तृणमूल कांग्रेस में भगदड़ सहमी ममता

Continue Reading तृणमूल कांग्रेस में भगदड़ सहमी ममता

ममता बनर्जी को वही लोग ललकार रहे हैं जिनके दम पर ममता बनर्जी ने पश्चिम बंगाल में राज किया लेकिन अब ममता बनर्जी के करीबी भाजपा के मंच से ममता बनर्जी को हराने की खुली चुनौती दे रहे हैं। भाजपा की रणनीति से सहमी तृणमूल कांग्रेस ने वाम मोर्चा और कांग्रेस से भाजपा की सांप्रदायिक एवं विभाजनकारी राजनीति के खिलाफ लड़ाई में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का साथ देने की अपील की। पर कांग्रेस और वाम दलों ने तृणमूल कांग्रेस की इस सलाह को सिरे से खारिज कर दिया।

चीन के चंगुल से आजाद होगा तिब्बत

Continue Reading चीन के चंगुल से आजाद होगा तिब्बत

भारत-चीन तनाव के बीच अमेरिका ने दुनिया में तिब्बत का मुद्दा उठाकर एक तरह से भारत को मौका दिया है चीन के विस्तारवादी नीति का जवाब देने का। भारत के सामने भी ‘करो या मरो’ की स्थिति है। भारत के पास नेहरू की गलती को सुधारने का यही आखरी और सबसे अच्छा मौका है। यदि भारत भी दृढ़ इच्छाशक्ति का परिचय देकर अमेरिका की तरह अपनी नीति में आक्रामक बदलाव करे तो निश्चित रूप से चीनी ड्रैगन का फन कुचला जा सकता है।

सुरक्षा परिषद में भारत के समक्ष चुनौतियां

Continue Reading सुरक्षा परिषद में भारत के समक्ष चुनौतियां

भारत अब दो वर्षों के लिए राष्ट्रसंघ सुरक्षा परिषद के तात्कालिक सदस्य के रूप में कार्य करेगा। इस दौरान उसे चीन की आक्रामकता और पाकिस्तान की कारगुजारियों की चुनौतियों का सामना करना होगा। चीन का हिमालय में भारत ने जिस तरह से मुकाबला किया है उसे देखते हुए ड्रैगन को रोकने में भारत की महत्ता को विश्व जान चुका है और इसलिए भारत की ओर सबकी नजरें हैं।

जो बाइडेन का आगमन और परिवर्तन के संकेत

Continue Reading जो बाइडेन का आगमन और परिवर्तन के संकेत

अमेरिका में सामाजिक आधार पर जो ध्रुवीकरण हो रहा है, वह ज्यादा बड़ी चिंता का विषय है। यह सामाजिक विभाजन खत्म नहीं हो जाएगा, बल्कि अंदेशा है कि बढ़ेगा। नए राष्ट्रपति जो बाइडेन के सामने ज्यादा बड़ी चुनौती उस सामाजिक टकराव को रोकने की है, जो अब शुरू होगा। अमेरिका के गोरे बाशिंदे, जो खेती या औद्योगिक मजदूर हैं अपने देश में बाहर से आए लोगों को लेकर परेशान हैं। उनके सामने रोजगार की समस्याएं भी खड़ी हुईं हैं।

आत्मनिर्भर भारत संकल्प सिद्धि का मूलमंत्र

Continue Reading आत्मनिर्भर भारत संकल्प सिद्धि का मूलमंत्र

बेशक आज स्थानीयता का आधार चीन के प्रति नफरत का मनोवैज्ञानिक वातावरण है, लेकिन दीर्धकालिक नजरिये से यह लोकचेतना भारत के आत्मनिर्भर लक्ष्य को सिद्ध करने वाली साबित होगी। भारतीय हुनर के मामले में किसी से कमतर नहीं है।

उत्तर प्रदेश पर्यटन: योगी सरकार की नई नीति, होटल की जगह घर में रुकेंगे पर्यटक

Continue Reading उत्तर प्रदेश पर्यटन: योगी सरकार की नई नीति, होटल की जगह घर में रुकेंगे पर्यटक

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार राज्य को हर दिशा में तेजी से आगे ले जाने का प्रयास कर रही है। विदेशी निवेश, फिल्म सिटी, छोटे और बड़े उद्योग धंधों के बाद अब राज्य सरकार पर्यटन को लेकर तेजी से काम कर रही है। योगी सरकार के इस प्रयास से…

ISRO ने लांच किया कम्यूनिकेशन सैटेलाइट, मोबाइल व टीवी के सिग्नल में होगा सुधार

Continue Reading ISRO ने लांच किया कम्यूनिकेशन सैटेलाइट, मोबाइल व टीवी के सिग्नल में होगा सुधार

🇮🇳Mission Accomplished! 🇮🇳@isro successfully launches #PSLVC50🚀 from Satish Dhawan Space Centre, #Sriharikota #CMS01🛰️ successfully injected into orbit🌍#ISRO pic.twitter.com/I8OfN8q8dC — PIB India (@PIB_India) December 17, 2020 बुधवार से ही सतीश धवन स्पेस सेंटर ने PSLV के लिए 25 घंटे की उल्टी गिनती शुरु हो गयी थी जो गुरुवार को पूरी हुई…

चीन का हस्तक्षेप कमजोर होता नेपाल

Continue Reading चीन का हस्तक्षेप कमजोर होता नेपाल

चीन और नेपाल के बीच तिब्बत के रास्ते रेलमार्ग बनाने पर भी संधि हुई है। चीन ने काठमांडू से करीब 200 किमी दूर पोखरा में क्षेत्रीय हवाई अड्डा निर्माण के लिए नेपाल को 21.6 डॉलर का सस्ती ब्याज दर पर ऋण दिया है। मुक्त व्यापार समझौते पर भी हस्ताक्षर हुए हैं। नेपाल में तेल और गैस की खोज करने पर भी चीन सहमत हुआ है। इसके लिए वह नेपाल को आर्थिक और तकनीकी मदद देने को राजी हो गया है।

इस्लामिक कट्टरपंथ विश्व-मानवता के लिए ख़तरा

Continue Reading इस्लामिक कट्टरपंथ विश्व-मानवता के लिए ख़तरा

आज सचमुच इसकी महती आवश्यकता है कि इस्लाम को मानने वाले अमनपसंद लोग आगे आएं और खुलकर कहें कि सभी रास्ते एक ही ईश्वर की ओर जाते हैं, अपने-अपने विश्वासों के साथ जीने की सबको आज़ादी है और अल्लाह के नाम पर किया जाने वाला खून-ख़राबा अधार्मिक है, अपवित्र है।

ट्रंप की पराजय से कितने बदलेंगे भारत-अमेरिका रिश्ते

Continue Reading ट्रंप की पराजय से कितने बदलेंगे भारत-अमेरिका रिश्ते

तत्कालिन राष्ट्रपति बराक ओबामा के कार्यकाल में जो बाइडेन उप राष्ट्रपति थे और भारत के साथ अच्छे रिश्ते बनाने के जबर्दस्त समर्थक थे। उन्होंने पहले सीनेट की विदेशी मामलों की समिति के अध्यक्ष के रूप में और बाद में उप राष्ट्रपति के रूप में अमेरिका की भारत-समर्थक नीतियों को आगे बढ़ाया। वस्तुतः उपराष्ट्रपति बनने के काफी पहले सन 2006 में उन्होंने कहा था, ‘मेरा सपना है कि सन 2020 में अमेरिका और भारत दुनिया में दो निकटतम मित्र देश बनें।’

देसी गाय के फायदों को जान आप हो जायेंगे हैरान!

Continue Reading देसी गाय के फायदों को जान आप हो जायेंगे हैरान!

हिन्दू धर्म की यह परंपरा रही है कि खाने से पहले की रोटी गाय के लिए निकाली जाती है और अंतिम रोटी कुत्ते के लिए रखी जाती है। मध्य प्रदेश की शिवराज सिंह चौहान की सरकार अब इसी धर्म को आगे ले जाते हुए गायों के संरक्षण के लिए गौ…

अमेरिकी ड्रोन से हो रही हिंद महासागर की निगरानी

Continue Reading अमेरिकी ड्रोन से हो रही हिंद महासागर की निगरानी

चीन और पाकिस्तान के मंसूबों से वाकिब भारतीय सेना लगातार अपनी शक्ति को मजबूत करने मे लगी हुई है। चीन और पाकिस्तान इस कदर बौखलाए हुए है कि वह किसी भी तरह से भारत को दबाने की कोशिश कर सकते है ऐसे में हर समय देश के जवानों और सरकारों…

End of content

No more pages to load