रक्षा क्षेत्र में आत्मनिर्भरता की भरसक पहल

Continue Readingरक्षा क्षेत्र में आत्मनिर्भरता की भरसक पहल

रक्षा के क्षेत्र में पहली बार स्वदेश में साजोसामान के उत्पादन पर बल दिया जा रहा है और जहां संभव है उन आयातों को रोक दिया गया है। रक्षा उत्पादन निरंतर विकसित होने वाला क्षेत्र है। इसलिए हमें भी नित नए प्रयोग कर व निजी क्षेत्र को भी साथ लेकर चलना होगा, तभी इस क्षेत्र में कुछ हद तक आत्मनिर्भरता प्राप्त हो सकेगी।

रिश्तों के नए नाम

Continue Readingरिश्तों के नए नाम

“उस दिन गरिमा का स्त्रीत्व सार्थक हो गया था। उसकी ममता का सागर फूट पड़ा और दूध की धारा से आंचल भीग गया था। उसने अपनी बेटी को जोर से सीने से चिपका लिया... ममता के मोती उसके गालों से लुढ़क कर बेटी के गालों पर आ गिरे थे।” गरिमा…

सेमीफाइनल से सबक ले भाजपा

Continue Readingसेमीफाइनल से सबक ले भाजपा

भारतीय लोकतंत्र की अत्यंत प्रभावी प्रक्रिया है, अपने विकास के लिए जनहित में कार्य करने वाली सरकार का चुनाव करना। लोकतंत्र के इस उत्सव को भारतीय जनता अत्यंत उत्साह के साथ मनाती है। विजेता हो या पराजित जो इससे सबक लेता है, उसका भविष्य कुछ आसान हो जाता है। पक्ष…

पाक आतंकवाद बरास्ता करतारपुर…

Continue Readingपाक आतंकवाद बरास्ता करतारपुर…

सिखों के तीर्थस्थलों की मुक्त यात्रा के लिए करतारपुर मार्गिका बनाने का भारत-पाकिस्तान का साझा निर्णय स्वागतयोग्य है; लेकिन पाकिस्तान के साथ अपने कटु अनुभवों को देखते हुए भारत को सतर्क रहना होगा। करतारपुर से निकला अमन का यह रास्ता कहीं भारतीय पंजाब में अलगाववाद फैलाने की प्रदीर्घ साजिश का…

भीमा-कोरेगांव दंगों में माओवादियों का हाथ – कैप्टन स्मिता गायकवाड

Continue Readingभीमा-कोरेगांव दंगों में माओवादियों का हाथ – कैप्टन स्मिता गायकवाड

भीमा कोरेगाव की घटना के विरोध में ३ जनवरी २०१८ को मुंबई में भी प्रदर्शन किया गया था, रैलियां निकली गईं थीं, बंद का आव्हान किया गया था.  कल इस घटना को एक वर्ष पूर्ण हो रहा  है. अब केंद्र तथा राज्य में  एक मजबूत राष्ट्रवादी सरकार आने और माओवादियों…

हवाई जहाज भारत में निर्मित करना मेरा सपना – कैप्टन अमोल यादव

Continue Readingहवाई जहाज भारत में निर्मित करना मेरा सपना – कैप्टन अमोल यादव

यह सुनकर आप चकित होंगे कि भारत में नागरी विमानों की निर्मिति ही नहीं होती। ये विमान विदेश से आयात किए जाते हैं। इसलिए धुन के पक्के कैप्टन अमोल यादव ने एक सपना देखा- देश में ही विमान बनवाने का। इस सपने का पीछा करते हुए उन्होंने जो संघर्ष यात्रा…

समतायुक्त, शोषणमुक्त समाज हेतु…

Continue Readingसमतायुक्त, शोषणमुक्त समाज हेतु…

“समता के मूल में ही समरसता है। हमें समरस हिंदू समाज खड़ा करना है अर्थात शोषणमुक्त समाज, आत्मविस्मृति-भेद-स्वार्थ-विषमता इन बातों से समाज को मुक्त करना है। किसी भी प्रकार की विषमता को हिन्दू समाज में स्थान नहीं है। “समरस समाज, समर्थ भारत” ही हमारा लक्ष्य है।” एक तथा दो दिसंबर…

मराठा आरक्षण एवं ‘क्रीमी लेयर’ की संकल्पना

Continue Readingमराठा आरक्षण एवं ‘क्रीमी लेयर’ की संकल्पना

आरक्षण नीति के पीछे जो सामाजिक न्याय की कल्पना है उसका यदि आदर करना है तो न केवल ओबीसी के लिए ‘क्रीमी लेयर’ की शर्त बरकरार रहनी चाहिए बल्कि अनुसूचित जाति-जनजाति हेतु भी उसे तत्काल लागू करना चाहिए। 30नवम्बर 2018 को महाराष्ट्र के राज्यपाल द्वारा हस्ताक्षर किए जाने के बाद…

महापर्व कुंभ

Continue Readingमहापर्व कुंभ

अनेकता में एकता, सहिष्णुता, समानता एवं आस्था-विश्वास व सौहार्द के साथ भक्तिभाव के अद्भुत संगम का महापर्व है कुंभ। यह दुनिया का सबसे विराट मेला है और हमारे मनीषियों ने भारतीय संस्कृति को एक सूत्र में बांधने के लिए ही कुंभ की शुरुआत की है। इस बार का कुंभ प्रयागराज…

युवाओ उठो, अपनी असीम शक्ति को जगाओ

Continue Readingयुवाओ उठो, अपनी असीम शक्ति को जगाओ

“युवाओ, तुम्हारे अंदर असीम शक्ति है। तुम्हें शक्तिशाली बनना है। अन्यथा तुम किसी भी वस्तु पर विजय कैसे प्राप्त करोगे? अपने अंदर झांको और उन गुणों को देखो, जो समाज और राष्ट्र के लिए उपयोगी हो सकते हैं, उन्हें और विकसित करना चाहिए। कोई दूसरा हमें नहीं सुधार सकता, हमें…

शंखेश्वर महातीर्थ में बनेगा – भव्य श्रुत मंदिर

Continue Readingशंखेश्वर महातीर्थ में बनेगा – भव्य श्रुत मंदिर

समस्त जैन संघ के गौरव स्थान शंखेश्वर महातीर्थ में अनुपम, भव्य-दिव्य श्रुत मंदिर बनाया जा रहा है। जैन धर्म ग्रंथों की सुरक्षा के अलावा इसमें अन्य विभिन्न सुविधाएं भी उपलब्ध कराई जाएंगी। जैन समाज की कार्य कुशलता एवं व्यापार का डंका पूरी दुनिया में बज रहा है। अल्पसंख्यक होने के…

विधान सभा चुनावों में राष्ट्रीय राजनीति की झलक

Continue Readingविधान सभा चुनावों में राष्ट्रीय राजनीति की झलक

हाल के विधान सभा चुनाव परिणामों ने भले पांच राज्यों में से चार में नई सरकारें दे दी हैं, भाजपा सरकार से बाहर हो गई है, इसकी राष्ट्रीय प्रतिध्वनि शत-प्रतिशत साफ नहीं है। इसने कई संदेश दिए हैं जिनके आधार पर राष्ट्रीय राजनीति का ताना-बाना विकसित होगा। भाजपा हारी है…

End of content

No more pages to load