व्यक्तिपूजा का खतरा- जून २०११

व्यक्ति पूजा का खतरा, राजनीति और अस्मिता परिवर्तन पर आवरण कथा प्रकाशित की गई है. जो अतीत, वर्तमान और भविष्य के दृष्टी से भी प्रासंगिक बने रहेंगे. जब मंदिर था तो विवाद किस बात का, पेट्रोल के आंसू एवं ‘आतंकवाद विषय पर ओसामा, ओबामा, और मनमोहन सिंह’, ओसामा के खात्मे के बाद और इतिहास के संदर्भ में छत्रपति शिवाजी महाराज का राज्याभिषेक, मैनेजमेंट गुरु कौटिल्य तथा साहित्य में पंछी भी तो है, उत्तर भारत की संत परंपरा, अभूतपूर्व व्यंग्य आदि विषय समाहित किये गए
है. इसके अलावा विविधा में ‘मुहाजिरों का राज सिंधियों पर संकट’, कर्णाटक में महिला सशक्तिकरण, आठवां फेरा बेटी का, आप हम सभी ग्राहक, वट सावित्री व्रत का महात्म्य, आईपीएल पैसा या खेल सहित पर्यटन, विलुप्त जीव, राज्यों से समाचार और सम्पादकीय रोचक मनोरम व ह्रदयस्पर्शी है.

आपकी प्रतिक्रिया...