स्वामी विवेकानंद: कड़ी मेहनत, समर्पण और आध्यात्मिक शक्ति से बदल सकता है भारत

Continue Readingस्वामी विवेकानंद: कड़ी मेहनत, समर्पण और आध्यात्मिक शक्ति से बदल सकता है भारत

युवाओं के प्रेरणास्रोत स्वामी विवेकानंद का जन्म 12 जनवरी 1863 को बंगाल में हुआ था। उनका बचपन का नाम नरेंद्र दत्त था। स्वामी विवेकानंद की जयंती को देश में राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाया जाता है। यह दिन युवाओं को कुछ करने की प्रेरणा देता है। हमारे देश…

ब्रह्म मुहूर्त का महत्त्व

Continue Readingब्रह्म मुहूर्त का महत्त्व

सूर्योदय से चार घड़ी पूर्व यानी करीब डेढ़ घंटे पहले का समय ब्रह्म मुहूर्त होता है और हिन्दू धर्म में नींद त्यागने के लिए यह समय सबसे उपयुक्त समय बताया गया है। ब्रह्म मुहूर्त यानी सुबह करीब 4 से 5.30 तक का समय जब सभी को नींद त्यागनी चाहिए और…

क्या सचमुच 84 लाख योनियों में भटकना होता है?

Continue Readingक्या सचमुच 84 लाख योनियों में भटकना होता है?

हिन्दू धर्म की मान्यता के अनुसार जीवात्मा 84 लाख योनियों में भटकने के बाद मनुष्य जन्म पाता है। अब सवाल कई उठते हैं। पहला यह कि ये योनियां क्या होती हैं? दूसरा यह कि जैसे कोई बीज आम का है तो वह मरने के बाद भी तो आम का ही बीज बनता है…

भोजन के तुरंत बाद क्यों करना चाहिए वज्रासन?

Continue Readingभोजन के तुरंत बाद क्यों करना चाहिए वज्रासन?

  देश का हर दूसरा व्यक्ति बढ़ते पेट की समस्या से परेशान है कुछ लोग इस पर ध्यान नहीं देते है जबकि कुछ लोग पेट को अंदर करने के लिए बहुत मेहनत करते हैं लेकिन फिर भी उनका पेट कम होने का नाम नहीं लेता है। अब अगर समस्या कम…

लातूर भूकंप की 28वीं बरसी: जब सो रहे लोगों पर बरपा था कहर

Continue Readingलातूर भूकंप की 28वीं बरसी: जब सो रहे लोगों पर बरपा था कहर

30 सितंबर 1993 की वह काली रात जिसने हजारों लोगों को काल के गाल में समा दिया। महाराष्ट्र के लातूर वासियों के लिए यह दिन किसी काले दिन से कम नहीं है जिसका दर्द वह आज भी दिलों में लिए घूम रहे है। 30 सितंबर 1993 को महाराष्ट्र के लातूर में…

भारी बारिश ने मचाया कहर, लोग पलायन करने को मजबूर

Continue Readingभारी बारिश ने मचाया कहर, लोग पलायन करने को मजबूर

देश में बारिश का कहर जारी है पिछले करीब 3 दिनों से लगातार बारिश हो रही है हालांकि इस बारिश से मुंबई और दिल्ली का हाल थोड़ा खराब है। दिल्ली में जहां जल जमाव से सड़कें रुक गयी है तो वहीं मुंबई में भी भारी बारिश की वजह से लोग अपने…

क्या आप अनुलोम-विलोम के इन फायदों को जानते है?

Continue Readingक्या आप अनुलोम-विलोम के इन फायदों को जानते है?

अनुलोम-विलोम प्राणायाम प्राणायाम अनुलोम और विलोम सबसे सरल और आसन है और इसके फायदे भी बहुत ज्यादा है। अनुलोम का अर्थ होता है सीधा और विलोम का अर्थ होता है उल्टा। लेकिन यहां सीधा और उल्टा का अर्थ है नाक के दायें और बायें छिद्र से। प्राणायाम अनुलोम और विलोम…

कश्मीरी पंडितों का पलायन : आखिर पंडितों को ही क्यों बनाया गया निशाना

Continue Readingकश्मीरी पंडितों का पलायन : आखिर पंडितों को ही क्यों बनाया गया निशाना

आज से करीब तीन दशक पहले कश्मीरी पंडितों ने अपनी इज़्ज़त और सम्मान को बचाने के लिए कश्मीर छोड़ दिया था। इन तीन दशकों में वैसे तो बहुत कुछ बदल गया। यह बदलाव ना सिर्फ देश में आया बल्कि कश्मीर में भी देखने को मिला। जम्मू कश्मीर से लद्धाख को…

बढ़ती उम्र में शादी : छिन न जाए आजादी

Continue Readingबढ़ती उम्र में शादी : छिन न जाए आजादी

मिसेज शर्मा ने जीवनसाथी डॉट काम पर कई अच्छे लड़कों की प्रोफाइल छाँट कर रखी थी | सोचा था समय मिलते ही आयुषी को दिखाएंगी | रविवार को छुट्टी के दिन यह काम आसानी से हो सकता था|

हिंदी विवेक मासिक पत्रिका के ‘फैशन दीपावली विशेषांक’ हेतु आलेख आमंत्रित

Continue Readingहिंदी विवेक मासिक पत्रिका के ‘फैशन दीपावली विशेषांक’ हेतु आलेख आमंत्रित

हिंदी विवेक मासिक पत्रिका के द्वारा इस वर्ष का दीपावली विशेषांक 'भारतीय फैशन' पर आधारित होगा. भारतीय परम्परा में सौंदर्य, श्रृंगार, परिधान, गहने आदि का बहुत महत्व है. फैशन के विभिन्न रूप जितने भारत में हैं उतने शायद ही कहीं और हों. भारतीय फैशन के इन्हीं विभिन्न पहलुओं को उजागर…

नौकरशाही में उलझे प्रदूषण के नियम

Continue Readingनौकरशाही में उलझे प्रदूषण के नियम

केंद्र सरकार ने २०१५ के कड़े प्रदूषण नियमों को बदल कर उनमें ढील दे दी है. यह तो प्रदूषण पर आगे बढ़ने के बजाय पीछे लौटना हुआ. अतः २०१७ में संशोधित नियमावली को कचरे के डिब्बे में डाल कर २०१५ के मानकों को ही आदर्श के रूप में स्थापित कर उनका कड़ाई से पालन किया जाना चाहिए.

End of content

No more pages to load