राम मंदिर नींव के एक तरफ क्यों लगाया गया है भगवा ध्वज ?

Read more about the article राम मंदिर नींव के एक तरफ क्यों लगाया गया है भगवा ध्वज ?
Ayodhya: A view of the ongoing construction work of the Ram Mandir in Ayodhya, Thursday, Sept. 16, 2021. The foundation work of the temple is nearing completion. (PTI Photo)(PTI09_16_2021_000172A)
Continue Readingराम मंदिर नींव के एक तरफ क्यों लगाया गया है भगवा ध्वज ?

राम मंदिर का निर्माण कार्य तेजी से आगे बढ़ रहा है और समय समय पर उसकी तस्वीरें भी राम भक्तों के लिए जारी की जा रही है। ट्रस्ट की तरफ से मीडिया को बुलाया गया और मंदिर निर्माण कार्य के बारे में सूचना दी गयी। राम मंदिर के नींव का…

हिंदुत्व के खिलाफ बैठक करने वाले हिंदुत्व से अज्ञान, यह कोई सामान नहीं जिसे खत्म किया जा सके

Continue Readingहिंदुत्व के खिलाफ बैठक करने वाले हिंदुत्व से अज्ञान, यह कोई सामान नहीं जिसे खत्म किया जा सके

डिस्मेंटल (Dismantle) का अर्थ होता है किसी भी चीज को तोड़ना या ध्वस्त करना लेकिन किसी धर्म के लिए आप का डिस्मेंटल से अर्थ क्या हो सकता है जी हां हम बात कर रहे हैं हाल ही में अमेरिका में हुए डिस्मेंटल ग्लोबल हिन्दुत्व (Dismantle global hindutva) के बारे में जहां…

व्यक्ति,परिवार,राष्ट्र निर्माण के आराध्य गणपति

Continue Readingव्यक्ति,परिवार,राष्ट्र निर्माण के आराध्य गणपति

भगवान् गणपति जी के दो स्वरूप हैं । एक आध्यात्मिक जो सूक्ष्म है, अदृश्य है और दूसरा सांसारिक जो स्थूल है और दृश्यमान । हमारे शरीर में कुल पाँच गण हैं, प्रत्येक गण में पांच सूत्र । इस प्रकार ये कुल 25 गणसूत्र कहलाते हैं जिनसे हम काम करते हैं,…

भगवान श्रीगणेश के जन्म का रहस्य

Continue Readingभगवान श्रीगणेश के जन्म का रहस्य

भारतीय धर्म और संस्कृति में भगवान श्रीगणेश सर्वप्रथम पूजनीय और प्रार्थनीय हैं। भगवान श्री गणेश अग्र पूज्य, गणों के ईश गणपति, स्वस्तिक रूप तथा प्रणव स्वरूप हैं। उनकी पूजा के बगैर कोई भी मंगल कार्य शुरू नहीं होता। इन्हें विघ्न विनाशक और बुद्धि प्रदाता भी कहा जाता है। इसके स्मरण…

महिलाएं क्यों रखती हैं हरितालिका तीज का निर्जला व्रत?

Continue Readingमहिलाएं क्यों रखती हैं हरितालिका तीज का निर्जला व्रत?

उत्तर भारत में 'तीज' के नाम से महिलाओं का बहुत ही प्रचलित व्रत होता है हालांकि यह काफी कठिन होता है क्योंकि इस दिन महिलाओं को बिना अन्न व जल के पूरा दिन और रात रहना होता है। सूर्योदय के बाद से अगले सूर्योदय तक व्रत करने वाली महिला अन्न-जल…

मुंशी प्रेमचंद की गाय बनाम राष्ट्रीय पशु

Continue Readingमुंशी प्रेमचंद की गाय बनाम राष्ट्रीय पशु

गौकशी के एक मामले की सुनवाई करते हुए इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने एक महत्वपूर्ण टिप्पणी की है कि गाय भारत की संस्कृति का अभिन्न अंग है, अतएव इसे राष्ट्रीय पशु घोषित किया जाना चाहिए। न्यायालय ने जावेद नामक व्यक्ति की जमानत याचिका खारिज करते हुए यह बात कही। जावेद पर…

विज्ञान और रोजगार में संस्कृत की बड़ी भागीदारी

Continue Readingविज्ञान और रोजगार में संस्कृत की बड़ी भागीदारी

आमतौर से भारत ही नहीं दुनिया में अंग्रेजी को विज्ञानऔर रोजगार की भाषा माना जाता है। किंतु अब यहमिथक व्यापक स्तर पर टूटता दिख रहा है। नई शिक्षानीति का यदि निष्पक्षता और ईमानदारी से पालन होता हैतो वह दिन दूर नहीं जब हम संस्कृत समेत अन्यभारतीय भाषाओं को पूर्ण रूप…

भारतीय पारंपरिक खानपान का खजाना

Continue Readingभारतीय पारंपरिक खानपान का खजाना

हमारी भारतीय परंपरा विश्व भर मे इसकी सभ्यता, तथा खानपान के लिए जानी जाती है। जिस तरह भारत मे अपने आप मे बहुत विविधताएँ है, जेसे रहन सहन, पहनावा, वातावरण, उसी तरह उत्तर, दक्षिण, पूर्व, पश्चिम के खान पान मे भी विविधताएँ देखने को मिलती है। जो वहाँ के वातावरण,मौसम,…

बहन बेटियों की रक्षा का कवच बनना होगा

Continue Readingबहन बेटियों की रक्षा का कवच बनना होगा

आज फिर से जरूरत है उसी देश भक्ति और देश प्रेम की जिसमें आक्रोश था! गुस्सा था! गुलामी की जंजीरों को उखाड़ फेंकने का जज्बा था l हालांकि विद्रोह की आग तो 1857 से भड़कनी शुरू हो गई थी, और तमाम क्रांतिकारियों  ने आजादी के इस यज्ञ में अपने जीवन…

स्व.भुजंग लक्ष्मण वेल्हाल उपाख्य अप्पाजी

Continue Readingस्व.भुजंग लक्ष्मण वेल्हाल उपाख्य अप्पाजी

स्व.भुजंग लक्ष्मण वेल्हाल उपाख्य अप्पाजी जन्म        :-  १९ /१२/1922 स्वर्गारोहण:-  ०१/०८/२०२१ भारत के उत्तर पूर्वांचल के मणिपुर राज्य के इंफाल से ४० कि.मी.दूर थोबाल जिलेके काकचिंग गाव में वनवासी कल्याण आश्रम का बालक छात्रावास है।जिसमें मरींग नागा जनजाति के अधिकांश बालक रहते हैं।सन १९८९ क दिसंबर माह था।जबरदस्त ठंड रहती…

संकल्पशक्ति से होगा अखंड भारत का निर्माण

Continue Readingसंकल्पशक्ति से होगा अखंड भारत का निर्माण

जो राष्ट्र अपनी सीमाओं का विस्तार नहीं करता वह धीरे-धीरे सिमटता चला जाता है और अपने पतन को प्राप्त होता है. भारत के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ इसलिए आज हम सिमट कर रह गए है. ऐसे समय में अखंड भारत की संकल्पना ही वह एकमात्र उर्जा शक्ति है…

फैशन पर भारी खादी

Continue Readingफैशन पर भारी खादी

खादी वस्त्र नहीं विचार है, भारतीय संस्कृति का आधार है। खादी हिंदुस्थान की समस्त जनता की एकता और उसकी आर्थिक स्वतंत्रता का प्रतीक है। करोड़ों को वह रोजगार देती है, अपनत्व देती है। खादी ने अब करवट ली है, वह आधुनिक फैशन और ग्लैमर का हिस्सा बन गई है।

End of content

No more pages to load