एक दलीय शासन की ओर बढ़ता भारत!

Read more about the article एक दलीय शासन की ओर बढ़ता भारत!
(FILES) In this file photo taken on May 23, 2019, Indian Prime Minister Narendra Modi (L) and President of the ruling Bharatiya Janata Party (BJP) Amit Shah gesture as they celebrate the victory in India's general elections, in New Delhi. - As the battle-hardened drill sergeant for Prime Minister Narendra Modi, Amit Shah has long been considered India's second most-powerful person and his appointment on May 31 as home minister elevates his position to leader-in-waiting. While Modi is the right-wing Bharatiya Janata Party's people person firing up rallies and mastering Twitter, the BJP president has for years made sure that Modi's orders are carried out to the letter while turning the world's biggest political party into the undisputed force across the nation of 1.3 billion people. (Photo by Money SHARMA / AFP)MONEY SHARMA/AFP/Getty Images
Continue Readingएक दलीय शासन की ओर बढ़ता भारत!

राजनीति के बड़े जानकारों में शुमार प्रशांत किशोर ने एक साक्षात्कार में कहा था कि भारतीय जनता पार्टी लंबे समय तक सत्ता में रहने वाली है और इसे कोई हटा नहीं सकता है यानी देश एक दलीय शासन की ओर बढ़ रहा है। भारत के राजनीतिक इतिहास की तरफ देखें…

राजद्रोह – केवल राजगद्दी का मोह

Continue Readingराजद्रोह – केवल राजगद्दी का मोह

भारतीय समाज में सास बहू के झगड़े बिल्कुल ऐसे ही रहे हैं जैसी आधुनिक राजनीति। अपना मौका मिलते ही परिभाषाएं भी बदल जाती हैं, आचरण भी बदल जाता है। यह उस धारणा के आलोक में है जिस धारणा में अंग्रेजों के शासन काल में 1870 में एक कानून बनाया गया…

राजनीतिक हथियार बनी पुलिस

Continue Readingराजनीतिक हथियार बनी पुलिस

आज दोपहर में जब पंजाब पुलिस तजिंदर बग्गा को लेकर पंजाब जा रही थी, तब पूरी टीम बड़ी खुश थी। आखिर इतने बड़े अपराधी को पकड़ने के लिए इतने हफ्तों से लगे हुए थे बेचारे, SIT बनी हुई थी आज इतने आराम से सारा काम हो गया था। अब जल्दी…

मुफ्तखोरी का शिकार श्रीलंका

Continue Readingमुफ्तखोरी का शिकार श्रीलंका

श्रीलंका ने डिफ़ॉल्ट कर दिया है । स्वयं घोषणा करके श्रीलंका ने विश्व समुदाय को सूचित कर दिया है कि वह न तो कोई उधार या उसका ब्याज चुकाएगा । इस वर्ष 4 बिलियन डॉलर का भुगतान श्रीलंका को करना था और जुलाई तक एक बिलियन डॉलर का पर श्रीलंका…

समाज में एकत्व भाव का निर्माण ही है समाजिक समरसता

Continue Readingसमाज में एकत्व भाव का निर्माण ही है समाजिक समरसता

सामाजिक समरसता समाज के भीतर रहने वाले तमाम जन समुदायों के बीच एकत्व निर्माण की एक आदर्श स्थिति है, जिस समरस समाज की अवधारणा को प्रभु राम ने बताया जिसमें वे कहते है“ समाज का निर्माण व्यक्ति-व्यक्ति के भीतर परस्पर “एक होने” के भाव एवं समता, बंधुत्व के विचार पर…

कांग्रेस के मटियामेट होने की जिम्मेदारी किसकी ?

Continue Readingकांग्रेस के मटियामेट होने की जिम्मेदारी किसकी ?

कांग्रेस पार्टी ऐसी दशा में पहुंच गई है जहां उसके घोर समर्थक भी कहते हैं कि उस पर चर्चा के अब कोई मायने नही। पांच राज्यों के चुनावों में फिर मटियामेट होने के बाद कांग्रेस के पास कहने के लिए ऐसा कुछ नहीं है जिससे किसी तरह की उम्मीद जग…

सफल विदेश और कूटनीति पाक-तुर्की दोनों ‘ग्रे लिस्ट’ में

Continue Readingसफल विदेश और कूटनीति पाक-तुर्की दोनों ‘ग्रे लिस्ट’ में

जिन देशों एवं शासन से राजनयिक संबंधों को लेकर कभी भारतीय सत्ता प्रतिष्ठान में संशय और संकोच था, मोदी सरकार के अनेक तथ्यों पर सकारात्मक पहल के कारण वह बदल चुका है। अब पारस्परिक हित और भारत का भला होना ही भारतीय मैत्री का एकमेव आधार है। भारत अब इजरायल की कीमत पर इस्लामिक मुल्कों से संबंध नहीं रखता। अब हम इजराइल से अलग और अरब देशों से अलग संबंध रखते हैं।

फिर से हाईजैक न हो जाए आज़ादी

Continue Readingफिर से हाईजैक न हो जाए आज़ादी

पटना से लौट रहा हूँ. यूँ तो मैं हमेशा अपने छोटे चाचा (छोटका बाबूजी) से डरता और छुपता आया हूँ पर इस बार पहली बार हिम्मत करके उनके साथ बैठ कर उनसे बहुत सी बातें की। मैं संघ के कार्यक्रम में आया था यह जानकर उन्होंने कहा - हमारे घर…

२१ साल ११ मुख्यमंत्री

Continue Reading२१ साल ११ मुख्यमंत्री

नारायण दत्त तिवारी के मुख्य मंत्री काल में जब तत्कालीन प्रधान मंत्री वाजपेयी नैनीताल आए तो उनसे मुख्य मंत्री ने राज्य के विकास के लिए मदद मांगी। बावजूद इसके कि राज्य सरकार कांग्रेस की थी, वाजपेयी ने बड़े हृदय का परिचय दिया और उत्तराखंड को विशेष राज्य का दर्जा और आर्थिक पैकेज प्रदान करने की घोषणा की।

मूल को समझे बिना समाधान संभव नहीं

Continue Readingमूल को समझे बिना समाधान संभव नहीं

इस्लाम को मानने वाले अधिकांश लोग भयावह ग़रीबी व भुखमरी में जी लेंगें पर मज़हब का ज़िहादी जुनून और ज़िद पाले रहेंगें। वे लड़ते रहेंगें, तब तक, जब तक उनके कथित शरीयत का क़ानून लागू न हो जाए, जब तक दुनिया का अंतिम व्यक्ति भी इस्लाम क़बूल न कर ले! वे लड़ते रहेंगें, क्योंकि उनका विस्तारवादी-वर्चस्ववादी कट्टर इस्लामी चिंतन उन्हें लड़ने की दिशा में उत्प्रेरित करता है।

तालिबान पर भारतीय नीति कारगर

Continue Readingतालिबान पर भारतीय नीति कारगर

जो रूस एक समय तालिबान के साथ काम करने के बारे में बार-बार बयान दे रहा था, उनको मान्यता देने तक का संकेत दे चुका था उसकी ओर से कहा गया कि अभी मान्यता देने में जल्दबाजी नहीं की जानी चाहिए। यह भारत की विदेश नीति का ही परिणाम है कि वह मध्य एशिया में अपने सैनिकों की संख्या बढ़ा रहा है। उसे लग गया कि तालिबान के वहां होने से उनके यहां आतंकवाद का खतरा बढ़ सकता है।

म्यांमार : योद्धा भिक्षु विराथु

Continue Readingम्यांमार : योद्धा भिक्षु विराथु

म्यांमार के बौद्ध भिक्षु विराथु को जेल से रिहाई मिली है।उन्हें खुली हवाओ में साँस लेने की यह आजादी उस वक़्त मिली है जब म्यांमार की सत्ता पर सेना का नियंत्रण है।यह सब कुछ ऐसे वक्त मे हुआ है जब यांगून के शासन पर लोकतंत्र हनन के गंभीर आरोप है।वही…

End of content

No more pages to load