लातूर भूकंप की 28वीं बरसी: जब सो रहे लोगों पर बरपा था कहर

Continue Readingलातूर भूकंप की 28वीं बरसी: जब सो रहे लोगों पर बरपा था कहर

30 सितंबर 1993 की वह काली रात जिसने हजारों लोगों को काल के गाल में समा दिया। महाराष्ट्र के लातूर वासियों के लिए यह दिन किसी काले दिन से कम नहीं है जिसका दर्द वह आज भी दिलों में लिए घूम रहे है। 30 सितंबर 1993 को महाराष्ट्र के लातूर में…

कुशल प्रबंधन की मिसाल बना मध्य प्रदेश

Continue Readingकुशल प्रबंधन की मिसाल बना मध्य प्रदेश

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जनता और जन प्रतिनिधियों के बीच सामंजस्य और समन्वय का ऐसा तालमेल स्थापित किया कि प्रदेश के हर व्यक्ति के सहयोग और सुरक्षा के लिए जनभागीदारी का मॉडल बनाया, जिसमें उन्होंने दलगत राजनीतिक प्रतिद्वंदता से ऊपर उठकर समाज कल्याण हेतु समाज प्रमुखों, राजनीतिक दलों और धर्म गुरुओं सहित समाजिक संस्थाओं को एक मंच पर लाकर खड़ा किया और संकट के समय प्रदेश की जनता की सुरक्षा को प्रमुख धर्म बताया।

क्या शुरु हो गयी कोरोना की तीसरी लहर?

Continue Readingक्या शुरु हो गयी कोरोना की तीसरी लहर?

कोरोना को लेकर आंकड़े अब डराने वाले आने लगे है, शुक्रवार को कोरोना संक्रमित लोगों का नंबर अचानक से बढ़ा हुआ नजर आया। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी किये गये आंकड़ों में करीब 45 हजार नए लोग संक्रमित पाए गए और इसी के साथ कुल संक्रमित लोगों की…

शिक्षा का भारतीयकरण कितना जरुरी

Continue Readingशिक्षा का भारतीयकरण कितना जरुरी

दरअसल अब नई शिक्षा नीति के अंतर्गत वास्तव में राष्ट्र की लुप्त कर दी गई सांस्कृतिक संपदा के महत्व को अंगीकार करते हुए ज्ञान, कर्म, संस्कार, भाषा, संस्कृति और कौशल दक्षता को विद्यार्थी में विकसित करने का काम मातृभाषाएं करेंगी। मानव को मानवीय बनाने के यही मानविकी विषय हैं। व्यक्तित्व निर्माण की यही परिकल्पना व्यक्ति में राष्ट्रबोध का प्रादुर्भाव करती है। मूल्य-बोध के इन संस्कारों से संपूर्ण राष्ट्र में सांस्कृतिक चेतना का लोकव्यापीकरण होगा और सनातन मानवीय मूल्यों की सुरक्षा होगी। यही मूल्य न केवल व्यक्ति को आत्मनिर्भर बनाएंगे, बल्कि देश को भी आत्मनिर्भता के शिखर पर पहुंचाएंगे।

कोरोना से निपटने हेतु यूपी का अनुकरण करे महाराष्ट्र – राम नाईक, पूर्व राज्यपाल

Continue Readingकोरोना से निपटने हेतु यूपी का अनुकरण करे महाराष्ट्र – राम नाईक, पूर्व राज्यपाल

कोरोना पर उत्तर प्रदेश सरकार अभूतपूर्व नियंत्रण प्राप्त कर रही है इसलिए योगी आदित्यनाथ, यूपी के कोरोना योद्धा और यूपी की जनता का अभिनंदन करते हुए उत्तर प्रदेश के पूर्व राज्यपाल राम नाईक ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे सहित महाविकास आघाडी सरकार से उत्तर प्रदेश का अनुकरण करने का आह्वान किया|

“स्वराज हमारा जन्म सिद्ध अधिकार है और मैं इसे लेकर ही रहूंगा”

Continue Reading“स्वराज हमारा जन्म सिद्ध अधिकार है और मैं इसे लेकर ही रहूंगा”

यह नारा देश के प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानी बाल गंगाधर तिलक ने दिया था उन्होंने ब्रिटिश सरकार को पूरी तरह से देश छोड़ने के लिए मजबूर कर दिया था। बाल गंगाधर तिलक एक प्रसिद्ध वकील, शिक्षक, समाजसुधारक और राष्ट्रवादी व्यक्ति थे बाद में लोगों ने उन्हे लोकमान्य की भी उपाधि दी।…

End of content

No more pages to load