शिक्षा स्वावलंबन तथा आत्मसन्मान के लिए हो: रमेश पतंगे

Continue Reading शिक्षा स्वावलंबन तथा आत्मसन्मान के लिए हो: रमेश पतंगे

सिद्ध विचारक तथा लेखक मा. रमेश पतंगे जी को उनकी पुस्तक ‘सामाजिक समरसता तथा डॉ. बाबासाहब आंबेडकर’ के लिए महाराष्ट्र राज्य सरकार का पुरस्कार प्रदान किया गया है। इस अवसर पर प्रस्तुत पुस्तक तथा समसामयिक विषयों पर उनसे हुए संवाद के कुछ अंश

खोया हुआ धन

Continue Reading खोया हुआ धन

गोपाल के पिता की आर्थिक स्थिति ठीक न थी, फिर भी उसके पिता की इच्छा थी कि उसे पढ़ा-लिखा कर एक अच्छा इंसान बनाए। इसीलिए मां के स्वर्गवास के बाद भी उसके पिता ने उसकी कमी महसूस न होने दिया था। पर दुर्भाग्य से गोपाल के ऊपर मुसीबत का पडाड़ टूट पड़ा। उसकी पढ़ाई अभी

काले धन का कुचला फन

Continue Reading काले धन का कुचला फन

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने ८ नवम्बर की रात को ५०० और १,००० रुपये के नोट बंद करने का जो ऐलान किया, वह पी. वी. नरसिंह राव के समय भारत की अर्थव्यवस्था को खोलने के निर्णय के बाद का सबसे बड़ा आर्थिक निर्णय था। जिस देश में आधी से अधिक अर्थव्यवस्था अब भी नकदी

आर्थिक सुनामी, जनता, और मीडिया

Continue Reading आर्थिक सुनामी, जनता, और मीडिया

पिछले माह देश ने एक भयंकर सुनामी का सामना किया। यह सुनामी प्राकृतिक नहीं वरन् मानव निर्मित थी। काला धन रखने वालों के होश उड़ाने वाली थी। जी हां! यह सुनामी आर्थिक सुनामी थी। ८ नवम्बर की रात प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने एक पत्रकार परिषद में कड़े शब्दों में

अबकी बार ट्रंप सरकार

Continue Reading अबकी बार ट्रंप सरकार

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने दूसरे देशों के लोगों को अमेरिका में रोजगार देने का जो विरोध किया है उससे भारतीयों की नौकरियों पर कुछ असर पड़ने की आशंका है। फिर भी यह बहुत बड़ा असर नहीं होगा। जानकारों का कहना है कि सिलिकॉन वैली की इमेज इतनी अच्छी है कि भारत ज्यादा प्रभावित नहीं होगा; क्योंकि अमेरिका को भी विशेषज्ञों की जरूरत है।

नोटबंदी और उत्तरप्रदेश चुनाव

Continue Reading नोटबंदी और उत्तरप्रदेश चुनाव

उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधान सभा चुनावों से पहले केन्द्र सरकार द्वारा की गई नोटबंदी को लेकर सियासत भी शुरू हो गई है और कई राजनीतिक दल इसे चुनावी फायदे के लिए उठाया गया कदम बताने में जुट गए हैं। हालांकि प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी इसे देशहित म

लो आ गई स्टाइलिश ठंड

Continue Reading लो आ गई स्टाइलिश ठंड

      ठंड आते ही धूप सुनहरी लगने लगती है। कुनकुना पानी नहाते समय आरामदायक लगता है, और रात को सोते वक्त रजाई हमारी सबसे अच्छी सहेली बन जाती है। लेकिन इन सब के अलावा ठंड में सुंदर दिखने के लिए हमारे पास ढेरों तरीके भी उपलब्ध हो जा

मीडिया चौपाल में विकास और सरोकारों पर मंथन

Continue Reading मीडिया चौपाल में विकास और सरोकारों पर मंथन

        विज्ञान-विकास और मीडिया पर हरिद्वार के निष्काम सेवा ट्रस्ट     में दो दिवसीय ‘मीडिया चौपाल’ सम्पन्न हुआ। विज्ञान, विकास और सामाजिक सरोकार के विषयों को केन्द्र में रख कर ‘मीडिया चौपाल&

सवाल पाकिस्तान के वजूद का

Continue Reading सवाल पाकिस्तान के वजूद का

पाकिस्तान के लिए इस समय सब से बड़ी आवश्यकता यह है कि अपने-आप को, अपनी युवा पीढ़ी को आने वाली पीढ़ियों को अमेरिका तथा पश्चिमी देशों के प्रकोप से बचाए। अमेरिका का नया नेतृत्व पाकिस्तान को अवश्य दंडित करेगा। तब चीन भी पाकिस्तान की रक्षा नहीं कर पाएगा। पाकिस्तान का एक और विघटन होगा। फिर पाकिस्तान को अपना वजूद बनाए रखने के लिए भारत के पास ही आना होगा।

दिल्ली का वायु-प्रलय

Continue Reading दिल्ली का वायु-प्रलय

राजधानी परिक्षेत्र में धुंध बेहद बढ़ गई, सामने सौ मीटर पर भी कुछ दिखाई न दें, सांस लेना दूभर हो गया, मास्क भी कोई काम नहीं दे रहे थे, कई बीमार हो गए। प्रकृति से खिलवाड़ की यह सजा है। परमाणु बम से भी अधिक यह ‘पर्यावरण बम’ विनाशक है। पहले जैसे जल-प्रलय हुआ करते थे, वैसे अब वायु-प्रलय होंगे। दिल्ली की स्थिति इसका आरंभिक संकेत है।

मुस्लिम महिलाओं से ही बदलाव की अपेक्षा

Continue Reading मुस्लिम महिलाओं से ही बदलाव की अपेक्षा

मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड’ को मुस्लिम व्यक्ति कानून को मजहबी कानून करार देकर उसके संशोधन में रोड़े नहीं अटकाने चाहिए। इससे भारतीय संविधान के अनुरूप सब के लिए समान नागरी कानून बनाने में सहायता होगी। फलस्वरूप, मुस्लिम कानून में तीन तलाक और बहुपत्नीत्व जैसी महिलाओं के प्रति अन्यायपूर्ण प्रथाएं समाप्त होंगी और मुल्ला-मौलवियों के हाथ में खिलौना बना मुस्लिम समाज प्रगति की ओर उन्मुख होगा।

आर्थिक क्रांति का प्रारंभ

Continue Reading आर्थिक क्रांति का प्रारंभ

ऐसा लग रहा है कि स्वाधीनता के ६९ वर्ष बाद भारत के इतिहास में वास्तविक अर्थ में आर्थिक सुधारों और क्रांति का पर्व आरंभ हो चुका है। इसकी साक्ष्य है मोदी सरकार का एक अत्यंत महत्वपूर्ण कदम। ५०० और १००० रु. के नोटों का निर्मौद्रिकरण कर के उन्हें रद्द कर देना।

End of content

No more pages to load