बना रहे लोकतंत्र

Continue Reading बना रहे लोकतंत्र

संविधान में एक निश्चित संसदीय बहुमत से संशोधन का भी अधिकार दिया, जिससे परिवर्तित परिदृश्य में जनता को अधिकतम अधिकार दिए जा सकें। इसीलिए भारतीय संविधान लचीला होने के तत्पश्चात भी लोकतंत्र व संप्रभुता के लिए प्रासंगिक बना हुआ है।

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के नाम पर

Continue Reading अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के नाम पर

वेब सीरीज़ ‘पाताल लोक’ में पालतू कुतिया का नाम ‘सावित्री’ रख दिया गया। अब अगर ये अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता है तो ये एकतरफ़ा क्यों हैं? आज से 40 वर्ष बाद विश्व में मुस्लिम समुदाय का चित्रण करने की हिम्मत किसी में हैं?

नकारात्मकता से सकारात्मकता की ओर

Continue Reading नकारात्मकता से सकारात्मकता की ओर

कोरोना संकटकाल में जिनकी भी नौकरी हाथ से चली गई है उनमें से अधिकतर लोगों ने हार नहीं मानी और स्वयं रोजगार की शुरुआत कर ‘स्किल इंडिया’, स्टार्टअप, मेक इन इंडिया आदि योजनाओं के माध्यम से अभूतपूर्व कार्य किए हैं। जो हमारे समाज के लिए आदर्श हैं।

वैश्विक सहयोग से होगा महामारी का खात्मा

Continue Reading वैश्विक सहयोग से होगा महामारी का खात्मा

दुनिया का कोई भी देश इस संक्रमण से पूरी तरह सुरक्षित नहीं है। अत:, इस वैश्विक खतरे से निपटने के लिए वैश्विक स्तर पर संयुक्त रूप से कार्रवाई की आवश्यकता होती है। प्रत्येक देश को अपने नागरिकों को सुरक्षित रखने के लिए अपनी नीतियों में वैश्विक सहयोग, एकजुटता और देशों के बीच समन्वय स्थापित करना चाहिए ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि मानव को इस महामारी से हर सम्भव कम से कम नुकसान हो।

स्वामी विवेकानंद-एक अथक राष्ट्र पथिक

Continue Reading स्वामी विवेकानंद-एक अथक राष्ट्र पथिक

जिस भारत को विश्व सोने की चिड़िया के रूप में पहचानता है, उसकी समृद्धि और ऐश्वर्य का आधार हिन्दू आध्यामिकता में निहित है।

कोरोना वैक्सीन पर एकाधिकार की कोशिश

Continue Reading कोरोना वैक्सीन पर एकाधिकार की कोशिश

अमीर देश कोरोना की दवा या वैक्सीन पर अपने इंटिलेक्चुअल प्रॉपर्टी राइट्स नहीं छोड़ना चाहते। इससे उन्हें कोई मतलब नहीं कि मानवता को रोज कोरोना थोड़ा-थोड़ा कर लील रहा है। उन्हें अपने मुनाफे से मतलब है। न्यूज एजेंसी राइटर्स के मुताबिक एक सीक्रेट मीटिंग में अमीर देशों खासकर यूरोपीय यूनियन और अमेरिका ने इंटिलेक्चुअल प्रॉपर्टी राइट्स छोड़ने के प्रस्ताव का विरोध किया।

टीकाकरण का महाभारत

Continue Reading टीकाकरण का महाभारत

भारत में यह टीका सीरम इन्स्टीट्यूट द्वारा तैयार किया जा रहा है। तीसरे प्रकार के टीके से तात्पर्य है- सीधे-सीधे स्पाइक प्रोटीन तैयार करना और शरीर में उसका टीकाकरण करना। इस प्रकार का टीकाकरण बहुत आसान लगता है परंतु कोविड के निर्मूलन के लिए अब तक ऐसा टीका बना नहीं है। अपेक्षा की जाती है कि आने वाले 3 से 6 महीनों में वह टीका बन जाएगा।

सबसे तेज सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस

Continue Reading सबसे तेज सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस

2016 में, भारत मिसाइल टेक्नोलॉजी कंट्रोल रिजीम ( एम टी सी आर ) का सदस्य बन गया था। भारत और रूस अब संयुक्त रूप से 800 किलोमीटर से ज़्यादा की रेंज के साथ ब्रह्मोस मिसाइलों की एक नई पीढ़ी विकसित करने की योजना बना रहे हैं। इसमे पिनपॉइंट अचूक वार करने की सटीकता के साथ संलग्नित लक्ष्यों को हिट करने की क्षमता होगी। 2019 में, भारत ने मिसाइल को 650 किमी की नई रेंज के साथ उन्नत किया। अंततः सभी मिसाइलों को 1500 किमी की रेंज में अपग्रेड करने की योजना बनाई गयी है। 

लव जिहाद पर योगी का विधिक सर्जिकल स्ट्राईक

Continue Reading लव जिहाद पर योगी का विधिक सर्जिकल स्ट्राईक

राष्ट्रीय स्तर की शूटर तारा सहदेव का उनके मुस्लिम पति द्वारा धर्म परिवर्तन हेतु किए गए उत्पीड़न से लव जिहाद की विभीषिका को पूरे देश ने महसूस किया।

संक्रांति पूजा में कहीं कुछ छूट न जाए, जनिए मुहूर्त, पूजाविधि और तिल गुड़ का महत्व

Continue Reading संक्रांति पूजा में कहीं कुछ छूट न जाए, जनिए मुहूर्त, पूजाविधि और तिल गुड़ का महत्व

मकर संक्रांति का महत्व मकर संक्राति हिंदुओं के प्रमुख त्योहारों में से एक है। इस दिन सूर्योदय से पहले स्नान और दान किया जाता है। इस त्यौहार का नाम मकर संक्रांति कैसे पड़ा है? दरअसल सूर्य के राशि परिवर्तन को संक्रांति कहा जाता है और जब सूर्य मकर राशि में प्रवेश…

भारतीय मानवाधिकार का सूत्र सर्वे भवन्तु सुखिन:

Continue Reading भारतीय मानवाधिकार का सूत्र सर्वे भवन्तु सुखिन:

मानवाधिकार केवल अल्पसंख्यकों की बपौती नहीं है और न होनी चाहिए परंतु अपने स्वार्थ और कुछ विशिष्ट ऐजेंडों को आगे बढ़ाने के लिए मानवाधिकार का दुरुपयोग बढ़ता जा रहा है। आज मानवाधिकार को केवल ‘थेअक्रेटिक’ दृष्टिकोण से देखा जा रहा है, यह अधिक दुर्भाग्यपूर्ण है।

हैदराबाद में भाजपा के सफल होने के मायने

Continue Reading हैदराबाद में भाजपा के सफल होने के मायने

इसकी प्रतिध्वनि आपको आगामी पश्चिम बंगाल चुनाव तथा आगे तमिलनाडु, केरल तक सुनाई पड़ेगी। पश्चिम बंगाल में भाजपा के लिए ममता बैनर्जी बहुत बड़ी अवरोधक हैं पर इसने प्रदेश को अपना एक किला बना देने के लिए पूरी शक्ति लगा दी है।

End of content

No more pages to load