गर्म खिचड़ी को किनारे-किनारे से खाते रहिये

Continue Readingगर्म खिचड़ी को किनारे-किनारे से खाते रहिये

बात थोड़ी पुरानी है।2014 से पहले की।बात तब की जब कम्युनिस्ट आतंकियों ने अपने विचारधारा के अनुसार ही बस्तर को कसाईखाना (अब भी कसाईयत जारी ही है)में बदल दिया था। लगातार गरीब और वंचित आदिवासियों, निम्न-मध्य वर्ग, देश भर के गरीब किसान-मजदूर परिवार से आने वाले सुरक्षा बलों कीवे लगातार…

मुखर विदेश मंत्री व नीति

Continue Readingमुखर विदेश मंत्री व नीति

नए भारत की विदेश नीति भी नई होगी यह ऐलान तो प्रधान मंत्री पहले ही कर चुके थे। अब उनके ऐलान को वास्तविकता का चोगा पहनाने का काम विदेश मंत्री एस. जयशंकर कर रहे हैं। वे अंतरराष्ट्रीय पटल पर हर देश को उसकी ही भाषा में आंख से आंख मिलाकर जवाब दे रहे हैं।

सीपेक तो बहाना है, भारत को डराना है

Continue Readingसीपेक तो बहाना है, भारत को डराना है

संसार में चीन एक मात्र ऐसा देश है जिसके बारे में कहावत है " ऐसा कोई सगा नही जिसको हमने ठगा नही"। चीन की यह नीति रही कि पड़ोसी देशों का अतिक्रमण किया जाय। हांगकांग और मकाऊ चीन ने पहले ही हड़प लिए हैं उसकी सीमाओं से सटे 14 देश…

हिमालय की तरह अचल भारत- नेपाल मैत्री 

Continue Readingहिमालय की तरह अचल भारत- नेपाल मैत्री 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुद्ध पूर्णिमा के अवसर पर नेपाल की यात्रा की, यह यात्रा ऐसे समय में हुई है जब विश्व  का बहुत बड़ा हिस्सा युद्ध और हिंसा के वातावरण के दौर से गुजर रहा है। विश्व के कई देश कोविड महामारी के बाद आंतरिक अशांति से गुजर रहे…

चीन से दोस्ती, जी का जंजाल

Continue Readingचीन से दोस्ती, जी का जंजाल

रूस और यूक्रेन युद्ध के बीच भी चीन ने ताइवान पर हमले की बात कहकर विश्व को दो खेमों में बांटने की योजना बनाई थी परंतु वह उसे आगे नहीं ले जा सका क्योंकि वह चाहता था कि चूंकि चीन रूस के साथ है तो रूस भी ताइवान मुद्दे पर उसके साथ खड़ा रहेगा, परंतु यह बात अधिक आगे नहीं बढ़ी।

हायब्रिड हमलों से रहें सजग

Continue Readingहायब्रिड हमलों से रहें सजग

कश्मीर को लेकर पाकिस्तान की गतिविधियां अब जमीनी से आगे बढ़कर हायब्रिड युद्ध की दिशा में मुड़ गई हैं। अब वह पीआर एजेंसियों के माध्यम से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत विरोधी गतिविधियां संचालित करने की कोशिश कर रहा है। इसलिए भारत को भी आगे आकर उसी अंदाज में जवाब देना चाहिए।

दुनिया चुका रही रुस-यूक्रेन युद्ध की कीमत

Continue Readingदुनिया चुका रही रुस-यूक्रेन युद्ध की कीमत

रूस और यूक्रेन के बीच चल रहे युद्ध का असर अब पूरी दुनिया पर दिखने लगा है और यह असर महंगाई के रूप में नजर आ रहा है। भारत सहित तमाम देशों में महंगाई अपने चरम पर पहुंच गयी है और यह किसी भी सरकार के काबू से बाहर है।…

युद्ध से चुनौतियां बढ़ने के आसार

Continue Readingयुद्ध से चुनौतियां बढ़ने के आसार

भारत द्वारा रूस से सस्ती दर पर कच्चे तेल की खरीद से रूपये को मजबूती मिलेगी और भारतीय विदेशी मुद्रा के भंडार में भी कमी नहीं आएगी। साथ ही, इससे व्यापार घाटे की खाई भी ज्यादा चौड़ी नहीं होगी। भारत की इस कूटनीतिक पहल से अंतरराष्ट्रीय बाजार और दुनिया के देशों में भारत की साख में बढ़ोत्तरी होने की संभावना भी बढ़ी है।

वैश्विक स्तर पर भारत का निरन्तर बढ़ता वर्चस्व

Continue Readingवैश्विक स्तर पर भारत का निरन्तर बढ़ता वर्चस्व

नवीन वैश्विक परिवेश में भारत का वर्चस्व, उसकी अन्तर्राष्ट्रीय प्रतिष्ठा को बढ़ाने एवं राष्ट्रीय हितों की पूर्ति सहायक सिद्ध हो रहा है। यही कारण है कि यूक्रेन पर आक्रमण को लेकर रूस और अमेरीका सहित पश्चिमी देश भारत को अपने अपने पाले में लाने के निरन्तर प्रयास में लगे हुए…

नई विश्व-व्यवस्था की खोज

Continue Readingनई विश्व-व्यवस्था की खोज

पेट्रोलियम की भूमिका समाप्त होगी, तो उससे जुड़ी शक्ति-श्रृंखलाएं भी कमजोर होंगी। उनका स्थान कोई और व्यवस्था लेगी। हम मोटे तौर पर पेट्रो डॉलर कहते हैं, वह ध्वस्त होगा तो उसका स्थान कौन लेगा? यह परिवर्तन नई वैश्विक-व्यवस्था को जन्म देगा। भारत का भी महाशक्ति के रूप में उदय होगा। संरा सुरक्षा परिषद की व्यवस्था में बदलाव का प्रस्ताव है। भारत, जर्मनी, जापान और ब्राजील का ग्रुप-4 सुरक्षा परिषद की स्थायी सीट का दावेदार है। अमेरिका और रूस दोनों भारत के दावे के समर्थक हैं, पर चीन उसे स्वीकार नहीं करता।

चतुर्भुज सुरक्षा संवाद (क्वाड) का सकारात्मक सन्देश

Read more about the article चतुर्भुज सुरक्षा संवाद (क्वाड) का सकारात्मक सन्देश
India's Foreign Minister Subrahmanyam Jaishankar, Japan's Foreign Minister Toshimitsu Motegi, Australian Foreign Minister Marise Payne and U.S. Secretary of State Mike Pompeo pose for a picture as they attend a meeting in Tokyo, Japan October 6, 2020. Charly Triballeau/Pool via REUTERS
Continue Readingचतुर्भुज सुरक्षा संवाद (क्वाड) का सकारात्मक सन्देश

  सामयिक एवं सामरिक दृष्टि से अत्यन्त महत्वपूर्ण हिन्द प्रशांत क्षेत्र में भारत, आस्ट्रेलिया, जापान और अमेरिका का औपचारिक चतुर्भुज सुरक्षा ढांचा (क्वाड) या संगठन समकालीन समय में उत्पन्न ‘बेहद महत्वपूर्ण अन्तर’ को पाट रहा है। वास्तव में ‘क्वाड’ का लक्ष्य हिन्द प्रशान्त क्षेत्र में चीन की आक्रामक गतिविधियों के…

जनरल बिपिन रावत से क्यों खौफ खाते थे देश के दुश्मन

Continue Readingजनरल बिपिन रावत से क्यों खौफ खाते थे देश के दुश्मन

8 दिसम्बर 2021 का दिन एक बेहद दुखद दुर्घटना के लिये याद किया जायेगा जिस दिन हमारे पहले चीफ आफ डिफेन्स स्टाफ (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी श्रीमती मधुलिका रावत समेत 11 अन्य सेना के अधिकारियों और र्कर्मियों की तमिलनाडु के कुन्नूर इलाके में हेलीकाप्टर दुर्घटना में असमायिक निधन हो गया और पूरे…

End of content

No more pages to load