बदलती संस्कृति

Continue Reading बदलती संस्कृति

सूर्य अस्ताचल की ओर प्रस्थान कर चुका था। गोबरा बैल ढील कर पगडंडी पर आ चुका था। अकस्मात वेगवती हवा बहने लगी। आकाश में काले और सफेद बादल घिरने लगे।

मन को झंकृत करने वाले गीत

Continue Reading मन को झंकृत करने वाले गीत

हिंदी फिल्मों की सफलता में गीतों की महती भूमिका रही है। गीत अब भी होते हैं लेकिन उनमें वह माधुर्य, वह कशिश नहीं होती। गत शताब्दी के तीसरे दशक में, जब सवाक फिल्मों का युग आरम्भ हुआ, तब से लेकर साठ-सत्तर के दशक तक फिल्मों के प्राय: सभी गाने सदाबहार होते थे, क्योंकि उनकी धुनें मधुर और कर्णप्रिय होती थीं। गीतकार शब्दों से जो शानदार ढांचा तैयार करते थे, संगीतकार उसमें जान डाल देते थे।

जलियावाला बाग नरसंहार

Continue Reading जलियावाला बाग नरसंहार

प्रवाह के विरुद्ध जब कोई घटना होती है, तो उसका असर बहुत ज्यादा होता है। प्रधानमन्त्री डेविड कैमरून ने अमृतसर के जलियावाला बाग में हुए नरसंहार को शर्मनाक बताकर सभी को चौका दिया।

सामाजिक समरसता के पुरोधा स्वामी विवेकानंद

Continue Reading सामाजिक समरसता के पुरोधा स्वामी विवेकानंद

भारत की दुरावस्था का कारण और निदान स्वामी जी की दृष्टि में- स्वामी विवेकानंद जी की मान्यता थी की भारतीय जीवन दर्शन दुनिया में सर्वश्रेष्ठ है। इतने श्रेष्ठ जीवन दर्शन के बाद भी सामाजिक विषमता की खाई देखकर उन्हें गहन वेदना होती थी।

राम कथा और राष्ट्रीय अस्मिता

Continue Reading राम कथा और राष्ट्रीय अस्मिता

यदि कोई पूछे कि भारतीय संस्कृति की परिभाषा क्या है, तो नि:संकोच कहा जा सकता है कि राम का उदात्त चरित्र ही भारतीयता है। राम कथा का आदि स्त्रोत है वाल्मीकि रामायण।

भारत का मार्ग

Continue Reading भारत का मार्ग

संस्कृति और धर्म के चिन्तन में मनुष्य उसका केन्द्र्र बिन्दु होता है। प्रश्न उठता है कि मनुष्य कौन है? कहां से आया है? मनुष्य को जीवन क्यों जीना है? वे कौन से आधार स्तम्भ हैं, जिन पर मनुष्य का अस्तित्व टिका हुआ है? मनुष्य का सुख क्या है? वह उसे कैसे प्राप्त होता है?

सौ करोड़ की फिल्मी कमाई

Continue Reading सौ करोड़ की फिल्मी कमाई

भारतीय फिल्मों के कल और आज दोनों को अगर एक साथ देखें तो यह ज्ञात होगा कि फिल्मी दर्शकों की सोच मे बदलाव आया है। पहले फिल्में दमदार पटकथा पर चला करती थीं पर अब कमाई महत्वपूर्ण हो गयी है।

बांग्लादेश में हिंदुओं पर अत्याचार

Continue Reading बांग्लादेश में हिंदुओं पर अत्याचार

दूसरे महायुद्ध के बाद स्वतन्त्र हुए नये देशों ने जाति, धर्म, वंश, रंग और लिंग जैसे कृत्रिम मुद्दों से ऊपर उठकर अपने देश के नागरिकों के बहुआयामी विकास को प्राथमिकता देने की प्रतिबद्धता को स्वीकार किया, पर दुख की बात यह है कि ये सभी नये देश अपने देश के नागरिकों को विशेष रूप से अल्पसंख्यक समुदाय के हितों की रक्षा करने के दायित्व को सम्भालने में पूरी तरह से असफल रहे हैं।

बजट और आम जनता

Continue Reading बजट और आम जनता

भारत वर्ष में यह कानूनन अनिवार्य है कि हर वर्ष आय और व्यय का एक बजट बनाया जाये और उसके अनुरूप वर्ष भर काम किया जाये। हम सब भी अपने-अपने परिवार में बजट बनाते हैं।

महान विभूतियों में डॉ. अम्बेडकर अग्रगण्य

Continue Reading महान विभूतियों में डॉ. अम्बेडकर अग्रगण्य

आधुनिक भारतीय समाज में जितनी भी महान विभूतियां हुई हैं, उनमें डॉ. अम्बेडकर अग्रगण्य हैं। उन्होंने दलित समाज के उद्धार के लिए अपनी अलौकिक प्रतिभा और अदम्य पराक्रम का उपयोग किया।

कम्प्यूटर से जुड़ी लागत और उसे कम करने के तरीके

Continue Reading कम्प्यूटर से जुड़ी लागत और उसे कम करने के तरीके

तकनीक आज हर उद्योग का अविभाज्य अंग बन चुकी है। यह निम्न लिखित तरीकों से उद्योगों को मदद करती है।

१६ साल और १४ सेकेण्ड का कानून

Continue Reading १६ साल और १४ सेकेण्ड का कानून

अपनी सरकार ने नए एंटी रेप कानून ड्राफ्ट तैयार किया है। उस ड्राफ्ट में जो बातें मौजूद हैैं, वे इस प्रकार हैं। लड़की को 14 सेंकेंड तक घूरने पर गैर जमानती अपराध दर्ज होगा।

End of content

No more pages to load