सब मिलकर एकसाथ कोरोना से लड़ाई लड़ें- डॉ. राजेंद्र धर्मेजा

Continue Readingसब मिलकर एकसाथ कोरोना से लड़ाई लड़ें- डॉ. राजेंद्र धर्मेजा

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के खिलाफ तकरीबन 6 महीनों से पूरा भारत लड़ाई लड़ रहा है। डॉ. राजेंद्र धर्मेजा भी  इस महामारी से मुकाबला करने के लिए लोगों को जागरूक करने का काम कर रहे हैं। उनसे कोरोना, उसकी चिकित्सा, जरूरी एहतियात और टीके आदि के बारे में हुई बातचीत के अंश यहां प्रस्तुत हैं-

संगीत है तो मैं हूं और मैं हूं तो संगीत है- शंकर महादेवन

Continue Readingसंगीत है तो मैं हूं और मैं हूं तो संगीत है- शंकर महादेवन

‘हिंदी विवेक’ द्वारा आरंभ आत्मनिर्भर भारत वीड़ियो सीरिज के अंतर्गत इस बार खास वेब-भेंटवार्ता हैं प्रसिद्ध गायक-संगीतकार शंकर महादेवन से। उनसे संगीत की दुनिया के अलावा, उनके परिवार, आने वाले युवा गायकों, उनकी गीता पर महत्वाकांक्षी संगीत परियोजना आदि संगीत क्षेत्र के विभिन्न विषयों पर हुई अंतरंग बातचीत के कुछ सम्पादित महत्वपूर्ण अंश यहां प्रस्तुत हैं-

भारतीय नजरिया ही संविधान की मौलिकता

Continue Readingभारतीय नजरिया ही संविधान की मौलिकता

प्रसिद्ध संघ विचारक और लेखक श्री रमेश पतंगे ने वेब पर ‘हिंदी विवेक’ की आत्मनिर्भर भारत भेंटवार्ता शृंखला के दौरान जो सबसे मार्के की बात कही वह यह कि देश के संविधान को भारतीय नजरिये से देखना चाहिए, न कि पश्चिम के नजरिये से। तभी हमारे संविधान की मौलिकता का पता चल जाएगा। हमारा संविधान समानता और न्याय की बात करता है। इस पर ठीक से अमल हो तो भारत आत्मनिर्भरता की ओर तेजी से बढ़ेगा। प्रस्तुत है इस प्रदीर्घ मुलाकात के कुछ महत्वपूर्ण सम्पादित अंशः-

युवाओं को ‘कंफर्ट जोन’ से बाहर निकलना चाहिए

Continue Readingयुवाओं को ‘कंफर्ट जोन’ से बाहर निकलना चाहिए

‘हिंदी विवेक’ द्वारा आरंभ आत्मनिर्भर भारत वेब-भेंटवार्ता की शृंखला में लद्दाख के एकमात्र युवा सांसद श्री जमयांग सेरिंग नामग्याल से युवा शक्ति और लद्दाख में अनुच्छेद 370 हटने के बाद आए बदलावों पर व्यापक बातचीत हुई। इस बातचीत के कुछ सम्पादित महत्वपूर्ण अंश यहां प्रस्तुत हैं-

देश हार्डवेयर में भी जल्द आत्मनिर्भर बन सकता है

Continue Readingदेश हार्डवेयर में भी जल्द आत्मनिर्भर बन सकता है

‘हिंदी विवेक’ द्वारा आरंभ ‘आत्मनिर्भर भारत’ वेब शृंखला के अंतर्गत एक विशेष भेंटवार्ता हैं भारत में सुपर कंप्यूटर के जनक प्रसिद्ध वैज्ञानिक श्री विजय भटकर से। उनसे आईटी के क्षेत्र में हुए तेज बदलावों, और अगले लक्ष्यों समेत कंप्यूटर हार्डवेयर के क्षेत्र में भी तेजी लाने पर विस्तृत बातचीत हुई। उनका कहना है कि सॉफ्टवेयर में हमने बाजी मार ली है, लेकिन हार्डवेयर में बहुत कुछ करना बाकी है। हम आत्मविश्वास दृढ़ करें तो अगले तीन-चार साल में ही इस क्षेत्र में भी आत्मनिर्भर बन सकते हैं। उनके विचारों के कुछ सम्पादित महत्वपूर्ण अंश यहां प्रस्तुत हैं-

आत्मनिर्भरता एकांगी विचार नहीं है

Continue Readingआत्मनिर्भरता एकांगी विचार नहीं है

कोरोना संकट, इस दौरान सेवा कार्यों, आत्मनिर्भर भारत, राम मंदिर से उत्पन्न आत्मसम्मान की भावना आदि अनेक विषयों पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह मा. भैयाजी जोशी से ‘हिंदी विवेक’ की विशेष भेंटवार्ता के महत्वपूर्ण अंश यहां प्रस्तुत हैं-

राम मंदिर विश्व-बंधुत्व और मानवता के लिए वरदान

Continue Readingराम मंदिर विश्व-बंधुत्व और मानवता के लिए वरदान

 अयोध्या में भव्य श्री राम मंदिर के शिलान्यास के अवसर पर प्रसिद्ध साध्वी ॠतंभरा से ‘हिंदी विवेक’ ने विस्तृत बातचीत की। साध्वीजी ने श्री राम के जीवन मूल्यों, जन जन की आस्था, वैश्विक परिवार भाव आदि भारतीय संस्कृति के मूल मूल्यों पर समेत नई शिक्षा नीति पर भी अपने विचार प्रकट किए। प्रस्तुत है इसी के महत्वपूर्ण अंशः

राम मंदिर का निर्माण राष्ट्र के आत्मविश्वास का पुनर्जागरण

Continue Readingराम मंदिर का निर्माण राष्ट्र के आत्मविश्वास का पुनर्जागरण

अयोध्या में प्रस्तावित राम मंदिर, 5 अगस्त को होने वाले उसके शिलान्यास, राम जन्मभूमि आंदोलन, और राम मंदिर को लेकर राष्ट्रीय अस्मिता से जुड़े प्रश्नों पर राम जन्मभूमि न्यास के कोषाध्यक्ष गोविन्ददेव गिरी महाराज से ‘हिंदी विवेक’ से हुई प्रदीर्घ और सीधी बातचीत के कुछ महत्वपूर्ण प्रस्तुत है।

राम मंदिर पर प्रसन्नता, बॉलीवुड़ का शुद्धिकरण जरूरी

Continue Readingराम मंदिर पर प्रसन्नता, बॉलीवुड़ का शुद्धिकरण जरूरी

राम मंदिर, सुशांत सिंह की आत्महत्या, बॉलीवुड़ में माफिया की दादागिरी, वेब सीरीजों से परोसी जाती अश्लीलता, कोरोनो व अर्थव्यवस्था जैसे अद्यतन मामलों पर सांसद डॉ. सुब्रह्मण्यम स्वामी ने हमेशा की तरह अपने बेबाक विचार प्रस्तुत किए। ‘हिंदी विवेक’ से हुई विशेष प्रदीर्घ बातचीत के ये हैं कुछ महत्वपूर्ण अंशः-

‘आपदाकाल में सरकार के साथ खड़ा है भारत का समाज’

Continue Reading‘आपदाकाल में सरकार के साथ खड़ा है भारत का समाज’

आज पूरा विश्व कोरोना महामारी के संकट से जूझ रहा है। भारत में इस संकट से लड़ने में समाज की एक बड़ी भूमिका रही है। आपदा की कसौटी पर सरकार और समाज से जुड़े अलग-अलग पक्षों को समझने के लिए इंडिया फाउंडेशन द्वारा समाज व सरकार में विभिन्न स्तरों पर काम करने वाले लोगों से चर्चा की एक श्रृंखला आयोजित की जा रही है। ध्यान देने योग्य है कि आपदाकाल में सहयोग, समन्वय और समाधान का बड़ा उदाहरण प्रस्तुत कर हुए, भारतीय समाज की एकता, चेतना व शक्ति का प्रतीक रूप में नेतृत्व राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने किया।चर्चा के क्रम में संकट के समय राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्य, समाज की भूमिका, सरकार की नीतियों तथा आने वाले समय पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह श्री भय्याजी जोशी से विस्तृत वार्ता हुई। प्रस्तुत हैं इस बातचीत के संपादित अंश –

ग्रामीण भारत को सशक्त बनाएगी बीमा मंडी योजना

Continue Readingग्रामीण भारत को सशक्त बनाएगी बीमा मंडी योजना

कारोलकर उद्योग समूह बीमा मंडी व बीमा पाठशाला की अनोखी योजनाओं के साथ बीमा क्षेत्र में प्रवेश कर रहा है। ऐसी योजनाओं से ग्रामीण भारत में आने वाली क्रांति, छोटे-छोटे तबकों को बीमा कवच उपलब्ध कराने तथा ग्रामीण भारत को प्रशिक्षित करने की योजना पर कारुलकर प्रतिष्ठान के अध्यक्ष श्री प्रशांत कारुलकर से हुई अंतरंग बातचीत के कुछ खास अंश प्रस्तुत हैं।

हेमलकसा करुणा व निष्काम कर्म का प्रतीक

Continue Readingहेमलकसा करुणा व निष्काम कर्म का प्रतीक

वरिष्ठ सामाजिक कार्यकर्ता बाबा आमटे के सुपुत्र तथा हेमलकसा आदिवासी प्रकल्प के प्रणेता डॉ.प्रकाश आमटे से जीवन, पर्यावरण व समासेवा के बारे में उनके अनुभव सुनना अपने आप में एक अलौकिक आनंद देता है। ‘हिंदी विवेक’ ने इसके अलावा उनसे कोराना, इससे उत्पन्न स्थिति और नई जीवन प्रणाली पर भी बातचीत की। उनका सार-संक्षेप यही था कि उन्होंने गीता नहीं पढ़ी, परंतु गीता को जीया है।

End of content

No more pages to load