हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

भीमा-कोरेगांव दंगों में माओवादियों का हाथ – कैप्टन स्मिता गायकवाड

Continue Reading

भीमा कोरेगाव की घटना के विरोध में ३ जनवरी २०१८ को मुंबई में भी प्रदर्शन किया गया था, रैलियां निकली गईं थीं, बंद का आव्हान किया गया था.  कल इस घटना को एक वर्ष पूर्ण हो रहा  है. अब केंद्र तथा राज्य में  एक मजबूत राष्ट्रवादी सरकार आने और माओवादियों…

संगीत के लिए नज़र नहीं, नज़रिये की आवश्यकता है

Continue Reading

“मैं वाद्ययंत्र बजाती नहीं हूं; बल्कि उनसे बातें करती हूं, उनके साथ गप्पें लड़ाती हूं, खूब मस्ती करती हूं। मैंने वाद्ययंत्रों के साथ ही जीवन भर का नाता मैंने जोड़ लिया है।”, कहती हैं 65 वाद्ययंत्रों को बजाने में महारत हासिल कर लिम्का बुक ऑफ वर्ल्ड रेकॉर्ड में अपना नाम दर्ज करने वाली नेत्रहीन सुश्री योगिता तांबे। प्रस्तुत है उनसे अंतरंग बातचीत के कुछ प्रेरक अंशः-

लोग शेट्टी जी से दीवानगी की हद तक स्नेह करते हैं – भाई गिरकर

Continue Reading

मुंबई के शताब्दी अस्पताल में डॉ.बाबासाहेब आंबेड़कर की प्रतिमा के अनावरण के अवसर पर महाराष्ट्र विधान परिषद में भाजपा के प्रतोद विधायक श्री भाई गिरकर से पिछड़े वर्गों, विशेषकर सफाई कर्मियों एवं मातंग समाज की समस्याओं, आरक्षण, संविधान, देश-प्रदेश की राजनीति और क्षेत्र के सांसद श्री गोपाल शेट्टी के अथक कार्यों पर   प्रदीर्घ बातचीत हुई। इसी के प्रमुख अंश यहां प्रस्तुत हैंः

आंबेडकर कम्युनिस्टों के सख्त खिलाफ थे

Continue Reading

सांसद श्री गोपाल शेट्टी के प्रयासों से इसी माह मुंबई के शताब्दी रुग्णालय में महामानव डॉ.बाबासाहेब आंबेडकर की प्रतिमा का अनावरण किया जा रहा है। इस संदर्भ में प्रस्तुत है आंबेडकरी विचारक, अध्येता व लेखक श्री एस. एस. यादव से आंबेडकर, आरक्षण, मोदी सरकार के दलितों के पक्ष में कार्य, दलित वर्ग और माओवादी, भीमा-कोरेगांव घटना    आदि पर हुई विस्तृत बातचीत के सम्पादित अंशः

संविधान पर अमल ही मेरा जीवन ध्येय – सांसद गोपाल शेट्टी

Continue Reading

मुंबई के शताब्दी अस्पताल में इसी माह डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर की पूर्णाकृति प्रतिमा का अनावरण और साथ में आंबेडकर उद्यान का शुभारंभ हो रहा है। इस अवसर पर राष्ट्रपुरुषों की प्रतिमाओं, दलित पिछड़े वर्गों, अपने निर्वाचन क्षेत्र में किए गए कामों, 2019 के चुनावों समेत राजनीतिक परिवेश पर बोरिवली क्षेत्र के भाजपा सांसद श्री गोपाल शेट्टी से हुई प्रदीर्घ बातचीत के सम्पादित अंशः

ऊटपटांग कपडे पहनना फैशन नहीं

Continue Reading

राजनीतिक नेताओं और फिल्मी सितारों के लिए परिधान डिजाइन करने वालेे फिल्म उद्योग के मशहूर डिजाइनर पिता-पुत्र माधव एवं राहुल अगस्ती ने एक विशेष साक्षात्कार में भारतीय फैशन की दुनिया की एक से एक खासियतें उजागर की हैं। दोनों ने माना है कि फैशन ऊटपटांग नहीं होनी चाहिए, स्थान, माहौल, क्षेत्र और समय के अनुरूप होनी चाहिए।

मेकअप जादू की छड़ी है

Continue Reading

आपको और आकर्षक व सुंदर रूप में प्रस्तुत करना मेकअप आर्टिस्ट का मूल काम है। भारत में यह विधा अब तेजी से बढ़ रही है, नए-नए लोग अब इस ओर आकर्षित हो रहे हैं। मेकअप की दुनिया, उत्पाद, कक्षाओं आदि पर प्रसिद्ध मेकअपमैन  श्री भरत गोडाम्बे से हुई बातचीत के…

हर एक की अपनी फैशन है – अदिती गोवित्रीकर

Continue Reading

आपने जो पहना है, उसमें आप सहज हैं, आप पर वह सुंदर लग रहा है तो वही आपका फैशन होना चाहिए। जो दुनिया करे वह फैशन नहीं है। इस दृष्टि से देखें तो हर कोई फैशनेबल है।  प्रस्तुत है मिसेज इंडिया और मिसेज वर्ल्ड का खिताब जीतने वाली सुंदरी अदिति गोवित्रिकर से फैशन की दुनिया पर हुई बातचीत के महत्वपूर्ण अंश-

मॉडलिंग में आना आसान टिकना मुश्किल – प्रवीण सिरोही

Continue Reading

मॉडलिंग की दुनिया बड़ी चकाचौंध भरी दुनिया है। युवा इसमें आने के सपने देखते हैं, देखना भी चाहिए; लेकिन इसमें टिकने के लिए संघर्ष की कोई हद नहीं है। मॉडलिंग के पेशे पर प्रसिद्ध मॉडल व अभिनेता प्रवीण सिरोही से हुई बातचीत के अंश प्रस्तुत हैंः

खिताब पाने का उद्देश्य समाजसेवा – पिंकी राजगडिया

Continue Reading

परम्परागत मारवाड़ी परिवार से आई पिंकी राजगडिया का मिसेज इंडिया व मिसेज यूनिवर्स तक का सफर रोमांचक और कड़े परिश्रमों से भरा सफर है। प्रस्तुत है इस सफर के विभिन्न पहलुओं पर हुई बातचीत के महत्वपूर्ण अंश, जो इंगित करते हैं कि भारतीय महिलाएं ठान लें तो हर क्षेत्र में सफलता के झंड़े गाड़ सकती हैं।

रसोई  तो और चटखारेदार बनी है

Continue Reading

भारतीय पाक कला ने अब अपना स्वरूप बदल दिया है। खाना बनाने की तकनीक, व्यंजनों में मिलाए जाने वाले पदार्थ, प्रस्तुति की तकनीक आदि बहुत कुछ बदला है और बदलता रहेगा। इससे भारतीय व्यंजनों को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता मिली है। प्रस्तुत है प्रसिद्ध शेफ पद्मश्री संजीव कपूर से हुई बातचीत के अंश-

न्यायपालिका को अधिक मजबूत करना होगा

Continue Reading

स्वाधीनता के बाद अदालतों में आए बदलावों, मुकदमों में होने वाली देरी, उनके कारणों, कसाब मामला व न्याय व्यवस्था की अन्य समस्याओं पर प्रसिद्ध अधिवक्ता उज्ज्वल निकम से हुई बातचीत के महत्वपूर्ण अंश प्रस्तुत है- 

End of content

No more pages to load

Close Menu