बरसो बाद जीत…

Continue Reading बरसो बाद जीत…

पाकिस्तानी टीमे कोच स्टेडियम की छत पर खड़े होकर भारतीय खिलाड़ियों को लगातार अपशब्द कहते रहे। भारतीय टीम से जब भी कोई मूव बनता तो वह भद्दी गाली देने लगते। जब अंपायर भारत के खिलाफ कोई निर्णय देते तो वे फुर्ती से ’थैंक्यू’ कहते थे।

धरती क्यों डोलती है?

Continue Reading धरती क्यों डोलती है?

11 मार्च, 2011 को जापान में आए भूकम्प की तीव्रता 8.9 आकी गई थी। भूकम्प के विनाशकारी परिणाम के आंकड़ेें भूकम्प के बाद कई घंटों बाद पता चलते हैं तथा चर्चा में भी रहते हैं।

इस्लामिक दुनिया में जनक्रांति

Continue Reading इस्लामिक दुनिया में जनक्रांति

एक बार जब लोग अपने- अपने गली-मुहल्ले, समाज और देश में बदलाव लाने के लिए कटिबद्ध हो जाएंगे, तो उनके सैलाब को बड़े से बड़ा तानाशाह भी नहीं रोक पाएगा। इस्लामी देशों में इस सच्चाई का सबूत मिल गया है।

चीनी जासूस आफके द्वार!

Continue Reading चीनी जासूस आफके द्वार!

अवरोधक प्रोद्यौगिकी का माने यह है कि वे किसी भी जानकारी को रोक सकती हैं या उन्हें रास्ता दे सकती है। यहीं चीन के लिए जासूसी की बू आती है और इसीलिए राष्ट्रीय सुरक्षा की दृष्टि से खतरनाक साबित हो सकती है।

ब्रह्मफुत्र को निगलता ड्रैगन

Continue Reading ब्रह्मफुत्र को निगलता ड्रैगन

यह विश्व का सब से विशाल बांध होगा। 16 मार्च 2009 को फरियोजना का उद्घाटन हुआ। 2 अफ्रैल 2009 से काम शुरू हुआ। इसमें 26 टर्बाइन लगे होंगे। 85 मेगावाट के छह यूनिट होंगे और कुल स्थाफित क्षमता होगी 510 मेगावाट। प्रति घंटा 2.5 बिलियन किलोवाट बिजली का उत्फादन होगा। इस फर कुल खर्च होगा करीब 7.9 बिलियन युवान यानी 1.2 बिलियन अमेरिकी डॉलर। इस राशि को रुफयों में फरिवर्तित कर आफ अंदाजा लगा सकते हैं कि यह फरियोजना कितनी विशाल है।

कर्मवीर सुजय कुलकर्णी

Continue Reading कर्मवीर सुजय कुलकर्णी

सुजय कुलकर्णी इस समय आशिदा में सबसे कम आयु के डायरेक्टर हैं। उनका पूरा परिवार उच्च शिक्षा प्राप्त है। बड़े भाई श्री सुयश कुलकर्णी हार्डवेयर कम्प्यूटर इंजीनियर हैं। उन्होंने आशिदा का रिले डेवलप किया था। अपने बड़े भाई का प्रभाव सुजय कुलकर्णी पर बहुत गहरा पड़ा।

सत्य बालनेका अपराध

Continue Reading सत्य बालनेका अपराध

मौलाना गुलाम मोहम्मद वस्तानवी को दारूल उलूम देवबन्द मिुस्लम विश्वविद्यालय के मोहतमीम (उप कुलपति) के पद से शूरा कमेटी द्वारा हटा दिया गया है। किसी भी विश्वविद्यालय के उप कुलपति को कभी न कभी सेवानिवृत्त होना होता है। इसी तरह मौलाना वस्तानवी को भी सेवामुक्त होना पड़ा हैं।

चुनाव सुधारों से भ्रष्टाचार मिुक्त

Continue Reading चुनाव सुधारों से भ्रष्टाचार मिुक्त

किसी भी मतदाता फर यह दबाव न हो कि चुनाव में खड़े हुए किसी न किसी एक प्रत्याशी को तो उसे चुनना ही है, लेकिन यह दबाव ज़रूर हो कि उसे वोट डालना ही है।

न्याय की जीत्त

Continue Reading न्याय की जीत्त

सर्वोच्च न्यायालय ने 12 सितम्बर, सन् 2011 ई. के अपने फैसले के द्वारा उस मामले को बंद कर दिया, जिसे पूर्व कांठोसी सांसद एहसान जाफरी की विधवा जाकिया जाफरी ने दाखिल किया था। यह निर्णय देश की न्याय व्यवस्था में एक मील का पत्थर सिद्ध होगा। इस निर्णय से लोगों में न्यायप्रणाली पर विश्वास गहरा हुआ है।

भारत जागरण दूसरा दौर

Continue Reading भारत जागरण दूसरा दौर

बाबा के आंदोलन को तोड़ने की लगातार कोशिश जारी है। बाबा के फास तो कोई धन नहीं मिला, उनके सहयोगी बालकृष्ण को घेरने की कोशिशें जारी हैं। उनके फतंजलि योगफीठ व उनकी दवा कम्फनियों का कच्चा-चिट्ठा खोजने के काम में सरकारी एजेंसियां जी-जान से जुटी हैं।

प्रवाह बदलने वाले लोग

Continue Reading प्रवाह बदलने वाले लोग

जैसा कम्फनियों के साथ होता है वैसा देशों के साथ भी। अमेरिका इस समय वित्तीय संकट से गुजर रहा है। राष्ट्रफति ओबामा ने धन प्रबंध के लिए बाँड जारी करने की घोषणा की। उसका रेटिंग देवेन शर्मा के नेतृत्व वाली स्टैण्डर्ड एण्ड फूअर्स ने एक चरण घटा दिया।

कुरसी तू बड़भागिनी

Continue Reading कुरसी तू बड़भागिनी

दी साहित्य में व्यंग्य विधा ने एक लंबा रास्ता तय करके अपना प्रमुख स्थान अर्जित किया है। हिंदी के विद्वान जब पद्य को ही साहित्य की मुख्य धारा मानते थे और गद्य साहित्य को दोयम दर्जा देते थे, उस भक्तिकाल से समाज की कुरीतियों पर जो प्रहार किया था, वह व्यंग्य ही था।

End of content

No more pages to load