमि में बरगद और पीपल वृक्षों की सुरक्षा जुड़ी है, जिससे मनुष्य को 24 घंटे ऑक्सीजन मिलती रहे।

संवेदनशील भारत की सेवागाथा

Continue Readingसंवेदनशील भारत की सेवागाथा

कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए प्रधानमंत्री ने रविवार 22 मार्च 2020 को जनता कर्फ़्यू का आवाहन किया और 25 मार्च को सारे देश में लॉकडाउन की घोषणा हुई।

महारानी दुर्गावती ने जब अकबर को दिया था लोहा, जबलपुर में आज भी होती है इस वीरांगना की पूजा

Continue Readingमहारानी दुर्गावती ने जब अकबर को दिया था लोहा, जबलपुर में आज भी होती है इस वीरांगना की पूजा

  आज हमारे देश की सभ्यता और संस्कृति बची है तो उसके लिए कुछ लोगों को अपना बलिदान देना पड़ा था जिसमें एक नाम महारानी दुर्गावती का भी है। महारानी ने अपने राज्य, देश और आत्मसम्मान के लिए शस्त्र धारण किया और अंतिम समय तक मुगलों से लड़ते हुए अमरत्व…

वैश्विक हिंदुत्व ख़त्म करने का षड़यंत्र

Continue Readingवैश्विक हिंदुत्व ख़त्म करने का षड़यंत्र

इनके इस पूरे क्रियाकलाप को यदि आप टुकड़ों में देखेंगे तो वामपंथ समझ में नहीं आएगा परंतु जब अनेक घटनाओं, अलग-अलग परिदृश्य को एकसाथ जोड़कर देखेंगे तो समझ आएगा कि जो स्वयं पर सिविल सोसाइटी लबादा ओढ़े हैं। उस लबादे के पीछे कबीलाई या कहिए वहशी जानवर छिपे हैं। ये सभ्य समाज का हिस्सा नहीं है।

आधुनिक विज्ञान के अनुकूल वैदिक ज्ञान…

Continue Readingआधुनिक विज्ञान के अनुकूल वैदिक ज्ञान…

हम भारतीय के रूप में महान संतों और हमारे पूर्वजों द्वारा लिखे गए पवित्र वेदों और हिंदू संस्कृति के ग्रंथों के गहरे और वास्तविक अर्थ को समझने में विफल रहे हैं।  मनोवैज्ञानिक रूप से देखा जाए तो हमारे प्राचीन काल के किसी भी ज्ञान को कहानी के माध्यम से दिखाने…

End of content

No more pages to load