कश्मीरी पंडित : कश्मीर के आदि निवासी

Continue Reading कश्मीरी पंडित : कश्मीर के आदि निवासी

कश्मीर की मनोरम घाटी इस समय तन्हा हो गई है; मानो अच्छाइयां वहां से विदा हो चुकी हो। बर्बर आतंकवादियों ने पौराणिक काल से यहां बसे कश्मीरी पंडितों को उनके घरों से भगा दिया है, हजारों लोगों का क्रूरता से संहार किया है और कश्मीर के ५००० साल पुराने इतिहास और

करें स्वरोजगार का दर्शन

Continue Reading करें स्वरोजगार का दर्शन

आज देश की करीब ६५ फीसदी कार्यशील युवा आबादी है और यही जनसांख्यिकी लाभांश भारत की मौजूदा समय में सब से बड़ी पूंजी है। इसी कार्यबल का यदि सदुपयोग हो जाए, तो कोई वजह नहीं बचती कि भारत विश्व शक्ति न बन पाए। इसके लिए पहली शर्त तो यही मानी जाएगी कि देश का हर ह

कश्मीर की व्यथा कथा

Continue Reading कश्मीर की व्यथा कथा

यह तय हो गया कि भारत विभाजन होगा। लार्ड वेवेल विदा हो गए और लार्ड माउंटबेटन ने भारत के वायसराय का पद मार्च के अंत में संभाला। २ मई १९४७ को नए वायसराय ने अपने प्रस्ताव इंग्लैंड भेजे और १० मई १९४७ को उन्हें ब्रिटिश सरकार की स्वीकृती मिल गई। योजना केवल लाड

अब कैसे हो कश्मीरी पंडितों का पुनर्वास?

Continue Reading अब कैसे हो कश्मीरी पंडितों का पुनर्वास?

कश्मीर में १९ जनवरी १९९० को हुए बर्बर जनसंहार के बाद सत्ताईस वर्षों का लम्बा अंतराल बीत गया है जिसमें दिल्ली और श्रीनगर की असंवेदनशीलता के सिवा कश्मीरी पंडितों को कुछ नहीं मिला है। अब तो यह भी विचारणीय प्रश्न है कि कश्मीर से निष्कासित कश्मीरी पंडित वह

कश्मीरघाटी की जनसांख्यिकी और उसका राजनैतिक प्रभाव

Continue Reading कश्मीरघाटी की जनसांख्यिकी और उसका राजनैतिक प्रभाव

कश्मीर घाटी जम्मू-कश्मीर प्रदेश का भौगोलिक लिहाज़ से सब से छोटा संभाग है। लेकिन जनसांख्यिकी के लिहाज़ से इस घाटी में बसे लोगों में बहुत विविधताएं हैं। यही कारण है कि इसका जनसांख्यिकी अध्ययन अत्यंत रुचिकर कहा जाता है। मोटे तौर पर कश्मीर घाटी में रहने वाले

मुश्किल हालात में कुछ ठोस करने की चुनौती

Continue Reading मुश्किल हालात में कुछ ठोस करने की चुनौती

महीनों से कश्मीर घाटी में पत्थर चल रहे थे। विद्यालय जलाए जा रहे थे। पाकिस्तान घाटी की मीडिया फुटेज को लेकर आसमान सर पर उठाने की कोशिश कर रहा था। आतंकी बुरहान बानी के लिए मर्सिया गाया जा रहा था। फिर नोटबंदी का फैसला आया और घाटी में अचानक पत्थर चलने बंद ह

मीडिया के मंच पर मानवाधिकार का मुखौटा

Continue Reading मीडिया के मंच पर मानवाधिकार का मुखौटा

पाकिस्तान जम्मू-कश्मीर के प्रश्न को राष्ट्रीय से अधिक सभ्यता से जुड़ा प्रश्न मानता रहा है। इसी मान्यता के आधार पर वह इस्लामी दुनिया को यह समझाने में एक हद तक सफल भी रहा है कि गजवा-ए-हिंद अथवा खिलाफत के इस्लामी स्वप्न का सर्वाधिक महत्वपूर्ण पड़ाव जम्मू-कश्

विस्थापन, विस्थापन, विस्थापन!

Continue Reading विस्थापन, विस्थापन, विस्थापन!

जरूरी है कि विस्थापन की पीड़ा को समझा जाए। विडंबना यह है कि अपने विस्थापन की पीड़ा को तो लोग समझते हैं, लेकिन दूसरों के विस्थापन के लिए अंधे, गूंगे और बहरे बन जाते हैं। नौकरी में तबादले आम बात है। एक शहर से दूसरे शहर की बात तो दूर, एक ही शहर में एक कार्या

कश्मीर जो कभी शारदा देश था

Continue Reading कश्मीर जो कभी शारदा देश था

कश्मीर जो कभी शारदा देश थाजम्मू एवं कश्मीर राज्य की राजभाषा उर्दू है। इस स्थिति में वहां हिंदी तथा संस्कृत की क्या स्थिति होगी, इसका सहज ही अनुमान लगाया जा सकता है, तथापि विगत युग में यही प्रदेश संस्कृत, काव्य, दर्शन तथा इतिहास के प्रकाण्ड पण्डितों की क

कश्मीर में पनपा आतंकवाद और पाकिस्तान

Continue Reading कश्मीर में पनपा आतंकवाद और पाकिस्तान

  राष्ट्रजीवन तथा राजनैतिक जीवन का एक महत्वपूर्ण सिद्धांत है ‘यदि आपने जहरीली जड़ों को सींचा तो आपको अच्छे फल कैसे मिलेंगे’? कश्मीर में फैले आतंकवाद का अध्ययन तथा विश्लेषण करने पर यह कटु सत्य सामने आता है। १९६५ के पाकिस्तान-भारत युद्ध

जम्मू-कश्मीर की संवैधानिक स्थिति एवं अनुच्छेद ३५ (ए)

Continue Reading जम्मू-कश्मीर की संवैधानिक स्थिति एवं अनुच्छेद ३५ (ए)

१५ अगस्त १९४७ को भारत स्वतंत्र हुआ। स्वतंत्रता के साथ ही अंग्रेजों और कुछ स्वार्थी राजनेताओं ने पंथ के नाम पर देश को दो हिस्सों में बांट दिया। एक हिस्से को मुस्लिम राष्ट्र घोषित कर पाकिस्तान बना दिया गया। स्वतंत्रता के समय भारत में कुल ५६५ से भी अधिक रि

जम्मू-कश्मीर में तीर्थ यात्रा का पुनर्जागरण

Continue Reading जम्मू-कश्मीर में तीर्थ यात्रा का पुनर्जागरण

सम्पूर्ण जम्मू-कश्मीर के भौगोलिक एवं सभ्यता की दृष्टि से वर्तमान में चार भाग हैं- जम्मू, कश्मीर, लद्दाख व पाक- अधिक्रांत कश्मीर। वैसे तो चीन-अधिक्रांत लद्दाख भी जम्मू-कश्मीर का एक भू-भाग है। इन सब क्षेत्रों की परिस्थितियां, रचना व समाज-जीवन भिन्न है। सम

End of content

No more pages to load