समाज, संस्था और सरकार मिल कर करें नए भारत का निर्माण – गिरीश भाई शाह

Continue Reading समाज, संस्था और सरकार मिल कर करें नए भारत का निर्माण – गिरीश भाई शाह

केवल सरकार देश की सारी समस्याओं का समाधान नहीं कर सकती। उसमें समाज को भी अपना योगदान देना होगा। इसलिए सरकार और सामाजिक संस्थाओं का समन्वय जरूरी है। इसके लिए गिरीश भाई लगातार प्रयासरत हैं।

दुबला मन, मोटा तन

Continue Reading दुबला मन, मोटा तन

अकसर लोग किसी की नज़र लग जाने से अपने आपको दुबला हुआ मान लेते हैं, पर इन मोटों को तो किसी की नज़र भी नहीं छूती। क्योंकि, तन तो मोटा हो गया, जिसने मन को दुबला बना दिया।

महिलाएं बीमारी से कैसे बचें?

Continue Reading महिलाएं बीमारी से कैसे बचें?

मानसिक तैयारी और शारीरिक तैयारी आपको बीमारियों के कष्ट को कम करने में बहुत मदद कर सकती है। खान - पान, नियमित व्यायाम शरीर और मन दोनों को स्वस्थ रखने का पहला हथियार है। कष्ट को टाले नहीं, डॉक्टरी सलाह समय पर अवश्य लें।

डिप्रेशन को ना करें नज़रअंदाज़

Continue Reading डिप्रेशन को ना करें नज़रअंदाज़

जरूरी है कि मानसिक स्वास्थ्य के प्रति लोगों विशेष कर महिलाओं में भी जागरूकता फैलें और वे अपनी परेशानियों में दब कर ना रहें। इसके लिए परिवार का संवेदनात्मक सहयोग जरूरी है।

भारतीय ग्रामीण महिलाए

Continue Reading भारतीय ग्रामीण महिलाए

महिला आंदोलनों में ग्रामीण महिलाओं की आवाज दब कर रह गई है। आज जो कुछ भी अधिकार मिल रहे हैं वे सिर्फ शहरी मध्यम वर्ग की महिलाएं प्राप्त कर रही हैं।

महिला उद्यमिता का विकास

Continue Reading महिला उद्यमिता का विकास

नारी की महान शक्ति स्रोत को पहचान कर ही भारत ने उसे सदा नमन किया है। वर्तमान सरकार ने भारतीय स्त्री को आर्थिक, शैक्षिक तथा भावनात्मक रूप से स्थिर और उन्नत बनाने के लिए सदैव ही प्रयास किए हैं और कई सहायता योजनाएं जारी की हैं।

सबलता से होगा महिला सशक्तिकरण

Continue Reading सबलता से होगा महिला सशक्तिकरण

महिलाओं को मानसिक रूप से सशक्त और आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर होने के साथ ही सकारात्मक, मितभाषी और मित्रवत बने रहना चाहिए, वरना उनमें और पुरुषों में फर्क ही क्या रह जाएगा। महिलाओं के इसी गुण की वजह से ही तो उन्हें ‘देवी’ की संज्ञा दी जाती है।

वीरांगणाओं की भूमि भारत

Continue Reading वीरांगणाओं की भूमि भारत

भारतीय नारी के इस शक्ति स्वरूप की विषद् व्याख्या भारतीय वाङ्मय में मिलती है। ... पुराण काल से वर्तमान समय तक हमारी भारतभूमि तमाम ऐसी पुरुषार्थ साधिकाओं के शौर्य से गौरवान्वित होती आ रही है।

सुरक्षा के हेतु उपकरण और एप

Continue Reading सुरक्षा के हेतु उपकरण और एप

सोशल मीडिया के लाभ के साथ नुकसान भी हैं, इसलिए इसका सतर्कता के साथ उपयोग करना चाहिए। ऐसे कई उपकरण हैं जो आपको तकनीक के खतरों से बचा सकते हैं। संकट की घड़ी में आपके बचाव के लिए कई एप भी हाजिर हैं।

अब और नहीं!

Continue Reading अब और नहीं!

हम सभी के लिए शर्मसार होने वाली बात है कि ’घरेलू हिंसा’ को आज भी हर परिवार का आंतरिक मामला ही समझा जाता है। इन घटनाओं को रोकने के बजाय लोग इनसे दूरी बना लेना बेहतर समझते हैं। आखिर कब जागेगी दुर्गा?

कानून निर्माण में महिलाओं का योगदान

Continue Reading कानून निर्माण में महिलाओं का योगदान

वैदिक काल से लेकर आज तक महिलाओं ने अपने-अपने क्षेत्रों में अभूतपूर्व काम किया है। सामाजिक प्रश्नों पर आंदोलनों के साथ-राजनीति में भी वे अगुवा रहीं। वे महिलाओं व बच्चों की सुरक्षा के उपाय लागू करने और कानून बनाने में सहायक रही हैं। भारतीय संस्कृति की उदारता के कारण यह संभव हो पाया है।

बलात्कार की मानसिकता और उसका निदान

Continue Reading बलात्कार की मानसिकता और उसका निदान

रेप’ या ’बलात्कार’... एक ऐसा शब्द, जो बोलने या सुनने में तो बहुत छोटा-सा लगता है, लेकिन इसकी पीड़ा कितनी लंबी और दुखदायी हो सकती है, इसका अंदाजा सिर्फ और सिर्फ वही लगा सकती है, जिसके साथ यह बर्बरता होती है। बाकी लोग बस इसके बारे में तरह-तरह की बातें ही कर सकते हैं।

End of content

No more pages to load