‘गीता’ जीवन के उच्च उद्देश्यों की प्रेरणा

Continue Reading ‘गीता’ जीवन के उच्च उद्देश्यों की प्रेरणा

अर्जुन के मन में जो भ्रम की स्थिति निर्माण हुई थी, उस स्थिति के कारण अर्जुन अपने कर्तव्य से दूर हो रहा था। इस प्रकार की अवस्था में हर व्यक्ति को उसी समय उसके कर्तव्य और जिम्मेदारी का आभास कराना अत्यंत आवश्यक होता है, यह सर्वोच्च शिक्षा गीता के माध्यम से संपूर्ण मानव जाति को मिली है।

आत्मनिर्भर भारत संकल्प सिद्धि का मूलमंत्र

Continue Reading आत्मनिर्भर भारत संकल्प सिद्धि का मूलमंत्र

बेशक आज स्थानीयता का आधार चीन के प्रति नफरत का मनोवैज्ञानिक वातावरण है, लेकिन दीर्धकालिक नजरिये से यह लोकचेतना भारत के आत्मनिर्भर लक्ष्य को सिद्ध करने वाली साबित होगी। भारतीय हुनर के मामले में किसी से कमतर नहीं है।

चीन का हस्तक्षेप कमजोर होता नेपाल

Continue Reading चीन का हस्तक्षेप कमजोर होता नेपाल

चीन और नेपाल के बीच तिब्बत के रास्ते रेलमार्ग बनाने पर भी संधि हुई है। चीन ने काठमांडू से करीब 200 किमी दूर पोखरा में क्षेत्रीय हवाई अड्डा निर्माण के लिए नेपाल को 21.6 डॉलर का सस्ती ब्याज दर पर ऋण दिया है। मुक्त व्यापार समझौते पर भी हस्ताक्षर हुए हैं। नेपाल में तेल और गैस की खोज करने पर भी चीन सहमत हुआ है। इसके लिए वह नेपाल को आर्थिक और तकनीकी मदद देने को राजी हो गया है।

पंचर, कपलिंग और टाइमपास लोकतंत्र

Continue Reading पंचर, कपलिंग और टाइमपास लोकतंत्र

लोकतंत्र की क्या कहिए। कब पंचर हो जाए। कब तक स्टेपनी साथ दे। कब इंजिन सहमति दे जाए। कब कौन पत्ते फैंट दे। कब कौन तीन पत्ती शो कर दे। कब गुलाम और इक्का मिलकर बादशाह को पंचर कर दे। कब ताश की दुक्की ट्रंप बन जाए। चाय, अखबार और चैनलों में पसरे हुए जनता के दिन इस बहाने कितने लोकतांत्रिक ढंग से कट जाते हैं।

सर्दियों के लिये तैयार है ना…

Continue Reading सर्दियों के लिये तैयार है ना…

सर्दियों के मौसम में पिकनिक पर जाने का या घूमने जाने का मजा ही कुछ और होता है। अब जबकि धीरे-धीरे देश अनलॉक हो रहा है, आप पूरी अहतियात बरत कर घूमने जाने का प्लान बना सकते हैं, या आप एक दिन भर के लिये ही परिवार वालों के साथ कहीं पिकनिक पर जा सकते हैं या कहीं लाँग ड्राइव्ह पर जाकर आ सकते हैं। आप लंबी यात्रा भी कर सकते हैं, लेकिन कोरोना के समय में अधिक लंबी यात्रा ना करें तो ही अच्छा रहेगा।

हमारा कर्तव्य

Continue Reading हमारा कर्तव्य

इस साल पर्यूषण पर्व के अवसर पर भारतीय जीव जंतु कल्याण बोर्ड के द्वारा 6 अगस्त 2020 को वधशालाओं तथा मांस की दुकानों को बंद रखने का आदेश जारी कर 11 अगस्त 2020 को आदेश को वापस ले लिया जो कानूनी परिधि के प्रतिकूल निर्णय था और यह देश भर में चर्चा का विषय बन गया है।

कोहरे में कोरोना

Continue Reading कोहरे में कोरोना

स्मॉग के रास्ते कोरोनावायरस हमारे सांस और फेफड़ों में पहुंच सकते हैं, जो इनके संक्रमण का असली पड़ाव और आश्रय स्थल है। इसलिए जरूरी है कि वैक्सीन या कारगर दवाई आने तक सभी लोगों द्वारा सरकार और स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी हिदायतों का सख्ती से पालन किया जाए। मास्क स्मॉग के साथ-साथ कोरोनावायरस के प्रवेश को भी रोकेगा। हाथों को साबुन से धोना और दो गज की दूरी तो है ही जरूरी।

2014 के बाद भारत की राजनीति में बदलाव

Continue Reading 2014 के बाद भारत की राजनीति में बदलाव

यदि सरकारें संगठन के बलबूते बनती-बिगड़ती हैं तो राजनीति के माध्यम से समाज और व्यवस्था में सरकारी प्रयत्नों द्वारा लाये जा रहे बदलाव को गति प्रदान करने, उसे और प्रभावी तथा स्थायी बनाने में पार्टी के आम कार्यकर्ता की भी महती भूमिका हो सकती है। हमारी लोकतान्त्रिक शासन प्रणाली में इसकी व्यवस्था पूर्व से स्थापित है।

स्वर्ग से सुंदर देवभूमि उत्तराखंड

Continue Reading स्वर्ग से सुंदर देवभूमि उत्तराखंड

अतीत की गौरवशाली परंपरा और विरासत में मिली संस्कृति-संस्कार के दम पर अपने आत्मविश्वास और पराक्रम के पंख लगाकर वर्तमान राज्य सरकार भविष्य की उड़ान भरने के लिए सिद्ध हो रही है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने उम्मीद जताई है कि विकास, प्रगति, पर्यटन, पर्यावरण आदि क्षेत्रों में उत्तराखंड राज्य आदर्श वैश्विक केंद्र के रूप में स्थापित होगा।

जनता का मोदी-नीतीश पर भरोसा कायम

Continue Reading जनता का मोदी-नीतीश पर भरोसा कायम

विपक्ष को सिर्फ विरोध के लिए विरोध की प्रवृत्ति का परित्याग करना श्रेयस्कर है। जबकि, सत्ता पक्ष को बिना किसी भेदभाव सबके लिए समान रूप से काम करना चाहिए। यही बिहार की गौरवशाली राजनीतिक परंपरा भी रही है। उम्मीद है कि पक्ष-विपक्ष दोनों इस बात का विशेष ध्यान रखेंगे।

राजग की बगिया में फिर बहार

Continue Reading राजग की बगिया में फिर बहार

मनुष्य का स्वभाव है कि वह एक समय के बाद परिवर्तन चाहता है। यूं देखा जाये तो नीतीश सरकार के हिस्से में बढ़ी खामी, आलोचना या कमी नहीं थी, फिर भी एकरसता को वजह माना जा रहा था।

इस्लामिक कट्टरपंथ विश्व-मानवता के लिए ख़तरा

Continue Reading इस्लामिक कट्टरपंथ विश्व-मानवता के लिए ख़तरा

आज सचमुच इसकी महती आवश्यकता है कि इस्लाम को मानने वाले अमनपसंद लोग आगे आएं और खुलकर कहें कि सभी रास्ते एक ही ईश्वर की ओर जाते हैं, अपने-अपने विश्वासों के साथ जीने की सबको आज़ादी है और अल्लाह के नाम पर किया जाने वाला खून-ख़राबा अधार्मिक है, अपवित्र है।

End of content

No more pages to load