ग्रामीण भारत को सशक्त बनाएगी बीमा मंडी योजना

Continue Reading ग्रामीण भारत को सशक्त बनाएगी बीमा मंडी योजना

कारोलकर उद्योग समूह बीमा मंडी व बीमा पाठशाला की अनोखी योजनाओं के साथ बीमा क्षेत्र में प्रवेश कर रहा है। ऐसी योजनाओं से ग्रामीण भारत में आने वाली क्रांति, छोटे-छोटे तबकों को बीमा कवच उपलब्ध कराने तथा ग्रामीण भारत को प्रशिक्षित करने की योजना पर कारुलकर प्रतिष्ठान के अध्यक्ष श्री प्रशांत कारुलकर से हुई अंतरंग बातचीत के कुछ खास अंश प्रस्तुत हैं।

हेमलकसा करुणा व निष्काम कर्म का प्रतीक

Continue Reading हेमलकसा करुणा व निष्काम कर्म का प्रतीक

वरिष्ठ सामाजिक कार्यकर्ता बाबा आमटे के सुपुत्र तथा हेमलकसा आदिवासी प्रकल्प के प्रणेता डॉ.प्रकाश आमटे से जीवन, पर्यावरण व समासेवा के बारे में उनके अनुभव सुनना अपने आप में एक अलौकिक आनंद देता है। ‘हिंदी विवेक’ ने इसके अलावा उनसे कोराना, इससे उत्पन्न स्थिति और नई जीवन प्रणाली पर भी बातचीत की। उनका सार-संक्षेप यही था कि उन्होंने गीता नहीं पढ़ी, परंतु गीता को जीया है।

संघ बगीचे का एक विकसित पौधा

Continue Reading संघ बगीचे का एक विकसित पौधा

ऐसी हजारों लाखों रेखाएँ विकसित करनी पड़ती हैं। ऐसे देशव्यापी विकसित संघ बगीचे का रेखा एक पौधा है। उसे पाला-पोसा, संवर्धित किया यमगरवाडी ने। उसकी उन्नति देखकर हम सभी कृतार्थ भावना से आनंदित हो जाते हैं।

पूंजी औऱ सियासी खेल को समझने की दरकार

Continue Reading पूंजी औऱ सियासी खेल को समझने की दरकार

बाबा रामदेव की कोरोनिल दवा के विवाद को लेकर दो आयाम समझने की जरूरत है। एक- बाबा ने अतिशय उत्साह दिखाया, जिससे यह दुनिया के बहुराष्ट्रीय दवा कारोबार के लिए एक जलजला है। दूसरा- वे तथाकथित लिबरल वामपंथी गिरोह हैं, जो वेद, योग व आयुर्वेद के सहसम्बंध को स्वीकार नहीं करने की सियासत करते रहे हैं।

राजनीतिक परिपक्वता समय की जरूरत

Continue Reading राजनीतिक परिपक्वता समय की जरूरत

कोरोना महामारी जैसे संकट से जब सारा देश सफलता पूर्वक लड़ रहा है उस समय विस्तारवादी और अधिनायकवादी चीन द्वारा खड़ी की हुई इस चुनौती की घड़ी में सम्पूर्ण भारतीय समाज को एकता का परिचय देना चाहिए, और दे भी रहा है। सभी दलों को भी राजनैतिक परिपक्वता दिखानी चाहिए। यह राजनैतिक हानि-लाभ या एक दूसरे की हार-जीत तय करने का समय नहीं है।

नए उत्साह से आगे बढ़ने का समय

Continue Reading नए उत्साह से आगे बढ़ने का समय

सकारात्मक घटनाओं पर चिंतन करना आवश्यक है। साथ ही स्वयं से भी यह प्रश्न पूछना आवश्यक है कि हमें विगत तीन महीनों में जो नहीं हुआ उसे ही लिए बैठे रहना है या आने वाले समय में जो आशा की किरण दिखाई दे रही है, जो अवसर दिखाई दे रहे हैं, उनकी ओर नए उत्साह से मार्गक्रमण करना है।

बंदउ गुरु पद कंज

Continue Reading बंदउ गुरु पद कंज

गुरु वह प्रज्ञावान, ज्ञानवान महापुरुष और श्रेष्ठ मानव होता है जो अपने ज्ञान का अभीसिंचन करके व्यक्ति में जीवन जीने तथा अपने कर्तव्य को पूरा करने में उसकी सुप्त प्रतिभा और प्रज्ञा का जागरण करता है।

गुरु बिन भ्रम ना जासी

Continue Reading गुरु बिन भ्रम ना जासी

गुरु के सत्संग के प्रहार से व्यक्ति के जीवन में प्रकाश आता है। लेकिन वर्तमान में शिक्षा और अध्यात्म व्यापार बन गया है, ऐसे में नैतिक मूल्यों की शिक्षा देने वाले गुरुओं की तलाश करना हमारे लिए बड़ी चुनौती बनी हुई है। सच्चे गुरु की आज भी उतनी ही दरकार है, जितनी पहले थी।

गुरुवर्य नहीं होते तो मेरा जीवन अधूरा रह जाता…-

Continue Reading गुरुवर्य नहीं होते तो मेरा जीवन अधूरा रह जाता…-

अगर शाश्वत सत्य का परिचय करना हो तो गुरू अत्यंत आवश्यक है। ...आज मैं शाश्वत सत्य के मार्ग पर आगे बढ़ा हूं और वैज्ञानिक के रूप में भी आगे बढ़ा हूं तो इन दोनों का ही श्रेय मेरे गुरू श्री साखरे महाराज को जाता है। वे न आते तो शायद मेरा जीवन अधूरा ही रह जाता।

End of content

No more pages to load