र्मिशनरियों और नक्सलियों का खतरनाक गठजोड़

Continue Reading र्मिशनरियों और नक्सलियों का खतरनाक गठजोड़

पालघर में संतों की पीट-पीट कर की गई हत्या ईसाइयों और वामपंथियों के गठजोड़ का ही परिणाम है। इस गहरी साजिश का पता लगाकर उन पर अंकुश के लिए सरकार को त्वरित कदम उठाने चाहिए।

नर पिशाचों की बलि ही इंसाफ ?

Continue Reading नर पिशाचों की बलि ही इंसाफ ?

महाराष्ट्र के पालघर जिला में साधुओं की मॉब लॉन्चिंग मामले में पूरे देश भर में आक्रोश की लहर फैलती जा रही है और सोशल मीडिया पर इस पर तीखी प्रतिक्रिया देखी जा रही है। सभी अपनी मनोभावना साझा करते हुए दोषियों को तत्काल फांसी की सजा देने की मांग कर रहे है। 

“वैश्विक आतंकवाद का केंद्र तब्लीगी जमात”

Continue Reading “वैश्विक आतंकवाद का केंद्र तब्लीगी जमात”

तब्लीगी जमात जेहाद द्वारा मज़हब विशेष की अपेक्षाकृत कम कट्टर अथवा उदारवादी कही जाने वाली शांतिदूत जमात को चरणबद्ध तरीके से 4 चरणों में बेहद कट्टर और उग्र वहाबी और सलाफी विचारधारा वाली वहाबी जमात में परिवर्तित किया जाता है।

समाज, संस्था और सरकार मिल कर करें नए भारत का निर्माण – गिरीश भाई शाह

Continue Reading समाज, संस्था और सरकार मिल कर करें नए भारत का निर्माण – गिरीश भाई शाह

केवल सरकार देश की सारी समस्याओं का समाधान नहीं कर सकती। उसमें समाज को भी अपना योगदान देना होगा। इसलिए सरकार और सामाजिक संस्थाओं का समन्वय जरूरी है। इसके लिए गिरीश भाई लगातार प्रयासरत हैं।

सीएए विरोध की वास्तविकता?

Continue Reading सीएए विरोध की वास्तविकता?

भारत के अलावा दुनिया में कौन सा देश ऐसा है जो इन्हें शरण देगा? मुसलमानों के लिए तो घोषित रूप से दुनिया में 50 से अधिक देश है, जहाँ उन्हें शरण मिल जाएगी। लेकिन इन हिन्दू, सिख, बौद्ध, और जैनों के लिए तो एकमात्र भारत ही आखिरी उम्मीद है।

सुप्रीम कोर्ट और विवादित फैसले

Continue Reading सुप्रीम कोर्ट और विवादित फैसले

सुप्रीम कोर्ट के इन वर्षों में कई विवादास्पद फैसलें आए हैं। कुछेक को भेदभावपूर्ण माना जाता है। जलिकुट्टु, सबरीमाला, दहीहांडी, दीवाली पर पटाखे पर पाबंदी आदि ऐसे फैसले हैं जिन्हें समाज ने कभी स्वीकार नहीं किया। इससे निष्पक्ष न्याय-व्यवस्था पर ही प्रश्नचिह्न खड़ा होता है।

संस्कृति – सभ्यता की विरासत भारतीय नववर्ष शोभायात्रा

Continue Reading संस्कृति – सभ्यता की विरासत भारतीय नववर्ष शोभायात्रा

मुंबई के निकट डोंबिवली से आबासाहेब पटवारी द्वारा आरंभ ‘भारतीय नव वर्ष यात्रा’, पूरे भारत वर्ष में, हर शहर, हर गांव में आयोजित की जानी चाहिए। जाति, धर्म, भाषा, भेदभाव से ऊपर उठकर वर्तमान और भविष्य के साथ साथ आधुनिकता से परंपरा और अतीत को जोड़ने वाली यह यात्रा नए भारत का निर्माण करेगी।

मौत पर कांग्रेसी राजनीति

Continue Reading मौत पर कांग्रेसी राजनीति

(हम मनोहर पर्रिकर की असमय मृत्यु से दुखी है, गोवा में दूसरी पार्टियों ने भाजपा को इस शर्त पर समर्थन दिया था कि मनोहर पर्रिकर गोवा के मुख्यमंत्री बने, लेकिन अब वह शर्त लागू नही होती और काँग्रेस सबसे बड़ी पार्टी है इसलिए हमें सरकार बनाने का मौका दिया जाए )  कैसे न अपनाते नेहरू के कृत्यों को , ये दुष्ट काँग्रेसी भी तो उसी परंपरा के पोषक है जिसके दूत नेहरू थे!

मोबाइल टावर ले रहा पक्षियों की बलि

Continue Reading मोबाइल टावर ले रहा पक्षियों की बलि

मोबाइल टावर से निकलने वाले हानिकारक रेडिएशन के दुष्परिणाम स्वरूप विभिन्न प्रकार के जीव-जंतु एवं अनेक पक्षियों की प्रजातियां लुप्त हो चली हैं और अब भारत में पक्षियों की 42 प्रजातियां लुप्त होने की कगार पर हैं। मोबाइल टावर से निकलने वाली हानिकारक रेडिएशन से जितना खतरा मानवों को है…

महापर्व कुंभ

Continue Reading महापर्व कुंभ

अनेकता में एकता, सहिष्णुता, समानता एवं आस्था-विश्वास व सौहार्द के साथ भक्तिभाव के अद्भुत संगम का महापर्व है कुंभ। यह दुनिया का सबसे विराट मेला है और हमारे मनीषियों ने भारतीय संस्कृति को एक सूत्र में बांधने के लिए ही कुंभ की शुरुआत की है। इस बार का कुंभ प्रयागराज…

लोग शेट्टी जी से दीवानगी की हद तक स्नेह करते हैं – भाई गिरकर

Continue Reading लोग शेट्टी जी से दीवानगी की हद तक स्नेह करते हैं – भाई गिरकर

मुंबई के शताब्दी अस्पताल में डॉ.बाबासाहेब आंबेड़कर की प्रतिमा के अनावरण के अवसर पर महाराष्ट्र विधान परिषद में भाजपा के प्रतोद विधायक श्री भाई गिरकर से पिछड़े वर्गों, विशेषकर सफाई कर्मियों एवं मातंग समाज की समस्याओं, आरक्षण, संविधान, देश-प्रदेश की राजनीति और क्षेत्र के सांसद श्री गोपाल शेट्टी के अथक कार्यों पर   प्रदीर्घ बातचीत हुई। इसी के प्रमुख अंश यहां प्रस्तुत हैंः

मॉडलिंग में आना आसान टिकना मुश्किल – प्रवीण सिरोही

Continue Reading मॉडलिंग में आना आसान टिकना मुश्किल – प्रवीण सिरोही

मॉडलिंग की दुनिया बड़ी चकाचौंध भरी दुनिया है। युवा इसमें आने के सपने देखते हैं, देखना भी चाहिए; लेकिन इसमें टिकने के लिए संघर्ष की कोई हद नहीं है। मॉडलिंग के पेशे पर प्रसिद्ध मॉडल व अभिनेता प्रवीण सिरोही से हुई बातचीत के अंश प्रस्तुत हैंः

End of content

No more pages to load