जयंती विशेष: बंकिमचंद्र चटर्जी का देश के लिए योगदान

Continue Readingजयंती विशेष: बंकिमचंद्र चटर्जी का देश के लिए योगदान

  बंकिम चंद्र चटर्जी का जन्म 27 जून 1838 को पश्चिम बंगाल के उत्तर 24 परगना जिले में हुआ था उन्हे लोग बंकिम चंद्र चट्टोपाध्याय के नाम से भी जानते थे।बंकिम चटर्जी एक कवि, उपन्यासकार, गद्यकार और पत्रकार जैसी प्रतिभा के धनी थे। भारत का राष्ट्रीय गीत वंदे मातरम् उनके…

मन की वैक्सीन

Continue Readingमन की वैक्सीन

कोरोना, लॉकडाउन, पहली लहर, दूसरी लहर, तीसरी लहर... पिछले लगभग एक साल से बस यही शब्द सुनाई दे रहे हैं। कोरोना न हुआ मानो रक्तबीज राक्षस हो गया जिसका हर स्ट्रेन पहले से अधिक खतरनाक और संदिग्ध है। अब तो कोरोना के बाद होने वाले ब्लैक फंगस तथा व्हाइट फंगस ने सभी की नींद उडा रखी है। ब्लैक फंगस शरीर के सबसे कमजोर हिस्से पर वार करता है और उसे इतना प्रभावित कर देता है कि वह अंग ही शरीर से अलग करना पडता है।

इतनी मौतों का दोषी कौन?

Continue Readingइतनी मौतों का दोषी कौन?

देश में कोरोना पीड़ित लोगों के, संक्रमित लोगों के और मृत्यु के आंकड़े दिन-प्रतिदिन बढ़ते जा रहे हैं। इन आंकड़ों के अलावा और भयावह स्थिति तो तब उत्पन्न होती है जब अपने आस-पास के लोगों की रोज मिलने वाली मृत्यु की खबरें सुनाई देती हैं। समाचारों में यह दिखाया जाता कि किस प्रकार एक ही चिता पर तीन-चार शवों का एक ही साथ अंतिम संस्कार किया जा रहा है। मरने वाले व्यक्ति के अंतिम दर्शन करना भी परिवार के सभी लोगों के लिए मुमकिन नहीं हो रहा है। दिल दहला देने वाली इतनी भयावह परिस्थिति उत्पन्न हुई कैसे? कोरोना पीड़ितों का और मृत्यु का आंकड़ा इतना बढ़ा कैसे? समाज के रूप में हमसे कहां चूक हो गई?

मानवीय असंवेदनाओं की होम डिलीवरी

Continue Readingमानवीय असंवेदनाओं की होम डिलीवरी

हाल ही में बंगलुरु में हुई घटना ने ऐसा उदाहरण प्रस्तुत किया है। इस पूरी प्रक्रिया में किसकी कितनी गलती थी, यह तो जांच के बाद पता चलेगा ही; परंतु दो अनजान व्यक्तियों के बीच कुछ ही पलों में हाथापाई की नौबत आ जाए यह समाज के किस पहलू की ओर इशारा कर रहा है? भारतीय समाज में यह किस प्रकार की संस्कृति शामिल होती दिखाई दे रही है?

इस वजह से भक्त नहीं देख पायेंगे राम मंदिर का निर्माण कार्य!

Continue Readingइस वजह से भक्त नहीं देख पायेंगे राम मंदिर का निर्माण कार्य!

राम मंदिर को लेकर पूरे देश में एक अलग ही राम नाम की लहर देखने को मिल रही है। राम भक्त मंदिर को लेकर आतुर हुए है कि कब मंदिर बन जाए और उसके दर्शन हो सकें और इसका उदाहरण मंदिर के लिए हो रहे दान से ही लगाया जा…

पद्मनाभ स्वामी मंदिर: सातवें दरवाजे के खुलते ही आ जायेगा प्रलय !

Continue Readingपद्मनाभ स्वामी मंदिर: सातवें दरवाजे के खुलते ही आ जायेगा प्रलय !

दक्षिण भारत का पद्मनाभ स्वामी मंदिर। यह मंदिर अपने धनवान होने के लिए जाना जाता है लेकिन इसके साथ ही मंदिर के कई रहस्य भी है जो कम लोगों को ही पता है। कुछ सालों पहले यह मंदिर पूरे देश में चर्चा का विषय था और उसकी वजह थी मंदिर…

हंसी को हंसी में मत टालिए

Continue Readingहंसी को हंसी में मत टालिए

क्या खूब लिखा है निदा फाजली ने इस शायरी में। वैसे बच्चों को हंसाना कोई बड़ी बात नहीं है। बच्चों का मन इतना साफ होता है कि वे पिछली सारी बातों को भूलकर तुरंत मुस्कुराने लगते हैं।

समाज जागरण एवं एकत्रीकरण अभियान

Continue Readingसमाज जागरण एवं एकत्रीकरण अभियान

अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि पर भव्य मंदिर बनाने के लिए पूरे भारत में निधि संकलन अभियान चलाया जा रहा है। वैसे तो भारत में और विदेशों में ऐसे कई धनाढ्य भारतीय हैं, जो यदि ठान लें तो एक साथ आकर भव्य राम मंदिर का निर्माण केवल अपने बलबूते भी कर सकते हैं

कंधा किसान का, बंदूक मोदी विरोध की

Continue Readingकंधा किसान का, बंदूक मोदी विरोध की

विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र में आंदोलन होना कोई नई बात नहीं है। स्वतंत्रता आंदोलन से शुरू हुआ यह सिलसिला अभी भी जारी है। शाहीन बाग के बाद दिल्ली में किसान आंदोलन की गूंज है।

संघ के विचारक माधव गोविंद वैद्य का निधन, कोरोना से भी थे संक्रमित

Continue Readingसंघ के विचारक माधव गोविंद वैद्य का निधन, कोरोना से भी थे संक्रमित

राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ के विचारक माधव गोविंद वैद्य का शनिवार को एक निजी अस्पताल में निधन हो गया। माधव गोविंद वैद्य के पोते विष्णु वैद्य ने इसकी जानकारी दी और बताया कि वह कोरोना से संक्रमित थे लेकिन इलाज के बाद वह पूरी तरह से ठीक हो गये और घर…

भारत-अमेरिका: नैचरल पार्टनर

Continue Readingभारत-अमेरिका: नैचरल पार्टनर

निष्पक्ष चुनाव मजबूत लोकतंत्र की आधारभूत आवश्यकता और पहला पायदान होते हैं। पिछले महीने में अमेरिका के राष्ट्रपति पद के लिए और भारत के बिहार राज्य में मुख्यमंत्री पद के लिए चुनाव हुए थे। दोनों ही चुनाव भारत की दृष्टि से बहुत महत्वपूर्ण थे।

वक्त हर जुर्म तुम्हें लौटा देगा

Continue Readingवक्त हर जुर्म तुम्हें लौटा देगा

पर्यावरण दो शब्दों के मेल से बना है। परि और आवरण। परि अर्थात अच्छी तरह और आवरण अर्थात संरक्षीत। दूसरे शब्दों मे हम यह कह सकते हैं कि पर्यावरण हमारी पृथ्वी का एक ऐसा आवरण या रक्षा कवच है जो हमारे समस्त जीवों को पहाड़ों, नदियों, सागरों और वनों की अनुकुल प्राकृतिक परिस्थितियां और वायु मण्डल में सांस लेने योग्य प्राणवायु की पर्याप्त उपस्थिती के योग से निर्मित होता है।

End of content

No more pages to load