काम करे मशीन शरीर करे जिम

Read more about the article काम करे मशीन शरीर करे जिम
People on Treadmills
Continue Readingकाम करे मशीन शरीर करे जिम

आधुनिकता के नाम पर हम सुविधाभोगी और परजीवी होते जा रहे हैं। अपने पूर्वजों के विपरीत मेहनत करने की प्रवृत्ति से जी चुराने की वजह से हमारे शरीर में तमाम शारीरिक बीमारियां घर करती जा रही हैं और उनसे छुटकारा पाने के लिए डॉक्टर हमें जिम ‘ज्वाइन’ करने की सलाह देते हैं जबकि  ज्यादातर मामलों में हम अपनी जीवन शैली में बदलाव करके शरीर फिट रख सकते हैं।

जब ब्राजील ने जर्मनी की दीवार ढहा दी 

Continue Readingजब ब्राजील ने जर्मनी की दीवार ढहा दी 

कान के निचले हिस्से से भी दो इंच तक की कलमों वाला यह खिलाड़ी अपनी टीम को लगभग अपने बूते पर फाइनल में लेकर आया था। वह तो लीग मैच में आयरलैंड के रोबी कीन ने पता नहीं कहां से दीवार में हल्की सी छेंद कर दी थी वरना दुनिया भर की सारी आंधियां इससे टकराकर वापस लौट जाती थीं।

भारत की बेटी जिसने एवरेस्ट विजय की

Continue Readingभारत की बेटी जिसने एवरेस्ट विजय की

प्रख्यात अंग्रेजी लेखक सर सलमान रुश्दी ‘मिडनाइट्स चिल्ड्रेन’ में लिखते हैं कि, तारीख और समय बहुत मायने रखते हैं।  आज भी हम इन दोनों की बात करेंगे क्योंकि तारीखों के साथ ही साथ समय भी इतिहास का हिस्सा होता है। हां, तो हम बात करते हैं। दिन और समय नोट…

मधुमक्खी से संचालित होता है प्रकृति का चक्र

Continue Readingमधुमक्खी से संचालित होता है प्रकृति का चक्र

आज पांचवा विश्व मधुमक्खी दिवस है। पर्यावरण प्रणाली में मधुमक्खियों के महत्व और उनके संरक्षण के प्रति लोगों को जागरूक करने के उद्देश्य से हर वर्ष 20 मई को विश्व मधुमक्खी दिवस के तौर पर मनाया जाता है। इसे मनाने का प्रस्ताव स्लोवेनिया के बीकीपर्स एसोसिएशन के नेतृत्व में 20 मई 2017 को संयुक्त राष्ट्र के सम्मुख रखा गया था, जबकि…

कहानी वैक्सीन के जन्मदाता की

Continue Readingकहानी वैक्सीन के जन्मदाता की

2019 की शुरुआत में पूरी दुनिया एक नयी बीमारी कोविड-19 की चपेट में आ गयी थी। साल के उत्तरार्ध में लगभग हर बड़े देश और दवाओं पर अनुसंधान करने वाली कम्पनी को उपचार के तौर पर बस एक ही विकल्प दिखाई दे रहा था। सबको पता था कि इस बीमारी…

…ऑस्कर, नाम तो सुना ही होगा !!

Continue Reading…ऑस्कर, नाम तो सुना ही होगा !!

विश्व का शायद ही कोई कोना हो जहां इंसान  रहते हों और फिल्में ना देखी  जाती हों। कहीं बड़े धूमधाम से बनती हैं और लोग उनके रिलीज होने का महीनों या सालों इंतजार करते हैं, तो कहीं पर लोग तमाम प्रतिबंधों के बावजूद चोरी-छिपे देख ही लेते हैं। कट्टप्पा ने बाहुबली…

जब 24 साल पहले भारत ने दुनिया को चौंकाया था

Continue Readingजब 24 साल पहले भारत ने दुनिया को चौंकाया था

अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व में वर्तमान सरकार ने अभी कामकाज संभाला ही था कि 11 और 13 मई को भारत ने एक ऐसा कारनामा कर दिखाया कि पूरी दुनिया दंग रह गई। उस समय भारत पर अंतरराष्ट्रीय दबाव काफी ज्यादा था, लेकिन तत्कालीन प्रधान मंत्री  ने तय किया कि किसी भी हाल में परीक्षण…

जगा देश का वीर सपूत, बापा का बीर बबर जागा

Continue Readingजगा देश का वीर सपूत, बापा का बीर बबर जागा

 उन्होंने राष्ट्रप्रेम, सर्वधर्म सद्भाव, सहिष्णुता, करुणा, स्वाधीनता के लिए युद्ध, नीतिगत आदर्शों की पालना, मानवाधिकारों की सुरक्षा, स्त्री सम्मान, पर्यावरण एवं जल संरक्षण सर्वसामान्य को आदर तथा साहित्य एवं संस्कृति के प्रति सम्मान में बहुत योगदान दिया तथा विश्ववल्लभ और व्यवहार आदर्श जैसे दो ग्रथों की रचना भी करवाई। उन्होंने देश की सम्रद्धि बनाए रखने के लिए प्रताप ने धातुओं की खदानों की सुरक्षा की ओर प्रमुखता से ध्यान दिया। महाराणा की समाधि चावंड के निकट बान्डोली गांव में है।

तबला वादन को नई उंचाई देने वाले किशन महाराज

Continue Readingतबला वादन को नई उंचाई देने वाले किशन महाराज

विद्यार्थी जीवन से ही मेरा संकटमोचन मंदिर जाने का क्रम रहा है। आज भी गांव जाने पर कोशिश रहती है कि हर शनिवार को अपने दर्शन कर सकूं। 1995 से लेकर 1999 तक मैं साइकिल से जाता रहा था।  इसी दौरान पिपलानी कटरा में साइकिल की बड़ी दुकान के सामने…

भगवान को फ़िल्मी परदे पर उतारने वाले दादासाहेब फालके

Continue Readingभगवान को फ़िल्मी परदे पर उतारने वाले दादासाहेब फालके

1910 का क्रिसमस का दिन। हिंदुस्तान में अंग्रेजी राज की आर्थिक राजधानी बंबई रौशनी से नहायी थी। सत्ताधारियों के भगवान के जन्मदिन का त्यौहार हर किसी को लुभा रहा था। अभी वह दौर नहीं आया था कि अंग्रेजियत के बहिष्कार का नारा माहौल में घुला हो। लाल-बाल-पाल का गरम दल अभी…

…ताकि पृथ्वी बची रहे

Continue Reading…ताकि पृथ्वी बची रहे

उन गरीब देशों को सभ्य बनाने के लिए इनके पास केवल बम हैं। हरिशंकर परसाई के शब्दों में, विकसित राष्ट्र बम गिराते हैं और लोगों को लगता है कि सभ्यता बरस रही है। तथाकथित नव अगुआ चीन ने तो एक नया बम तैयार कर लिया है। छोटे देशों का इतना दोहन करके पंगु बना दो कि वे दिवालिया हो जाएं।

महाराष्ट्र का विकास हिंदीभाषियों के साथ

Continue Readingमहाराष्ट्र का विकास हिंदीभाषियों के साथ

मायानगरी मुंबई की खासियत है कि यहां जो आता है, यहीं का होकर रह जाता है। उत्तर भारतीय भी यहां की आबोहवा में इतने विलीन हो चुके हैं कि परायापन कब विदा हो चुका यह उन्हें भी पता नहीं चला। मुंबई ने उन्हें बहुत कुछ दिया और उन्होंने भी मुंबई को अपनी मेहनत से खूब दिया। शेष महाराष्ट्र में भी इससे जुदा स्थिति नहीं है।

End of content

No more pages to load