हिंदी के विकास में गैर हिंदी भाषियों का योगदान

Continue Reading हिंदी के विकास में गैर हिंदी भाषियों का योगदान

भारत में विभिन्न बोलियों के रूप में लगभग सात सौ अस्सी भाषाएं प्रचलित हैं। इनको छियासठ लिपियों के द्वारा लिखा जाता है। भारत के संविधान द्वारा बाईस भाषाओं को मान्यता प्राप्त है। इनमें जनसंख्या, क्षेत्रीय विस्तार और बोलियों की संख्या की दृष्टि से हिंदी सब से

विवाह का छल

Continue Reading विवाह का छल

कोठीनुमा बंगले के बड़े हाल में सुमधुर कर्णप्रिय भारतीय संगीत बज रहा था। तबले और सितार के बीच बांसुरी की धुन मन को मोह रही थी।

मजदुरों के विषय में सरकार उदासीन -उदय पटवर्धन

Continue Reading मजदुरों के विषय में सरकार उदासीन -उदय पटवर्धन

भारतीय मजदूर संघ के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्री उदयराव पटवर्धन अन्तरराष्ट्रीय श्रम संगठन- आई.एस.ओ.की वार्षिक महासभा में भाग लेकर जेनेवा से लौटे हैं। भारतीय मजदूरों के प्रतिनिधि के रूप में उन्होंने विश्वमंच पर देश के मजदूरों के विभिन्न मुद्दों को उठाया हैं। देश के मजदूरों की समस्याओं, सरकारी नीतियों और भारतीय मजदूर संघ के कार्यों पर उनसे विस्तार से की गयी दिनेश प्रताप सिंह की बातचीत

चिकित्सा के माध्यम से समाज सेवा सर्वोपरी – डॉ. विवेक देशपाण्डे

Continue Reading चिकित्सा के माध्यम से समाज सेवा सर्वोपरी – डॉ. विवेक देशपाण्डे

भारतीय जनता पाटी, मुंबई द्वारा महानगर के चिकित्सकों का प्रकोष्ठ बनाया गया है। इसमें अस्पतालों, दवाखानों और ईएसआई के चिकित्सक शामिल हैं। इस प्रकोष्ठ के संयोजक डॉ. विवेक देशपाण्डेजी हैं।

राष्ट्रवाद से ओत-प्रोत भारतीय सिनेमा के सौ साल

Continue Reading राष्ट्रवाद से ओत-प्रोत भारतीय सिनेमा के सौ साल

इसी महीने भारतीय सिनेमा के सौ साल पूरे हो रहे हैं। सन् 1912 ई. में दादा साहब फालके ने ‘राजा हरिश्चन्द्र’ फिल्म बनाकर भारत में फिल्म निर्माण की नींव रखी। यद्यपि उस समय की फिल्म मूक होती थी, किन्तु उनके विषय राष्ट्रवाद से ओत-प्रोत होते थे।

यथार्थ का चित्रण करती कहानियों का संग्रह – एक था आदमी

Continue Reading यथार्थ का चित्रण करती कहानियों का संग्रह – एक था आदमी

साहित्य में कहानी एक सशक्त विधा के रूप में स्थापित है। हिन्दी में कहानी की एक लम्बी परम्परा रही है। प्राचीन काल में जब लेखन कला लोकप्रिय नहीं थी, तब भी श्रुति परम्परा के रूप में कहानी आख्यान के रूप में कही व सुनी जाती थी।

दधीचि परम्परा के संवाहक

Continue Reading दधीचि परम्परा के संवाहक

देह दान के द्वारा महर्षि दधीचि ने समाज कल्याण का अप्रतिम कार्य किया था। उन्हीं के वंशज डॉ. दुर्गा प्रसाद दधीचि ने वर्तमान समय में रोगियों की सेवा हेतु ‘महर्षि दधीचि हास्पिटल’ को ‘संकल्प’ ट्रस्ट को दान करके उसी ऋषि परम्परा को आगे बढ़ाया है। ट्रस्ट द्वारा संचालित ‘श्रीमती पानबाई डायलेसिस सेन्टर’ किडनी के रोगियों का जीवन रक्षक बना हुआ है।

भावरूप राम

Continue Reading भावरूप राम

मानवीय चेतना की चरम अवस्था में ‘राम’ नाम की अनुभूति और प्रतीति शब्दातीत हो जाती है। राम के इस आध्यात्मिक भावनात्मक स्वरूप का आचमन करने हेतु किसी भी प्राणी के लिए तपबल से अर्जित पुण्य नितान्त आवश्यक है।

इतिहास-सत्य का अनावरण करती पुस्तक

Continue Reading इतिहास-सत्य का अनावरण करती पुस्तक

कन्नड़ के प्रसिद्ध उपन्यासकार डॉ. एस. एल. भैरप्पा ने ऐतिहासिक पृष्ठभूमि पर महत्वपूर्ण उपन्यास ‘आवरण’ की रचना की है। मूलत: कन्नड़ के इस उपन्यास के दो वर्षों में ही तेईस संस्करण प्रकाशित हो चुके हैं।

कुरसी तू बड़भागिनी

Continue Reading कुरसी तू बड़भागिनी

दी साहित्य में व्यंग्य विधा ने एक लंबा रास्ता तय करके अपना प्रमुख स्थान अर्जित किया है। हिंदी के विद्वान जब पद्य को ही साहित्य की मुख्य धारा मानते थे और गद्य साहित्य को दोयम दर्जा देते थे, उस भक्तिकाल से समाज की कुरीतियों पर जो प्रहार किया था, वह व्यंग्य ही था।

श्रावण मास के लोकप्रिय पर्व

Continue Reading श्रावण मास के लोकप्रिय पर्व

तपती हुई ग्रीष्म ऋतु के अवसान पर कृष्ण रंग के मेघों को आकाश में उमड़ते-घुमड़ते देखकर पावस ऋतु के प्रारंभ में वर्षा की फुहार से आप्लावित और आनंदित होकर भारतीय लोक जीवन झूम उठता है।

मनोवांछित फलदायी वट सावित्री व्रत

Continue Reading मनोवांछित फलदायी वट सावित्री व्रत

भारत एक धर्मप्राण देश है। यहां के जनजीवन में व्रत-पर्वोत्सव का बड़ा महत्व है। वर्ष के आद्य मास चैत्र से शुरू होकर अंतिम मास फाल्गुन तक अनेक व्रत आते हैं, जिन्हें पूरा परिवार-समाज निष्ठा और आस्था के साथ मनाता है।

End of content

No more pages to load