सीमावर्ती राज्यों में मुस्लिम घुसपैठ

Continue Readingसीमावर्ती राज्यों में मुस्लिम घुसपैठ

देश के पाकिस्तान, नेपाल और चीन से सटे जिलों में एक खास मिशन के तहत विदेशी मुसलमानों को बसाकर वहां की जनसांख्यिकी को बिगाड़ा जा रहा है। शासन को इस पर सक्रियता दिखाने की आवश्यकता है ताकि देश के बिगड़ते हालातों को सुधारने की दिशा में सार्थक पहल की जा सके।

क्योंकि, खतरे भी हाइटेक हैं

Continue Readingक्योंकि, खतरे भी हाइटेक हैं

हरियाणा, महाराष्ट्र और गुजरात में मिल रहे अवैध हथियारों से देश में अशांति का वातावरण फैलाने की पूरी तैयारी की जा रही है।

पीएफआई की कलंक कथा

Continue Readingपीएफआई की कलंक कथा

पिछले कुछ वर्षों के दौरान देश में हुई दंगाई घटनाओं के पीछे इस्लामी संगठन, पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) का हाथ होना चिंता का विषय है। इसकी जड़ें सिमी की तरह ही पांव पसारती जा रही हैं। केरल सरकार का छद्म सहयोग भाव भी इसके बढ़ाव के पीछे एक बड़ा कारण है। कई अन्य राज्य भी इसकी चपेट में हैं। इसका प्रभाव राष्ट्रव्यापी हो, उसके पहले ही इसकी जड़ें काटने की आवश्यकता है।

उत्तर प्रदेश में  मोदी-योगी का जलवा

Continue Readingउत्तर प्रदेश में  मोदी-योगी का जलवा

उत्तर प्रदेश में मतदाताओं के लिए विकास और सरकारी कामकाज सर्वोच्च प्राथमिकताओं में से थे, जबकि राम मंदिर और हिंदुत्व के मुद्दे पर खास जोर नहीं था। चुनाव के बाद एक अध्ययन में यह भी पाया गया कि केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार के साथ संतुष्टि उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार की तुलना में तीन गुना अधिक थी।

ध्रुवीकरण से होगा हिसाब

Continue Readingध्रुवीकरण से होगा हिसाब

कुछ सीटों को छोड़ दें तो भाजपा लगभग सभी सीटों पर मजबूत दिखाई पड़ती है। भाजपा की सबसे बड़ी ताकत उसके लाभार्थी बताए जा रहे हैं। मुफ्त राशन योजना ने हर वर्ग में भाजपा के लिए गुप्त मतदाता तैयार कर दिए हैं। सुरक्षा व्यवस्था के सवाल पर भाजपा अन्य सभी दलों पर हावी दिखाई पड़ती है। प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत 45 लाख से अधिक मकानों ने भाजपा की पहुंच एससी और एसटी समुदाय के बीच में बढ़ा दी है। योगी आदित्यनाथ पूर्वांचल की तरह ही पश्चिम में भी लोकप्रिय हैं।

अपराधियों का महिमा मंडन कब तक

Continue Readingअपराधियों का महिमा मंडन कब तक

  सुशांत सिंह राजपूत के मामले में एक तथाकथित बड़े चैनल ने मुख्य आरोपी को बैठाकर हास्यास्पद सवाल पूछे। कुछ ही दिन पहले दिल्ली दंगे के मुख्य आरोपियों में से एक को उसी टीवी चैनल ने स्थान दिया था। यही नहीं इसी टीवी चैनल ने कश्मीर में भारतीय सेना द्वारा मारे गए एक आतंकवादी के बारे में बताया था कि वह गणित का शिक्षक था। और भी कई घटनाएं बताकर उसके आतंकवादी होने के गुनाह पर लीपापोती करने का प्रयास किया। 

सफल विदेश और कूटनीति पाक-तुर्की दोनों ‘ग्रे लिस्ट’ में

Continue Readingसफल विदेश और कूटनीति पाक-तुर्की दोनों ‘ग्रे लिस्ट’ में

जिन देशों एवं शासन से राजनयिक संबंधों को लेकर कभी भारतीय सत्ता प्रतिष्ठान में संशय और संकोच था, मोदी सरकार के अनेक तथ्यों पर सकारात्मक पहल के कारण वह बदल चुका है। अब पारस्परिक हित और भारत का भला होना ही भारतीय मैत्री का एकमेव आधार है। भारत अब इजरायल की कीमत पर इस्लामिक मुल्कों से संबंध नहीं रखता। अब हम इजराइल से अलग और अरब देशों से अलग संबंध रखते हैं।

जातिगत जनगणना कितनी सही?

Continue Readingजातिगत जनगणना कितनी सही?

विचारणीय यह भी है कि जब देश में वर्दीधारियों के नाम पट्टिका से जाति हटा दी गई है, वाहनों पर जाति-धर्म को प्रदर्शित करना अपराध है, तो जातिगत जनगणना कैसे युक्तिसंगत हो सकती है? जब सब कुछ जनसंख्या और आरक्षण आधारित तय होने लगेगा तो पारस्परिक सौहार्द्र, भाईचारा तथा शांति व्यवस्था भंग होगी। जिस जाति की संख्या कम होगी, उस जाति के लोग अधिकाधिक बच्चे पैदा करेंगे। सामाजिक ताना बाना छिन्न-भिन्न हो जाएगा। नियुक्ति और शिक्षा में प्रवेश केवल जाति देख कर किया जाएगा तो योग्यता के लिए समाज में कोई स्थान ही नहीं रहेगा इसलिए जातिगत जनगणना में देश का समग्र दृष्टिकोण ध्यान में रखना आवश्यक है।

नए विधेयकों पर पेगासस की छाया

Continue Readingनए विधेयकों पर पेगासस की छाया

कांग्रेस सहित विपक्ष निहित राजनीतिक स्वार्थों के कारण जनसंख्या नियंत्रण विधेयक के विरोध में है और संसद के मानसून सत्र में उसका भूत निकलने का डर उसे सता ही रहा था कि दिल्ली उच्च न्यायालय ने देश में समान नागरिक संहिता की वकालत करते हुए केंद्र को इसे लागू करने के लिए समुचित कदम उठाने के लिए कह दिया।

मुख्तार की रफ्तार पर योगी का ब्रेक

Continue Readingमुख्तार की रफ्तार पर योगी का ब्रेक

मुलायम, मायावती और शिवपाल से लेकर राष्ट्रीय स्तर की पार्टी तक ने मुख्तार को अपना मोहरा बनाना चाहा लेकिन, सत्ता के शीर्ष पर जब कहीं कोई ‘योगी’ बैठा हो तो बड़े-बड़े कैप्टन और चाचा की राजनीति भी धरी रह जाती है। मुख्तार को बांदा जेल की कोठरी में लौटना ही पड़ा है।

लाखों हिंदुओं का बलिदान और 76 युद्ध –

Continue Readingलाखों हिंदुओं का बलिदान और 76 युद्ध –

1528 में बाबर द्वारा अयोध्या में श्री राम मंदिर तोड़कर निर्माण की गई मस्जिद के विरोध में हिंदुओं का आंदोलन आरंभ हो गया था। इन पांच सौ वर्षों में अबतक हिंदुओं ने मंदिर की मुक्ति के लिए कोई 76 युद्ध लड़े और कई आंदोलन भी हुए। इनमें लाखों हिंदुओं का बलिदान हुआ। इन बलिदानों व आंदोलनों के कारण ही आज भगवान श्री राम भव्य मंदिर बन रहा है।

खाकी-खादी-क्राइम का काकटेल 

Continue Readingखाकी-खादी-क्राइम का काकटेल 

उत्तर प्रदेश का गैंगस्टर विकास दुबे खाकी, खादी और क्राइम के मिश्रण की सबसे नग्न मिसाल है। कहते हैं कि ऐसा संगठन ढूंढना मुश्किल है जो विकास दुबे के टुकड़े पर न पला हो। खाकी, खादी और क्राइम का ऐसा काकटेल अन्य राज्यों में भी है। आखिर इससे कैसे पार होइएगा?

End of content

No more pages to load