तस्मै श्री गुरवे नमः

Continue Reading तस्मै श्री गुरवे नमः

भारतीय जीवन परंपरावादी है। हमारे ऋषि-मुनियों ने बहुत सोच-विचार कर, ज्ञान-विज्ञान और समय की कसौटी पर सौ प्रतिशत कस कर कुछ परंपराओं का निर्माण किया।

थोड़ा सा बादल थोड़ा सा पानी और एक कहानी…

Continue Reading थोड़ा सा बादल थोड़ा सा पानी और एक कहानी…

लगभग 10-12 दिनों के व्यावसायिक दौरे के बाद मिली छुट्टी, तन-मन को जला देने वाली धूप की तपिश के बाद बारिश की फुहारें, मिट्टी की सोंधी खुशबू और आसपास का साफ वातावरण... वाह! क्या बात है। आज शायद ऊपर वाला मुझ पर कुछ ज्यादा ही मेहरबान है।

नेहरू से नरेंद्र तक

Continue Reading नेहरू से नरेंद्र तक

यह एक संयोग ही कहा जाएगा कि भारत के प्रथम प्रधानमंत्री श्री जवाहर लाल नेहरू की पचासवीं पुण्यतिथि की पूर्व संध्या में भारत की प्रथम शुद्ध गैर-कांग्रेसी सरकार के मुखिया के रूप में श्री नरेंद्र मोदी का शपथ ग्रहण समारोह भारत के राजनीतिक इतिहास की यह एक युगांतरकारी घटना थी।

सावन के व्रत-त्यौहार

Continue Reading सावन के व्रत-त्यौहार

हिंदू काल गणना के अनुसार श्रावण पांचवां महीना है। इस महीने की पूर्णिमा के आस-पास श्रवण नक्षत्र होता है। अत: इस महीने का नाम श्रावण प़डा।

इस भारत को जीतना ही होगा

Continue Reading इस भारत को जीतना ही होगा

जैसे मरुथल में अचानक मलय की बयार बहे, वैसे संसद में नरेंद्र मोदी का भाषण हुआ। कांग्रेस के कई नेता मुझसे मिले और बोले कि जो मोदी ने कहा वे शब्द सुनने के लिए उनके कान तरस गए थे।

न आंख दिखाकर न आंख झुकाकर बात करने वाली विदेश नीति

Continue Reading न आंख दिखाकर न आंख झुकाकर बात करने वाली विदेश नीति

अपने शपथ ग्रहण समारोह में नरेंद्र मोदी ने दक्षिण एशिया क्षेत्रीय सहयोग संगठन (सार्क) के शासनाध्यक्षों को बुलाकर एक सराहनीय कूटनीतिक पहल की है। अब तक विदेश नीति का मतलब अमेरिका के साथ संबंध माना जाता था।

नवाब मिर्जा खान “दाग”

Continue Reading नवाब मिर्जा खान “दाग”

हम चाहे कितनी भी कोशिश कर लें, कितने भी प्रयोग कर लें परंतु एक बार बिग़डी हुई किस्मत को फिर से संवारा नहीं जा सकता। नसीब में जो लिखा है उसे भुगतना ही प़डता है। न जाने क्यों ऐसा लगता है कि जब नसीब दुखों की पराकाष्ठा करता है तभी शायरी में निखार आता है।

लोकसभा चुनावों के स्लोगन

Continue Reading लोकसभा चुनावों के स्लोगन

स्लोगन उन शब्द समूहों या वाक्यांशों को कहा जाता है जो राजनैतिक, व्यावसायिक, धार्मिक और अन्य संदर्भों में प्रयोग किए जाते हैं। ये मुख्यत: उत्पाद की ओर ध्यान आकर्षित करने के लिए बनाए जाते हैं। विज्ञापनों में स्लोगन का मुख्य लक्ष्य ग्राहक के दिमाग पर उस उत्पाद की छवि को अंकित करना होता है।

भारत ख़डा हो रहा है

Continue Reading भारत ख़डा हो रहा है

संघ के एक वरिष्ठ अधिकारी से भाजपा के विजय के संदर्भ में चर्चा हुई। जो परिवर्तन हुआ उसके लिए उन्होंने एक शब्द का प्रयोग किया-Paradigm shif. अंग्रेजी भाषा का यह अत्यंत अर्थपूर्ण शब्द है। जब किसी रचना अथवा संस्था या रचना अथवा संस्था के विचारों के स्थान पर पूर्णत: नवीन रचना या विचार आता है तोParadigm shif. शब्द का प्रयोग किया जाता है।

जिम्मेदार कौन?

Continue Reading जिम्मेदार कौन?

अर्थात जो स्वयं बुद्धिहीन है उसके लिए शास्त्र कुछ नहीं कर सकते, वे उसके किसी काम के नहीं हैं। ठीक उसी तरह जिस तरह दृष्टिहीन के लिए आईना किसी काम का नहीं होता।

नरेंद्र मोदी की भूटान यात्रा का संकेत

Continue Reading नरेंद्र मोदी की भूटान यात्रा का संकेत

नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री का पद संभालने के बाद अपनी विदेश यात्रा के लिए सबसे पहले भूटान को चुना। अपने देश की पुरानी परंपरा सबसे पहले या तो अमेरिका या फिर पश्चिमी देशों की ओर भागने की रही है। मोदी ने ‘पश्चिम की ओर देखो’ के स्थान पर ‘पूर्व की ओर देखो’ को विदेश नीति का आधार बनाया है ।

मुंडे का राजनैतिक उत्तराधिकार

Continue Reading मुंडे का राजनैतिक उत्तराधिकार

मंगलवार, 3 जून को सुबह 7.45 बजे फोन आया कि गोपीनाथ मुंडे की दुर्घटना में.....। खबर किसी भूकंप की तरह थी। भूकंप कुछ क्षणों का ही होता है, परंतु उसके कारण धरती के ऊपर का विश्व उलट-पलट जाता है। गोपीनाथ मुंडे का अकस्मात निधन भी राजनैतिक भूकंप ही है।

End of content

No more pages to load