विश्व को विश्वास देता भारत -फरवरी २०२१

कोरोना के खिलाफ लड़ाई निर्णायक दौर में पहुंच गई है और भारत ने स्वदेशी वैक्सीन का उत्पादन कर पूरी दुनिया को संजीवनी बांटनी शुरू कर दी है. जिससे अखिल विश्व भारत का गुणगान कर रहा है. वैक्सीन की चुनौती, वितरण और प्रभाव तथा बर्ड फ्लू पर सतर्कता जरुरी, इससे सम्बन्धित विषयों पर विस्तार से प्रकाश डाला गया है. इसके अलावा समसामयिक विषयों में सुरक्षा परिषद में भारत के समक्ष चुनौतियां, चीन के चंगुल से आजाद होगा तिब्बत, किसान आन्दोलन के पीछे छिपे साजिशी चेहरे, जो बाईडन का आगमन और परिवर्तन के संकेत, बंगाल में जनाधार खोती ममता तथा अध्यात्म एवं विज्ञान की प्रगति में ही मानवहित जैसे अन्य महत्वपूर्ण आलेख इस अंक में लिए गये है. साथ ही आस्था व भक्ति का कुम्भ हरिद्वार, गुरु गोविन्द सिंह और टोडरमल, संत रैदास, महात्मा ज्योतिबा फुले आदि पर प्रेरक लेख, व्यंग्य, कहानी, कार्टून, बालजगत, समाचार सहित विश्व हिन्दू परिषद् के अंतर्राष्ट्रीय कार्याध्यक्ष आलोक कुमार जी का साक्षात्कार प्रमुख आकर्षण का केंद्र है.

आपकी प्रतिक्रिया...