पाकिस्तान पर फिर होगा सर्जिकल स्ट्राइक!

Continue Readingपाकिस्तान पर फिर होगा सर्जिकल स्ट्राइक!

  पिछले कुछ दिनों से कश्मीर में आतंकी घटनाओं में बढ़ोत्तरी देखने को मिल रही है और इस बार हिन्दुओं को खासकर निशाना बनाया जा रहा है। दरअसल आतंकियों की घुसपैठ पर बहुत हद तक रोक लगा दी गयी है जिससे वह पूरी तरह से परेशान हो चुके हैं। इसके…

भारत-अमेरिका बैठक में पहली बार हुआ यह काम!

Continue Readingभारत-अमेरिका बैठक में पहली बार हुआ यह काम!

पाकिस्तान का आतंकी चेहरा सभी को पता है वह लाख कोशिश कर ले लेकिन उसकी हालत विश्व स्तर पर लगातार गिरती जा रही है। मोदी ने अमेरिकी उप राष्ट्रपति कमला हैरिस से मुलाकात की जहां कमला हैरिस ने पाकिस्तान को आतंकी गतिविधियों में शामिल होने को लेकर बहुत लताड़ा। अमेरिका की…

भारत की अफगान नीति उपयुक्त और व्यवहारिक

Continue Readingभारत की अफगान नीति उपयुक्त और व्यवहारिक

भारत की अफगानिस्तान और तालिबान संबंधी नीतियों को लेकर जिस तरह के दुष्प्रचार और अफवाह बार-बार सामने आ रहे हैं उनसे आम भारतीय के अंदर भी कई प्रकार की आशंकाएं पैदा हो रही है। सोशल मीडिया पर सबसे बड़ा प्रचार यह हुआ कि भारत ने तालिबान को मान्यता दे दिया।…

गोरे व्यक्ति का बोझ और आतंकवादी, सरीखे ही

Continue Readingगोरे व्यक्ति का बोझ और आतंकवादी, सरीखे ही

तालिबानियों को समाप्त करने का लक्ष्य लेकर अमेरिका 20 वर्ष पूर्व अफगानिस्तान में दाखिल हुआ। परंतु 20 वर्ष बाद उन्ही तालिबानियों के हाथों अफगानिस्तान को सौंपकर अमेरिकी सेना स्वदेश वापस लौट गई है। इससे अमेरिका की विश्वसनीयता और प्रतिष्ठा पर अनेक प्रश्न चिन्ह लग गए हैं। उनकी चर्चा हो रही…

कोरोना संकट और आत्मनिर्भरता 

Continue Readingकोरोना संकट और आत्मनिर्भरता 

इस कोरोना महामारी से भारत के लिए दो बड़े सबक हैं। पहला सभी मामलों में हम आत्मनिर्भर बने। दूसरा, जीवन रक्षक दवाओं के शोध व विकास पर ज्यादा ध्यान देना। कोरोना संकट न केवल हमारी स्वास्थ्य व्यवस्था को नया आकार देगा बल्कि हमारी अर्थव्यवस्था, राजनीति और संस्कृति को भी नए तरह से गढ़ेगा।

सीपीईसी को लेकर पाकिस्तान में असंतोष और विरोध

Continue Readingसीपीईसी को लेकर पाकिस्तान में असंतोष और विरोध

इस गलियारे को ऊपरी तौर पर केवल व्यापारिक दृष्टि से एक व्यापार संबंधी नया रूट खोलने के रूप में प्रदर्शित किया जा रहा है मगर तथ्य यह है कि सीपीईसी के कारण चीन की पकड़ इस क्षेत्र में जबरदस्त ढंग से मजबूत हो जाएगी और इससे सामरिक संतुलन बिगड़ेगा। खासकर अरब सागर में चीनी विस्तारवाद के लिए ग्वादर एक नया आधार बनेगा। 

तालिबान और भारत के तथाकथित सेक्युलर

Continue Readingतालिबान और भारत के तथाकथित सेक्युलर

कल्पना कीजिए अगर किसी हिन्दू संगठन ने ऐसा किया होता तो देश के सेक्युलर बुद्धिजीवियों ने कैसा रुदन मचा दिया होता? आज इन बुद्धिजीवियों और तुष्टिकरण की राजनीति के झंडावरदारों को अफगानी महिलाओं और बच्चों पर हो रहा बर्बर अत्याचार नजर नहीं आ रहा है क्योंकि वहां उनकी सेलेक्टिव सेक्युलरिज्म की थ्योरी फिट बैठती है।

अफगानिस्तान की हलचल का भारत पर प्रभाव

Continue Readingअफगानिस्तान की हलचल का भारत पर प्रभाव

अफगानिस्तान में तालिबान का वर्चस्व स्थापित हो चुका है। राष्ट्रपति अशरफ गनी, उपराष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह और उनके सहयोगी देश छोड़कर चले गए हैं।

भारत को बचना होगा तालिबानी सोच से

Continue Readingभारत को बचना होगा तालिबानी सोच से

अफगानिस्तान के पड़ोसी देशों में भारत ही एक ऐसा देश है जहाँ अफगानिस्तान के लोग शरणार्थी बनकर जा सकते हैं। क्योंकि पाकिस्तान की हालत किसी से छुपी नही है और चीन सांस्कृतिक दृष्टि से और सीमाओं की दूरी की दृष्टि से अफगानिस्तान से इतना दूर है कि वहां जाना अफगानिस्तान के लोगों को नहीं सुहाएगा। ऐसे में उन्हें भारत आना ही सबसे आसान लगेगा।

बिहार में सांप्रदायिक मामलों में कार्रवाई की रफ्तार धीमी 

Read more about the article बिहार में सांप्रदायिक मामलों में कार्रवाई की रफ्तार धीमी 
Patna: Bihar Chief Minister Nitish Kumar speaks during the International Conference on Crop Residue Management in Patna, Monday, Oct. 14, 2019. (PTI Photo)(PTI10_14_2019_000064B) *** Local Caption ***
Continue Readingबिहार में सांप्रदायिक मामलों में कार्रवाई की रफ्तार धीमी 

- थाना स्तर पर सांप्रदायिक घटनाओं या मामलों में धारा 153-ए और 295-ए लगाने के बाद इसमें आगे की कार्रवाई करने के लिए लेनी पड़ती है सरकार से अनुमति - थाना स्तर पर बिना गहन समीक्षा के इन दोनों धाराओं का कर देते उपयोग, इससे विभागीय जांच में 25-30 फीसदी…

तालिबान का कब्जा, पाक की जीत और भारत की हार कैसे हुई?

Continue Readingतालिबान का कब्जा, पाक की जीत और भारत की हार कैसे हुई?

पाकिस्तान के हिस्से में जीत और इज्जत बहुत ही कम नसीब होती है हालांकि समय समय पर पाकिस्तान खुद से इसका अनुभव करता रहता है। अफगानिस्तान में मचे बवाल के बाद अब पाकिस्तान भी उसमें अपनी हिस्सेदारी आतंकियों के साथ बता रहा है और यह होगा भी क्यों नहीं पाकिस्तान…

End of content

No more pages to load