हम सब एक ही है ! – डॉ. मोहन जी भागवत

Continue Readingहम सब एक ही है ! – डॉ. मोहन जी भागवत

डॉ. मोहन जी ने कहा, हिंदू- मुस्लिम एक हैं इसका कारण हमारी मातृभूमि एक है। पूजा- पद्धति अलग होने के कारण हमें अलग नहीं किया जा सकता। सभी भारतीयों का डीएनए एक है। भाषा, प्रदेश और अन्य विषमताओं को छोड़कर सभी भारतीयों को एक होकर भारत को विश्व गुरु बनाने का समय आ गया है। भारत विश्व गुरु बनने के बाद विश्व सुरक्षित होगा।

राष्ट्रनिर्माण का उत्तरदायित्व

Continue Readingराष्ट्रनिर्माण का उत्तरदायित्व

स्वतंत्रता का 75 वां वर्ष किसी देश के लिए महोत्सव का अवसर होने के साथ आत्मनिरीक्षण का भी समय होता है। यह इसलिए आवश्यक है, क्योंकि दासता से मुक्ति संघर्ष हमें सही दिशा में काम करने के लिए अभिप्रेरित करेगा। भारत राष्ट्र के संदर्भ में सबसे महत्वपूर्ण बिंदु यह ध्यान…

भारत के राष्ट्रत्व का अनंत प्रवाह

Continue Readingभारत के राष्ट्रत्व का अनंत प्रवाह

भारतीय दर्शन, भारत की राष्ट्र की अवधारणा अपने आप में समृद्ध और सम्पूर्ण है। इस प्रकार यह पुस्तक किसी भी राष्ट्र का भारतीय दर्शन समझाने वाले चिन्तक या जिज्ञासु के पुस्तकालय के लिए अत्यावश्यक है। मैं तो यहां तक कहूंगा कि यह पुस्तक सभी विभूषित विद्वानों और तथाकथित विद्वानों को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ द्वारा भेंट की जानी चाहिए, ताकि उनकी आंखों और मस्तिष्क में जमी धूल कुछ तो साफ़ हो।

समान नागरिक संहिता की अनिवार्यता

Continue Readingसमान नागरिक संहिता की अनिवार्यता

भाजपा ने अपने घोषणापत्र में वादा किया था कि ‘समान नागरिक संहिता’ का मसौदा सर्वोत्तम परंपराओं पर आधारित है और आधुनिक समय के साथ उनका सामंजस्य स्थापित करता है। यहां लैंगिक समानता तब तक नहीं हो सकती, जब तक भारत समान नागरिक संहिता नहीं अपनाता, जो सभी महिलाओं के अधिकारों की रक्षा करता है। बिल्कुल ऐसी ही बात न्यायमूर्ति प्रतिभा एम. सिंह ने हाल में मीणा याचिका की सुनवाई करते हुए कही है। उन्होंने कहा कि विवाह, तलाक, उत्तराधिकार आदि के कानून सबके लिए समान होने चाहिए।

नए विधेयकों पर पेगासस की छाया

Continue Readingनए विधेयकों पर पेगासस की छाया

कांग्रेस सहित विपक्ष निहित राजनीतिक स्वार्थों के कारण जनसंख्या नियंत्रण विधेयक के विरोध में है और संसद के मानसून सत्र में उसका भूत निकलने का डर उसे सता ही रहा था कि दिल्ली उच्च न्यायालय ने देश में समान नागरिक संहिता की वकालत करते हुए केंद्र को इसे लागू करने के लिए समुचित कदम उठाने के लिए कह दिया।

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी

Continue Readingउत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी

उत्तराखंड के नवनियुक्त मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी की आयु मात्र 45 वर्ष है। इनकी कैबिनेट में कुल 11 मंत्री हैं। सभी आयु एवं राजनीतिक और प्रशासनिक अनुभव में मुख्यमंत्री जी से काफी वरिष्ठ हैं। विधानसभा चुनाव में मुश्किल से 9 माह का वक्त बचा है। ऐसे में अभी तक का सबसे युवा मुख्यमंत्री का चयन कर भारतीय जनता पार्टी ने उत्तराखण्ड का पूरा राजनीतिक परिदृश्य ही बदल डाला है।

चुनाव परिणाम के स्पष्ट संदेश

Continue Readingचुनाव परिणाम के स्पष्ट संदेश

जिला पंचायत चुनाव को भले हम आप विधानसभा चुनाव की पूर्वपीठिका न मानें, लेकिन, आत्मविश्वास का यह माहौल योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में भाजपा को पूरे उत्साह से विधानसभा चुनाव में काम करने को प्रेरित करेगा। किसी भी संघर्ष में, चाहे वह चुनावी हो या फिर युद्ध का मैदान, परिणाम निर्धारित करने में आत्मविश्वास और उत्साह की सर्वाधिक महत्वपूर्ण भूमिका होती है। यह स्थिति भविष्य की दृष्टि से भाजपा के पक्ष में जाती है और स्वाभाविक ही विपक्ष के विरुद्ध।

विरासत के आधार पर स्वतंत्र भारत का विकास

Continue Readingविरासत के आधार पर स्वतंत्र भारत का विकास

स्वतंत्रता के 75वें वर्ष में अगर हर भारतीय यह निश्चय कर ले कि वह अपनी हर कृति के केंद्र में अपने राष्ट्र को रखेगा, उस कृति का परिणाम अगर राष्ट्रहित में नहीं है तो वह कृति नहीं करेगा तो भारत को विकसित और सुखी राष्ट्र बनने से कोई नहीं रोक सकता।

गली गली में : राजधानी दिल्ली

Continue Readingगली गली में : राजधानी दिल्ली

दिल्ली तप ही रही थी शाहीन बाग से, विधान सभा चुनावों से, जेएनयू से, ज्योतिरादित्य सिंधिया के भाजपा में शामिल होने से, निर्भया के न्याय से और कोरोना से। ...ये तपिश धीरे-धीरे बढ़ती गई और पहुंचती गई दिल्ली से देश की हर गली तक।

End of content

No more pages to load