आद्य प्रचारक मोरुभाऊ

Continue Reading आद्य प्रचारक मोरुभाऊ

संघ संस्थापक डॉ. हेडगेवार द्वारा महाराष्ट्र के बाहर भेजे गए तीन प्रचारकों में से मोरुभाऊ मुंजे एक थे। उन्होंने संघ में विभिन्न दायित्वों का निर्वहन किया। उनका कार्य आज भी स्वयंसेवकों के लिए एक मिसाल है। मोरेश्वर राघव उपाख्य मोरुभाऊ मुंजे को पूजनीय डॉ.

नवयुग का सूत्रपात

Continue Reading नवयुग का सूत्रपात

भाजपा हाल के चुनावों में एक संगठित राष्ट्रीय शक्ति व कर्मठ नेतृत्व के साथ उभरी है, जबकि कांग्रेस नेतृत्वविहीन एवं असंगठित दिखाई दे रही है। अखिलेश की सपा एवं मायावती की बसपा तथा केजरीवाल की आप महज क्षेत्रीय पार्टियां ही बन कर रह गई हैं। उनके राष्ट्रीय मा

अनजान रिश्ते

Continue Reading अनजान रिश्ते

सीमा और प्रकाश का परिवार बरसों से शहर के एक ही मोहल्ले में रह रहा था। पर उन दोनों का एक दूसरे से सामना कभी नहीं हुआ। प्रकाश ने विश्वविद्यालय में जब उसी की कक्षा में प्रवेश लिया और ऐसे ही औपचारिक परिचय में अपने मोहल्ले का नाम बताया तो सीमा को आश्चर्य हुआ

जम्बू ने माफी मांगी

Continue Reading जम्बू ने माफी मांगी

जम्बू भालू के पिता सर्कस में काम करते थे। जब वह सर्कस से सेवानिवृत हुए तो उन्हें एक मोटर साइकिल ईनाम में मिली। मोटर साइकिल देख जम्बू बहुत खुश हुआ। दो-चार दिन में ही उसने मोटर साइकिल चलानी सीख ली। फिर क्या था, वह सारे जंगल में मोटर साइकिल चलाने लगा। वह

भाजपा का सेक्युलर मार्ग से साम्प्रदायिक कार्ड

Continue Reading भाजपा का सेक्युलर मार्ग से साम्प्रदायिक कार्ड

साम्प्रदायिक कार्ड का अर्थ है, मतदाता की जातिगत पहचान के आधार पर वोट मांगना। यह पहचान जातिगत अथवा धार्मिक भी हो सकती है। इस आलेख में मैं जाति और मोटे तौर पर धर्म के आधार की चर्चा करूंगा।   स्वतंत्रता के बाद के भारत के बहुचर्चित समाजशास्त्री प

भाजपा की सफलता का रहस्य

Continue Reading भाजपा की सफलता का रहस्य

मुंबई मनपा के चुनावों के साथ राज्य में अनेक स्थानों पर हुए चुनावों के परिणाम आ चुके हैं और किसी भी पैमाने से देखें तो भाजपा को अभूतपूर्व सफलता मिली है। इसे समझने के लिए आंकड़ों के विवरण पर गौर करें तो इसके पीछे का रहस्य स्वयंमेव उजागर हो जाता है। मुंबई म

मोदी लहर की सुनामी

Continue Reading मोदी लहर की सुनामी

हाल ही में हुए पांच राज्यों के विधान सभा चुनावों में मिली सफलता के बाद भारतीय जनता पार्टी ने जिस तरह बहुमत हासिल किया है उससे कहीं न कहीं पार्टी का मनोबल भी बढ़ा दिया है। उत्तर प्रदेश में तो परिणामों ने भाजपा के लिए चमत्कारिक काम किया है। इससे सबसे अधिक

इस्लामिक संघर्ष: इतिहास और वर्तमान

Continue Reading इस्लामिक संघर्ष: इतिहास और वर्तमान

मध्यपूर्व और विशेष रूप से इराक और सीरिया में पिछले दो-तीन वर्षों से जबरदस्त लड़ाई चल रही है। ओसामा बिन लादेन का अलकायदा संगठन हमें पता था। बिन लादेन मारा गया, नया संगठन खड़ा हो गया, उसका नाम है इस्लामिक स्टेट ऑफ सीरिया एण्ड इराक अथात इसीस। इस इसीस में भर्

केरल की हिंसा वामपंथियों की राजनीति का हिस्सा – जे. नंदकुमार

Continue Reading केरल की हिंसा वामपंथियों की राजनीति का हिस्सा – जे. नंदकुमार

गत कई वर्षों से केरल में मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के कार्यकर्ताओं द्वारा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ एवं राष्ट्रवादी विचारधारा के कार्यकर्ताओं की हत्या की जा रही है। इन घटनाओं की पार्श्वभूमि, वैचारिक संघर्ष, राज्य सरकार एवं पुलिस की भूमिका तथा संघ का इन सब घटनाओं की ओर देखने का दृष्टिकोण, ये सारी बातें नागरिकों को ज्ञात हो इसलिए प्रस्तुत है ‘मुंबई तरुण भारत’ के प्रतिनिधि महेश पुराणिक द्वारा संघ की राष्ट्रीय मीडिया टीम के सह-समन्वयक श्री जे. नंदकुमार से किए गए विशेष साक्षात्कार के महत्वपूर्ण अंश-

बैंक का विकास तकनीक के साथ -सुनील साठे एम डी ऍन्ड सी ई ओ, टीजेएसबी बैंक

Continue Reading बैंक का विकास तकनीक के साथ -सुनील साठे एम डी ऍन्ड सी ई ओ, टीजेएसबी बैंक

किसी भी संस्था की मजबूत बुनियाद ही उसे आगे बढ़ने की ऊर्जा देती है और यदि वह संस्था बैंक है तब तो उसे मजबूत बुनियाद के साथ ही तकनीक के साथ चलना भी आवश्यक है। ठाणे जनता सहकारी बैंक ने अपनी स्थापना के उद्देश्य को ही अपनी बुनियाद माना है और तकनीक का बेहतरीन उपयोग किया है। इसी का परिणाम है कि आज सहकार क्षेत्र के अग्रगण्य बैंकों में टीजेएसबी का नाम शामिल है। प्रस्तुत बैंक के विस्तार और प्रगति के संदर्भ में टीजेएसबी के सीईओ सुनील साठे से हुई चर्चा के कुछ महत्वपूर्ण अंश:-

२०१९ के लोकसभा चुनावों का शंखनाद

Continue Reading २०१९ के लोकसभा चुनावों का शंखनाद

पांच राज्यों के चुनाओं के नतीजे आ गए हैं। भले ही ये चुनाव पांच राज्यों में हुए है लेकिन इन चुनावों की आवाज पूरे देश में सुनाई देगी। ये चुनाव देश की राजनीति की दशा और दिशा तय करने वाले थे। अत: इन चुनावों को २०१९ के लोकसभा चुनावों की जमीन तैयार करने वाला

अप्रवासियों के लिए सख्त अमेरिका

Continue Reading अप्रवासियों के लिए सख्त अमेरिका

ट्रंप का चुनाव जीतना और ब्रिटेन का यूरोपीय संघ से अलग होने का निर्णय, वर्ष २०१६ की दो सब से अहम घटनाएं थीं। इन दोनों अहम घटनाओं के पीछे की कड़वी सच्चाई यह है कि अब वैश्वीकरण की नीतियों ने एशियाई, अफ्रीकी, लातिन अमेरिकी देशों की आम जनता को ही नहीं, खुद अमेर

End of content

No more pages to load