भारत विरोधियों को सबक सिखाने राष्ट्रहित में करें मतदान

Continue Readingभारत विरोधियों को सबक सिखाने राष्ट्रहित में करें मतदान

बात सुनने में ही समूची दुनिया की भलाई है। यूक्रेन-रूस के मध्य छिड़े युद्ध पर प्रधान मंत्री मोदी जब बोले कि 'This is not an era of war' तो पूरी दुनिया ने राहत की सांस ली। इसराइल-हमास जंग, ग्लोबल वार्मिंग, जलवायु परिवर्तन, कार्बन क्रेडिट अथवा साउथ अफ्रीकी देशों को G-20 का सदस्य बनाने जैसे विश्व-व्यापी प्रमुख मुद्दों पर भारत के रुख को दुनिया गंभीरता से ले रही है। आज भारत ग्लोबल साउथ का निर्विवादित लीडर बनकर उभर रहा है।

उत्सवों के रंग में रंगा गोवा

Continue Readingउत्सवों के रंग में रंगा गोवा

गोवा की विभिन्न जातियों, जनजातियों और धर्म की सांस्कृतिक अभिव्यक्ति ही गोवा की कुल कला और संस्कृति का प्रतीक है। यहां के उत्सव, संगीत, नाटक, शिल्पकला, चित्रकला, हस्तकला इनका ग्राफ लेने कि यह एक कोशिश है।

अरूणांचल प्रदेश के कैंसर मुक्त जागरूकता अभियान में महाराष्ट्र का सहभाग

Continue Readingअरूणांचल प्रदेश के कैंसर मुक्त जागरूकता अभियान में महाराष्ट्र का सहभाग

इस शिविर का लाभ  यहां के  शिक्षक-शिक्षिकाओं एवं विद्यार्थियों ने उठाया।  इस शिविर के लिए अपर जिलाधिकारी  ताशी शीरिग, वरिष्ठ डेंटल सर्जन डाॅ.  जेन्डेन त्सुइंग की विशेष उपस्थिति थी।  इस दिन भी लाभार्थियों की संख्या काफी रही।  तवांग जिला समन्वयक लूंडुप चोसाग ने शिविर को सफल बनाने के लिए अथक प्रयास किया। 

इतिहास के पन्नों में गोवा

Continue Readingइतिहास के पन्नों में गोवा

स्कंद पुराण के अंतर्गत सहयाद्री खंड में गोवा के लिए गोराष्ट्र तथा गोमांत शब्द का उल्लेख किया गया है, वहीं नए पाषाण युग की मानव बस्तियों के अवशेष भी गोवा में मिले हैं। गोवा का इतिहास बहुत विस्तृत है। डालते है उसपर एक नजर।

हलाल प्रमाणित उत्पादों पर प्रतिबंध एक अनिवार्य और उचित कार्यवाही 

Continue Readingहलाल प्रमाणित उत्पादों पर प्रतिबंध एक अनिवार्य और उचित कार्यवाही 

हलाल का समर्थन करने वाले लोग हिंदू सनातन विरोधी  और आतंकवाद का समर्थन करने वाले लोग हैं और यही लोग अभी हमास का समर्थन करते हुए भी दिखाई पड़ रहे थे। अतः हिंदू समाज जागृत होकर अपनी रसोई में अगर हलाल प्रमाणित पैकेट रखा हो तो उसे बाहर फेंक दे और अगला पैकेट वही ख़रीदे जिस पर हलाल प्रमाणित न लिखा हो।      

खेल ‘खेल’ न रहा 

Continue Readingखेल ‘खेल’ न रहा 

कुछ साल पहले तक भारत में प्रोफेशनल खेलों के नाम पर केवल क्रिकेट ही था जहां ‘नेम और फेम’ दोनों मिलता था परंतु ये सिर्फ महानगरों के लोगों तक ही सीमित था। आज जब अन्य खेलों के लीग मैच इतनी बड़ी संख्या में हो रहे हैं तो एक परिवर्तन यह भी दिखाई देता है कि देश के छोटे-छोटे खिलाड़ियों को भी अपनी प्रतिभा दिखाने का अवसर मिल रहा है।

Dark web इइंटरनेट की अंधियारी गलियां

Continue ReadingDark web इइंटरनेट की अंधियारी गलियां

जिन गलियों की जानकारी न हो उनमें घूमना वैसे ही भयावह होता है और अगर वो गलियां अंधियारी हो तो भय का बढ़ना निश्चित है। डार्क वेब इंटरनेट की ऐसी ही अंधियारी गलियारों में लगा बाजार है, जहां डाटा से लेकर हथियारों और कई गैरकानूनी वस्तुओं की खरीद-बिक्री होती है।

वरदान न बने अभिशाप

Continue Readingवरदान न बने अभिशाप

तकनीक या विज्ञान जितनी प्रगति कर रहा है उतना ही यह प्रश्न सुरसा की तरह मुंह फैला रहा है कि इसे वरदान कहें या अभिशाप? हालांकि मशीनी युग में भी मानवीय संवेदनाएं ही इसका सही उत्तर देंगी कि मानव के लिए क्या सही है और क्या गलत।

भारत की मनमोहक लोक चित्रकलाएं

Continue Readingभारत की मनमोहक लोक चित्रकलाएं

घर के आंगन में रोज बनाई जाने वाली रंगोली से लेकर दीवारों पर आयोजन विशेष के आधार पर बनाए जाने वाले चित्रों तक, सब कुछ भारतीय लोककला का जीवंत प्रमाण है। आज भारत की ये लोककलाएं पूरे विश्व में अपनी विशेष पहचान के लिए जानी जाती हैं। मधुबनी हो, वार्ली हो या ईसर-गवरी के चित्र हों, सभी देखने वालों का मन मोह लेती हैं।

वैचारिक आंदोलनों का सुपरिणाम

Continue Readingवैचारिक आंदोलनों का सुपरिणाम

आज हम जिस दुनिया को देख रहे हैं, वह कई सुधारवादी परिवर्तनों के बाद ऐसी दिखाई दे रही है। वैश्विक स्तर पर हुए इन परिवर्तनों को लाने के लिए कई बार लंबे चलनेवाले आंदोलनों का सहारा भी लेना पड़ा है। विश्व भर में हुए इन आंदोलनों तथा उनके सुपरिणामों पर प्रकाश डालता आलेख।

2024 का चुनाव अमृत काल की बानगी

Continue Reading2024 का चुनाव अमृत काल की बानगी

आगामी लोकसभा चुनावों के परिणाम यह तय करेंगे कि भारत की अमृत काल में प्रगति की दिशा क्या होगी। यह तो भविष्य के गर्भ में है कि भारत की जनता अपने भविष्य की बागडोर किसके हाथों में देना चाहती है, परंतु यह अवश्य समझ लेना चाहिए कि अल्पकालीन विषयों या चुनावी झांसों में न फंसते हुए दूरदृष्टि रखकर अपने मताधिकारों का प्रयोग करना होगा।

तबाही का हमासी न्योता

Continue Readingतबाही का हमासी न्योता

पिछले संकटों में, इज़राइल भारत के साथ खड़ा रहा है और उसकी मदद करने की कोशिश की है। हमास के आतंकवादी कृत्य की निंदा करने और संकट की घड़ी में इज़राइल के साथ खड़े होने की भारत की प्रतिबद्धता की पुष्टि करने में प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की त्वरित प्रतिक्रिया संकेत है कि हाल के वर्षों में यह देश भारत के लिए कितना महत्वपूर्ण हो चुका है।

End of content

No more pages to load