अल्पसंख्यकों को भारतीय नागरिकता देने की दरकार

Continue Reading अल्पसंख्यकों को भारतीय नागरिकता देने की दरकार

गृह मंत्री अमित शाह ने असम, मेघालय और अरुणाचल प्रदेश के राजनीतिक नेताओं, छात्र संगठनों, नागरिक संगठनों और पूर्वोत्तर राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ नागरिकता सुधार विधेयक के विभिन्न पहलुओं पर अनेकों बार चर्चा की।

जम्मू – कश्मीर का हुआ सार्थक विभाजन

Continue Reading जम्मू – कश्मीर का हुआ सार्थक विभाजन

    जम्मू - कश्मीर का जम्मू - कश्मीर और लद्दाख के रूप में विभाजन ने उस पल सार्थकता ग्रहण कर ली जब इन केंद्र शासित प्रदेशों में उपराज्यपाल के रूप में राधाकृष्णन माथुर और गिरीश चंद्र मुर्मु ने शपथ - ग्रहण कर ली। इस अहम् पल के साथ ही अलग निशान और विधान का शासन खत्म हो...

आम कश्मीरियों को अपना बनाने के लिए व्यापक प्रयासों की दरकार

Continue Reading आम कश्मीरियों को अपना बनाने के लिए व्यापक प्रयासों की दरकार

महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनाव में मतदान होने के बाद तुरंत सभी मीडिया ने एक्जिट पोल दिखाना शुरू कर दिया। तदनुसार  दोनों राज्यों में यह भविष्यवाणी की गई है कि भाजपा फिर से सरकार में आएगी।

चीन है भारत का नंबर वन दुश्मन ?

Continue Reading चीन है भारत का नंबर वन दुश्मन ?

तत्कालीन पल्लव शासकों के दिनों में, तमिलनाडु के व्यापार और आयात और निर्यात का सीधा संबंध चीन से था। जिनपिंग ने यह भी महसूस किया कि एक बार मजबूत रिश्ते से वर्तमान और भविष्य को उज्ज्वल किया जा सकता है।

शेख हसीना की भारत यात्रा और बांग्लादेशी घुसपैठ

Continue Reading शेख हसीना की भारत यात्रा और बांग्लादेशी घुसपैठ

वर्तमान वर्ष के दौरान,  दोनों ही देशों में १२ समझौतों, परियोजनाओं और योजनाओं पर सहमती जताई गई। जिनमें से ७ समझौतों पर भारत में शेख हसीना द्वारा हस्ताक्षर किए गए और तीन परियोजनाएं शुरू की गईं।

भविष्य के युद्ध और अत्याधुनिक हथियार

Continue Reading भविष्य के युद्ध और अत्याधुनिक हथियार

परम्परागत युद्ध का जमाना अब लद चुका है। अब युद्ध अधिक तकनीकी व आधुनिक हथियारों से लड़े जाएंगे। इसी तरह अनियंत्रित सीमाहीन छापामार युद्ध भी हैं, जो अशांति, साम्प्रदायिकता फैलाकर व मीडिया को हाईजैक कर महज आतंक व भय फैलाने के लिए लड़े जाते हैं। इन दोनों से मुकाबले के लिए नए भारत को तैयारी करनी होगीे।

नए भारत के निर्माण में गुजरात सबसे आगे

Continue Reading नए भारत के निर्माण में गुजरात सबसे आगे

मोदी जी नौकरशाही में विश्वास करने की बात करते हैं और गुजरात भी नौकरशाही में विश्वास का पक्षधर है। एक सशक्त नौकरशाही कम समय में कई क्रांतिकारी बदलाव ला सकती है। गुजरात इसका उदाहरण है जहां नौकरशाही ने अपनी नीतियों और बेहतरीन प्रबंधन से कई चुनौतियों को अवसरों में बदला है।

सेक्युलरिज्म का चश्मा उतारें

Continue Reading सेक्युलरिज्म का चश्मा उतारें

महाभारत में पांडवों की विजय में सबसे बड़ा भाग अर्जुन का था। अर्जुन के बिना पांडव जीत ही नहीं सकते थे। आज दुनिया में अर्जुन की तरह अमेरिका है .. महाभारत में जब दुर्योधन को मारने की बारी आई तो वह क्षमता केवल भीम में थी। आज मैनुफैक्चरिंग सेक्टर में चीन भीम की तरह है। महाभारत के बाद जब राजा चुनने की बारी आई तो सभी लोग कृष्ण की ओर देख रहे थे कि वे किसे राजा बनाते हैं। परंतु उन्होंने न अर्जुन को चुना न भीम को।...क्योंकि धर्मराज युधिष्ठिर ...सारी दुनिया को समदृष्टि से देखते हैं भारत ही धर्मराज युधिष्ठिर बन सकता है।

गुलाम कश्मीर की आजादी जरूरी

Continue Reading गुलाम कश्मीर की आजादी जरूरी

    केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने इंदौर में कहा है कि ‘जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद-370  हटाए जाने के बाद अब सरकार जल्दी ही पाक अधिकृत कश्मीर पर बड़ा कदम उठा सकती है। क्योंकि पीओके भारत का हिस्सा है और उसे भारत में मिलाना हमारा दायित्व है। इस विलय के संबंध में सर्वसम्मति से संसद में प्रस्ताव भी पारित होते रहे हैं।

धारा 370 और 35A को निरस्त करने का ऐतिहासिक फैसला

Continue Reading धारा 370 और 35A को निरस्त करने का ऐतिहासिक फैसला

राज्यसभा ने ऐतिहासिक फैसला देते हुए जम्मू-कश्मीर पुनर्निर्माण बिल को मंजूरी दे दी है। तकनीकी कारणों के कारण, बिल को पत्र द्वारा वोट दिया गया और बहुमत से इसे मंजूरी दे दी गई। इस बिल को मंजूरी मिलते ही दो नए केंद्र शासित प्रदेश - जम्मू और कश्मीर और लद्दाख अस्तित्व में आ गए। इसके साथ ही जम्मू-कश्मीर से धारा ३७० को हटा दिया गया है।

कश्मीर में लौटेगा बहुलतावादी चरित्र

Continue Reading कश्मीर में लौटेगा बहुलतावादी चरित्र

दशकों से इस राज्य के भीतर जो लोग आतंक के साये में और घाटी से विस्थापित जो पंडित मातृभूमि से खदेड़े जाने का दंश झेलते हुए शिविरों में जी रहे थे, उन्हें राहत मिलने जा रही है। इन लोगों की पीड़ा को पूरा देश और केंद्र में रही सरकारें बखूबी जानती थीं, लेकिन इस यथास्थिति को तोड़ने की हिम्मत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह ही दिखा पाए

ईरान को लेकर दो हिस्सों में विभाजित दुनिया

Continue Reading ईरान को लेकर दो हिस्सों में विभाजित दुनिया

अमेरिका के ईरान के साथ हुए परमाणु समझौते से अलग हो जाने के बावजूद रूस, चीन, फ्रांस, ब्रिटेन और जर्मनी अभी भी इस समझौते से सहमत हैं। इसीलिए ईरान भी अमेरिका के खिलाफ तल्ख तेवर अपनाए हुए है। इसीलिए दुनिया को लग रहा है कि कहीं जंग का सिलसिला शुरू न हो जाए?

End of content

No more pages to load