कला में परिवर्तन हो रहा है

Continue Reading कला में परिवर्तन हो रहा है

निजी तौर पर तो कला के क्षेत्र में हो तो बहुत कुछ रहा है जिसके कारण भारत के चित्रकारों को निरंतर पहचान मिल रही है किन्तु आवश्यकता है इस दिशा में सरकार द्वारा भी कोई ठोस कदम उठाने की। कलाकारों को महज सम्मानित कर देने से कला का सम्यक विकास नहीं होगा।कला तभी जीवित रह सकती है, जब कलाकार जीवित रहे और अपने जीवन निर्वाह के लिए किए जाने वाले प्रयासों से परे होकर विचार करने के लिए उसका मन स्वतंत्र हो।

पर्यटन उद्योग के विकास में तेजी

Continue Reading पर्यटन उद्योग के विकास में तेजी

पर्यटन में साधनों के विकास के साथ तेजी से इजाफा हो रहा है। आज देश के जीडीपी में पर्यटन उद्योग की भागीदारी लगभग साढ़े नौ प्रतिशत है। इससे नए-नए रोजगार उपलब्ध हो रहे हैं। ‘उड़ान’ जैसी नई योजना के अंतर्गत देश के छोटे हवाई अड्डों का विकास किया जा रहा है, जिससे देश में आंतरिक हवाई सफर आम नागरिकों की पहुंच में आ गया है।

भारतीय पर्यटन की जान : वन पर्यटन

Continue Reading भारतीय पर्यटन की जान : वन पर्यटन

सम्पूर्ण भारत के वन्य-जीवन का आनंद उठाने के लिए तो शायद कुछेक साल भी कम पड़ेंगे। लेकिन हमारे नियमित पर्यटन स्थलों के कार्यक्रम के साथ यदि हम वन-पर्यटन का कार्यक्रम भी जोड़ दें तो भारत के कुछ महत्वपूर्ण अभयारण्यों का दर्शन करना और कुछ अनोखे जीव-जंतुओं को देखना शायद मुश्किल न होगा। हजारो वर्षों की परंपरा और गौरवशाली इतिहास के साथ-साथ ही, हमारे देश को समृद्धशील भूगोल और सतरंगी प्राकृतिक संपदा का वरदान भी मिला है। जहां एक ओर विदेशी पर्यटकों के लिए हमारा भारत, ताजमहल और अजंता-एलोरा का देश है, आलिशान राजमहलों

हमर छत्तीसगढ़!!

Continue Reading हमर छत्तीसगढ़!!

छत्तीसगढ़ की विशेषता है यहां का अपनापन, यहां का आदर-आतिथ्य, यहां की संस्कृति, यहां का भोजन, यहां के वन, यहां के वनवासी, यहां का मौन, यहां का शांत जीवन, यहां के व्रत और यहां के उत्सव। इसलिए पधारो हमर छत्तीसगढ़!!  १ नवंबर २००० यही वह तारीख है जब, एक नए राज्य छत्तीसगढ़ का जन्म हुआ था। केवल १७ वर्ष पहले जन्मे इस राज्य में अछूते पर्यटन स्थलों की भरमार है। आदिवासी और ग्राम्य संस्कृति से सराबोर इस राज्य में आना, किसी स्वर्ग में आने के समान है। शहरी आपाधापी से दूर... मौन, शांति और आनंद के लिए, छत्तीसगढ़ से बेहतर

अद्भुत गोवा

Continue Reading अद्भुत गोवा

गोवा के समुद्री किनारे तो अद्भुत हैं। मीरामार समुद्री तट यानी सुनहरी रेत का समुद्री किनारा। यहां के सनबाथ का अनुभव अवर्णनीय है। गोवा की सैर हमेशा सैलानियों की स्मृतियों में छायी रहती है। गोवा का नाम सुनकर ही मन चर्च और समुद्र किनारों की छवि बनाने लगता है परंतु गोवा के मंदिर भी अद्भुत हैं और इन मंदिरों ने ही गोवा की संस्कृति की रक्षा करने का कर्य किया है।  भारत १५ अगस्त १९४७ को स्वतंत्र हुआ फिर भी गोवा में पराधीनता कायम रही। उसके बाद कुछ काल शांति रही परंतु बाद में सन् १९५६ में गोवा लिबरेशन आर्मी की स्थ

पर्यटन क्षेत्रों से समृद्ध महाराष्ट्र

Continue Reading पर्यटन क्षेत्रों से समृद्ध महाराष्ट्र

महाराष्ट्र इतिहास, अध्यात्म एवं संस्कृति से भरापूरा है और पर्यटन के अनोखे अवसर प्रदान करता है। प्रकृति ने इसे खूब सौगात दी है। यहां के समुद्र तट और अरण्य दोनों समान रूप से आकर्षक है। महाराष्ट्र पर्यटन की दृष्टि से बहुत समृद्ध है। परंतु ऐसा लगता है कि जितना आवश्यक है उतनी शासकीय मदद नहीं मिलती या फिर राजनीतिक इच्छाशक्ति की कमी के कारण प्रदेश पर्यटन के विकास में पिछड़ रहा है। यहां कई ऐतिहासिक किले हैं, पत्थरों में उकेरी हुई उत्कृष्ट चित्रकारी है, कास पठार जैसे अनेक स्थान हैं जो महाराष्ट्र में ‘वैली

उत्तर प्रदेश की सांस्कृतिक विरासत और मीडिया

Continue Reading उत्तर प्रदेश की सांस्कृतिक विरासत और मीडिया

  उत्तर प्रदेश की समृद्ध सांस्कृतिक परंपरा रही है। शिक्षा, कला, संगीत, साहित्य, संस्कृति क्षेत्र में यहां के शिक्षाविदों एवं कलाकारों ने पूरे देश में ही नहीं अपितु वैश्विक स्तर पर अपनी पहचान बनाई है। हिंदी पत्रकारिता का प्रारंभ भी उत्तर प्रदेश के

टूर आपरेटर सेवा में कमी का दोषी

Continue Reading टूर आपरेटर सेवा में कमी का दोषी

अपने परिवार के साथ हम हंसी-खुशी से छुट्टियां बिताने के लिए टूर पर जाते हैं। इसलिए हम चाहते हैं कि टूर तनाव रहित हो और मजे वाला हो। यदि टूर आपेरटर की लापरवाही से हमें मुश्किलें पैदा होती हैं तो लगता है,

तन और मन का रंजन

Continue Reading तन और मन का रंजन

पर्यटन के अब कई रूप बन गये हैं। आयुर्वेदिक चिकित्सा इसका एक अंग है। दक्षिण भारत में इस तरह के केंद्र बने हैं, जहां आयुर्वेदिक पध्दति से चिकित्सा की जाती है। मन को सुकून मिलता है और तन तंदुरुस्त बनता हैा

फुहारों के रंग

Continue Reading फुहारों के रंग

मानसून शब्द सुनते ही मन प्रफुल्लित हो उठता है। इस मौसम में मानो प्रकृति सभी सजीव और निर्जीव जगत को अपनी तरफ आने का आह्वान करने लगती है। मानव हो या पशु-पक्षी, जड़ क्या चेतन सबमें एक नये रंग और तरंग का संचार होने लगता है। किसान हो या व्यापारी, बच्चे हों या जवान या बूढे, लेखक हो या फिल्मकार सभी में कल्पना के पंख लग जाते हैं।

अभयारण्य में उठायें छुट्टियों का आनंद

Continue Reading अभयारण्य में उठायें छुट्टियों का आनंद

गर्मी के मौसम में सैर-सपाटे का इंतजार हर किसी को होता है - वह चाहे नौकरीपेशा व्यक्ति हो या व्यवसायी या छात्र या फिर आम नागरिक ही क्यों न हो । लेकिन हर बार लाख टके का सवाल यही पैदा होता है कि पर्यटन पर निकला जाये तो कहां ?

End of content

No more pages to load