पति बेचारा….. कोरोना और बारिश का मारा

Continue Reading पति बेचारा….. कोरोना और बारिश का मारा

“पत्नी ने भी झूठा गुस्सा दिखाते हुए एक गैस पर चाय का बर्तन और दूसरे पर कढ़ाई चढ़ा दी। साथ ही अपने भी वॉट्सएप्प ज्ञान का परिचय देते हुए पति को नसीहत भी दे डाली कि कल से रोटियां बनाना सीख लो क्योंकि मोदी जी ने कहा है कि जब तक देश के सारे मर्द गोल रोटियां बनाना नहीं सीख लेते तब तक लॉकडाउन नहीं खुलेगा।”

सावन कि यह कैसी सरगम

Continue Reading सावन कि यह कैसी सरगम

सावन-भादो की बारिश का संगीत और उसमें जुड़ते वैज्ञानिक आधार के स्वर इस नाटिका को इंद्रधुनुषी रंगों से भर देते हैं। साहित्य और विज्ञान दोनों एक धरातल पर आ जाते हैं। यह एक अद्भुत संयोग है।

पद्मनाभस्वामी मंदिर फैसले के दूरगामी परिणाम

Continue Reading पद्मनाभस्वामी मंदिर फैसले के दूरगामी परिणाम

केरल के श्री पद्मनाभस्वामी मंदिर का स्वामित्व पूर्ववर्ती शाही परिवार को सौंपने के सर्वोच्च न्यायालय के फैसले के दूरगामी परिणाम होंगे। इससे विभिन्न राज्य सरकारों द्वारा हिन्दू मंदिरों और उनके मठों पर नियंत्रण को जो साजिश हो रही थी, उस पर अंकुश लगेगा।

कारगिल युद्ध- वीरता की अनुपम मिसाल

Continue Reading कारगिल युद्ध- वीरता की अनुपम मिसाल

26 जुलाई का दिन देशभर में कारगिल विजय दिवस के रूप में मनाया जाता है। यह विजय भारतीय सेना की अनुपम वीरता की मिसाल है। चोटियों पर सन्नद्ध पाकिस्तानी सैनिकों की बौछारों के बीच चोटी काबिज कर दुश्मन को मार देना आसान नहीं होता। लेकिन हमारे जांबाजों ने ऐसे करतब दिखाए कि दुश्मन को दुम दबाकर भागना पड़ा या मौत की नींद सोना पड़ा।

बिजली गिरा के आप खुद, बिजली से डर गए

Continue Reading बिजली गिरा के आप खुद, बिजली से डर गए

शम्मी कपूर एक ऐसा सितारा है, जिसे जिस पीढ़ी ने भी देखा, अपने मन में बसा लिया। शम्मी कपूर के हर पीढ़ी के चहेते होने में सबसे बड़ी भूमिका उनकी संगीत के साथ अलौकिक संगत की थी।

धारावी: संघशक्ति से काबू में आया कोरोना

Continue Reading धारावी: संघशक्ति से काबू में आया कोरोना

एशिया की सबसे बड़ी झोपड़पट्टी धारावी (मुंबई) में कोरोना महामारी को नियंत्रित करने वाला मॉडल अब पूरे विश्व में अब चर्चित है और विश्व स्वास्थ्य संगठन ने अन्य देशों को इसे अपनाने की सलाह दी है। इस सफलता का श्रेय राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, विश्व हिन्दू परिषद, बजरंग दल, निरामय फाउंडेशन, हिन्दू युवा वाहिनी आदि संघ प्रेरित संगठनों व अन्य स्थानीय सामाजिक, सांस्कृतिक, धार्मिक संस्थाओं के संयुक्त प्रयासों को है। कर्तव्य की भावना से की गई हजारों स्वयंसेवकों की मेहनत रंग लाई है।

साबुन-कोरोना का दुश्मन

Continue Reading साबुन-कोरोना का दुश्मन

साबुन के केमिकल को वायरस के बाहरी परत का फैट तोड़ने में थोड़ा वक्त लगता है और हाथ को अच्छी तरह धोने में कुछ समय लगता है। लगभग 20 सेकंड़ में ये दोनों काम पूरे हो जाते हैं। ...ए से लेकर ज़ेड़ तक अंग्रेजी वर्णमाला को मन में बोलें तो इतने समय में दोनों हाथ अच्छी तरह धुल जाएंगे।

कभी खुशी, कभी गम देने वाली मेरे गांव की बारिश

Continue Reading कभी खुशी, कभी गम देने वाली मेरे गांव की बारिश

कोंकण पर वर्षा के रूप में ईश्वर की कृपा बरसती रहती है। दुनिया में कुछ भी हो फिर भी कोंकण कभी प्यासा नहीं रहा। इसी कारण प्रकृति ने दिल खोलकर कोंकण में सौंदर्य लुटाया है। मेरा गांव भी इसी मनोहारी सुरम्यता का उपहार लिए है.

कोरोना और कोकोनट

Continue Reading कोरोना और कोकोनट

कोरोना के खिलाफ वर्जिन कोकोनोट ऑयल की उपयोगिता यदि सिद्ध हो गई तो नारियल का भारी पैमाने में उत्पादन करने वाले भारत के बहुत अच्छे दिन आ जाएंगे। प्राकृतिक दवाओं के विश्व बाजार में हम अपनी पैठ बना लेंगे। कहीं ऐसा न हो कि कोई छोटा देश इसमें बाजी मार जाए और अमेरिका उसका पेटेंट कराकर उसे मंहगी दवा के रूप में हमें परोस दें।

सचिन के सामने हिट विकेट का खतरा

Continue Reading सचिन के सामने हिट विकेट का खतरा

आने वाले समय में राजस्थान की राजनीति के ऊंट की करवट का इंतजार सबको रहेगा। यह देखना दिलचस्प होगा कि सचिन शतकवीर साबित होते हैं, हिट विकेट होते हैं, रन आउट होते हैं या विकेट के पीछे कैच थमाते हैं।

सत्य क्या है?

Continue Reading सत्य क्या है?

गलवान घाटी में मुठभेड़ को अब 3 हफ्ते से अधिक का समय गुजर गया है। इन तीन हफ्तों में इस घटना पर चर्चा करने वाले लेखों की बरसात हुई है। राहुल गांधी एंड कंपनी घटना का राजनीतिकरण करने में मगन है। उनके प्रश्नों एवं वक्तव्यों को गंभीरता से लेने का कोई कारण नहीं है।

नाम को सार्थक करता राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ

Continue Reading नाम को सार्थक करता राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ

घ की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि सेवा कार्यों को करने के दौरान संघ ने केवल सेवा की भावना को ही कायम रखा है। परंतु वह किसी एक प्रकार के ‘पैटर्न’ या ‘फॉर्मेट’ में कार्य नहीं करता और न ही इस सेवा के पीछे उसका कोई छिपा एजेंडा होता है। अत: संघ उस समय की परिस्थिति को देखते हुए आवश्यकता के अनुरूप बिना किसी भेदभाव के समाज को साथ लेकर समाज के प्रत्येक व्यक्ति तक सहायता पहुंचाने के लिए कटिबद्ध होता है।

End of content

No more pages to load